3.9 C
London
Saturday, February 24, 2024
Home Blog Page 3

‘मैंने कई युद्ध देखे लेकिन ये भयावह है’, डच पीएम से मुलाकात के बाद ऐसा क्यों बोले नेतन्याहू?

0

इजरायल की सेना और हमास के बीच भीषण युद्ध जारी है. इस जंग में बड़ी संख्या में देश फ़िलिस्तीन के समर्थन में आगे आए हैं. वही कुछ देश इज़रायल का भी समर्थन कर रहे है इजरायल का समर्थन करने वाले देशों में नीदरलैंड्स भी है. प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने सोमवार को येरूशलम में नीदरलैंड्स के प्रधानमंत्री मार्क रूट से मुलाकात की. 

इस दौरान इजरायली पीएम नेतन्याहू ने कहा कि नीदरलैंड्स, इजरायल का बेहतरीन दोस्त रहा है. यह युद्ध बर्बरता और सभ्यता के बीच है. हमास आईएसआईएस है और जैसे पूरी दुनिया आईएसआईएस को हराने के लिए एकजुट हुई थी. ठीक उसी तरह हमास को हराने और इजरायल के साथ खड़े होने के लिए एक बार फिर पूरी दुनिया को एकजुट होना होगा. 

यह जंग बर्बरता के खिलाफ सभ्यता की…

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि आप समझते हैं कि यह बर्बरता के खिलाफ सभ्यता की लड़ाई है. मैंने पहले भी कई युद्ध देखे हैं. मैंने भयावह से भयावह चीजें देखी हैं. लेकिन मैंने कभी इससे भयावह चीज नहीं देखी.

नेतन्याहू के इस बयान पर डच पीएम ने कहा कि मुझे यहां आकर अच्छा लगा. आप लोग जिस मुस्तैदी से जंग में डटे हुए हैं, उसके प्रति हमारा सम्मान है.  

बता दें कि इजरायल और हमास के बीच युद्ध का सोमवार को 17वां दिन है. बीते सात अक्टूबर को फिलिस्तीनी आर्म्स ग्रुप हमास ने गाजा पट्टी से रॉकेट हमलों की झड़ी लगा दी थी. ये हमले इजरायल पर किए गए थे. हमास ने हमलों की जिम्मेदारी ली और इसे इजरायल के खिलाफ सैन्य कार्रवाई बताया. हमास ने गाजा पट्टी से करीब 20 मिनट में 5,000 रॉकेट दागे थे. इतना ही नहीं, इजरायल में घुसपैठ की और कुछ सैन्य वाहनों पर कब्जा कर लिया था. इस जंग में दोनों ओर से सैंकड़ों लोगों की मौत हो गई है. 

इजरायल की तरफ से गाजा पट्टी पर लगातार बमबारी की जा रही है. वहीं, फिलिस्तीन में हमास के लड़ाके भी शांत नहीं पड़े हैं. वो इजरायल पर अभी भी तीन मोर्चे से अटैक कर रहे हैं. लेबनान, समंदर से सटे इलाके और इजिप्ट से सटे साउथ गाजा से रॉकेट और मिसाइलें दागी जा रही हैं. गुरुवार को सेंट्रल इजरायल के वेस्ट बैंक की तरफ भी रॉकेट दागे गए हैं.

सात अक्टूबर को शुरू हुए इस युद्ध के बाद अब तक सात दिनों के भीतर गाजा में 30  हजार से ज्यादा इमारतें तबाह हो गई हैं. बड़ी संख्या में अस्पतालों और स्कूलों पर इजरायल ने बमबारी की है. गाजा में अब तक मरने वालों की संख्या लगभग 4000 बताई जा रही है. इनमें 800 से अधिक बच्चे शामिल हैं. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक गाजा में तीन लाख से ज्यादा लोग घर छोड़ने को मजबूर हुए हैं.

हमास द्वारा बनाई गई बंधक ने खोली पोल, इज़रायली सेना की सच्चाई आई सामने

0

इज़रायल में 7 अक्टूबर को घटी दुखद घटनाओं की यादें अभी भी ताजा हैं, जिन्होंने कई लोगों के जीवन पर काली छाया डाल दी है। अब, नई गवाही सामने आने के साथ, स्वीकृत कथा पर सवाल उठाया जा रहा है। उस दिन से इजरायली बंधक यास्मीन पोराट ने हाल ही में एक ऐसी कहानी पर प्रकाश डाला है जो न्यूज़ चैनल पर दिखाई जा रही दावों से अलग लगती है।

एक परेशान करने वाली गवाही

यास्मीन पोराट ने एक विशेष इंटरव्यू में उन घटनाओं के बारे में बात की जो उन्होंने देखीं। भारी गोलीबारी की अराजकता और टैंक के गोले फटने की आवाज के बीच, पोरट ने एक चौंकाने वाला दावा किया: इजरायली बलों ने अपने रास्ते में किसी को भी नहीं छोड़ा। पोराट ने इज़रायली रेडियो से बातचीत के दौरान कहा, “उन्होंने बंधकों सहित सभी को मार डाला।”

उनका विवरण एक ऐसी तस्वीर पेश करता है जहां बंधकों को बचाए जाने के बजाय, उन्हें बचाने के लिए बनाई गई सेनाओं द्वारा ही की गई घातक गोलीबारी में फंस गए थे। यह घटना एक संभावित बचाव अभियान से एक दुर्भाग्यपूर्ण आपदा में बदल गई जहां दोनों पक्षों की जान चली गई।


एक आश्चर्यजनक रहस्योद्घाटन में, पोराट ने यह भी उल्लेख किया कि फिलिस्तीनी लड़ाकों ने बंधकों के साथ मानवता का व्यवहार किया। अस्थिर स्थिति के बावजूद, उन्होंने गाजा तक सुरक्षित मार्ग का संकेत देते हुए बंधकों को आशा प्रदान की।

करुणा का यह कार्य बाद की अराजकता के बिल्कुल विपरीत है जहां बंधकों ने खुद को युद्धरत गुटों के बीच फंसा हुआ पाया। फिर भी, इस रहस्योद्घाटन को व्यापक कवरेज नहीं मिला है। पोराट की गवाही “हबोकर हज़ेह” कार्यक्रम से रहस्यमय तरीके से गायब हो गई, जिससे सेंसरशिप के बारे में बड़े पैमाने पर अटकलें लगाई गईं।

डिजिटल युग के प्रहरी, सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने, कान की वेबसाइट और अन्य प्लेटफार्मों से उसके साक्षात्कार की अनुपस्थिति पर ध्यान दिया। हालाँकि गवाही को क्षण भर के लिए खामोश कर दिया गया है, लेकिन इसकी गूँज तेज़ और स्पष्ट है, जो सत्य की माँग करने वालों के साथ प्रतिध्वनित होती है।

यास्मीन पोराट द्वारा किए गए परेशान करने वाले खुलासे महत्वपूर्ण घटनाओं की जांच करते समय पारदर्शिता और निष्पक्षता के महत्व को रेखांकित करते हैं। 7 अक्टूबर की घटनाएँ दुखद थीं, जिससे दोनों तरफ के परिवार शोक में डूब गए।

फिर भी, पूर्वाग्रह या राजनीतिक चालबाजी से मुक्त होकर पूरी कहानी को समझना आवश्यक है।

ट्रेन में मुस्लिम यात्रियों की हत्या करने वाला चेतन मानसिक रूप से एकदम फिट: पुलिस चार्जशीट

0

नई दिल्ली: पुलिस चार्जशीट के अनुसार आरपीएफ कांस्टेबल चेतन सिंह चौधरी,जिसने 31 जुलाई को जयपुर-मुंबई सेंट्रल सुपरफास्ट एक्सप्रेस में अपने सर्विस हथियार से अपने वरिष्ठ अधिकारी सहित चार मुस्लिम यात्रियों की गोली मारकर हत्या कर दी थी, वह मानसिक रूप से स्थिर हैं और उसे पता था कि वह क्या कर रहा है मामले में सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) द्वार यह चार्जशीट दायर की गई है।


आरोपपत्र में, जो 1,000 पृष्ठों से अधिक लंबा है और मुंबई उपनगरों में एक स्थानीय अदालत के समक्ष दायर किया गया है, जीआरपी ने कहा कि उसने इस निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले 150 से अधिक गवाहों की गवाही पर भरोसा किया।

जीआरपी अधिकारियों के अनुसार, उन्होंने आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत बोरीवली मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अदालत के समक्ष ऐसे तीन गवाहों के बयान दर्ज किए।

गवाहों की गवाही के अलावा, जांचकर्ताओं ने ट्रेन के अंदर के सीसीटीवी फुटेज पर भी भरोसा किया, जहां आतंकी चेतन सिंह हत्या करने के लिए मुस्लिम यात्रियों की तलाश में डिब्बों के बीच घूमते हुए दिखाई दे रहा हैं।

महाराष्ट्र में पालघर स्टेशन पार करने के बाद मुंबई-जयपुर सुपरफास्ट एक्सप्रेस में आरपीएफ जवान द्वारा की गई गोलीबारी में रेलवे सुरक्षा बल के एक सहायक उप-निरीक्षक (एएसआई) सहित चार मुस्लिम यात्रियों की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

घटना का विवरण साझा करते हुए, पश्चिम रेलवे के मुख्य पीआरओ, सुमित ठाकुर ने पहले कहा, “जयपुर-मुंबई सुपरफास्ट एक्सप्रेस में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में, एक पुलिस कांस्टेबल ने अपने सहयोगी एस्कॉर्ट प्रभारी एएसआई टीका राम को गोली मार दी। इसका कारण स्थापित नहीं है। अभी तक। अफसोस है कि एएसआई टीका राम और तीन अन्य नागरिकों की मौत हो गई। कांस्टेबल को आरपीएफ/भयंदर ने गिरफ्तार कर लिया।”

उन्होंने कहा, “वह (आरपीएफ कांस्टेबल, चेतन कुमार) अच्छा महसूस नहीं कर रहा था और अपना धैर्य खो बैठा था। कोई बहस नहीं हुई।”

आरपीएफ ने पहले एक बयान में कहा था कि, ट्रेन बीवीआई पहुंच गई है और अग्रिम सूचना के अनुसार, एएसआई के अलावा 3 नागरिकों के हताहत होने की भी सूचना है।

पश्चिम रेलवे ने कहा कि मुंबई ट्रेन फायरिंग घटना की व्यापक जांच करने के लिए रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के अतिरिक्त निदेशक जीटेरल की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया था।

मोहम्मद शमी ने वर्ल्ड कप 2023 पहले ही मैच में चलाया अपना जादू, पांच विकेट लेकर 5 धांसू रिकॉर्ड किए अपने नाम।

0

भारत के धाकड़ तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 के अपने पहले मैच में छा गए। उन्होंने रविवार को धर्मशाला के मैदान पर न्यूजीलैंड के खिलाफ कातिलाना गेंदबाजी की और पंजा मारा।

शमी ने 10 ओवर में 54 रन खर्च करने के बाद 5 विकेट चटकाए। उन्होंने डिरिल मिचेल (130), रचिन रविंद्र (75), विल यंग (17), मिशेल सेंटनर (1) और मैट हनरी (0) का शिकार किया। शमी की बेहतरीन बॉलिंग की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को 273 रन पर ढेर कर दिया। शमी ने पांच विकेट हॉल लेकर रिकॉर्ड्स की झड़ी लगा दी है। चलिए, आपको उनके पांच धांसू रिकॉर्ड के बारे में बताते हैं।

शमी वर्ल्ड कप में भारत के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में तीसरे स्थान पर पहुंच गए हैं। उन्होंने पूर्व दिग्गज स्पिनर अनिल कुंबले को पछाड़ा है। शमी अब तक 36 विकेट ले चुके हैं जबकि कुंबले ने 31 शिकार किए। उनके बाद जसप्रीत बुमराह (29) और पूर्व कप्तान कपिल देव है। टॉप पर पूर्व तेज गेंदबाज जहरीन खान (44) और जवागल श्रीनाथ (44) हैं। शमी इसके अलावा वर्ल्ड कप में 12 पारियों के बाद सर्वाधिक विकेट लेने वाले बॉलर बन गए हैं। वह 36 विकेट के साथ शीर्ष पर हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के पेसर मिशेल स्टार्क का रिकॉर्ड तोड़ा है, जिन्होंने 29 विकेट चटकाए हैं। श्रीलंका के पूर्व पेसर लसिथ मलिंगा (26) तीसरे नंबर पर हैं।

शमी वर्ल्ड कप इतिहास में दो बार पांच विकेट हॉल लेने वाले इकलौते भारतीय गेंदबाज बन गए हैं। उन्होंने न्यूजीलैंड से पहले वर्ल्ड कप 2019 में इंग्लैंड के खिलाफ फाइफर लिया। शमी वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा बार चार से अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की फेहरिस्त में संयुक्त रूप से दूसरे पायदान पर आ गए हैं। शमी और साउथ अफ्रीका के स्पिनर इमरान ताहिर ने पांच-पांच पर यह कारनामा किया है। स्टार्क ने ऐसा 6 मर्तबा किया है। शमी ने वनडे में भारत के लिए सबसे ज्यादा बार फाइफर लेने के मामले में हरभजन सिंह और जवागल श्रीनाथ की बराबरी कर ली है। तीनों ने पांच-पांच बार यह कमाल किया है।

By Ahsan Ali

हमास ने इज़रायली सैनिकों पर बोला धावा, टैंक छोड़कर भागे इज़रायली सैनिक

0

इस्लामिक प्रतिरोध आंदोलन (हमास) की सैन्य शाखा इज़ अल-दीन अल-क़सम ब्रिगेड ने बयान जारी कर कहा है कि हमारा मुक़ाबला इज़रायली सेना की टुकड़ी से हुआ है जिसमें उन्हींने घात लगाकर हमला करने की कौशिस की लेकिन हमारे लड़ाको ने उन्हें मार भगाया है।

हमास ने कहा की कई मीटर तक बाड़ पार करने के बाद खान यूनिस के पूर्व में एक बख्तरबंद इज़रायली सेना की टुकड़ी ने हम पर कसकर हमला कर दिया।

हमास के मुजाहिदीनो ने घुसपैठ करने वाली इज़रायली सेना पर धावा बोल दिया दो बुलडोजर और एक टैंक को नष्ट कर दिया और दुश्मन को पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिया।

मुजाहिदीन ने पुष्टि की है कि खान यूनिस पर घात लगाकर किए गए ज़ायोनी बल के सैनिक अपने वाहन छोड़कर पैदल ही बाड़ के पूर्व की ओर भाग गए

इज़रायली मीडिया ने की पुष्टि किसुफिम के पास झड़प में 4 इज़रायली सैनिक घायल हो गए

इज़रायली सेना ने कहा कि फ़िलिस्तीनी बंदूकधारियों ने खान यूनिस के पूर्व में किसुफिम क्षेत्र में गाजा पट्टी सीमा बाड़ के पश्चिम में उसकी सेना पर गोलीबारी की।

इज़रायली सेना ने कहा कि उसके एक टैंक ने हमास के उस समूह पर हमला किया जिसने किसुफिम में उसके सैनिकों पर गलिया चलाई थी।

अपनी ओर से, इज़राइली मीडिया ने बताया कि किसुफिम के पास हुई झड़पों में 4 सैनिक घायल हो गए, जिनमें से एक गंभीर रूप से घायल हो गया।

आपको बता दे हमास की क़सम ब्रिगेड ने दावा किया है कि उन्होंने गाजा में सीमा बाड़ को पार करने के बाद एक इजरायली सेना टुकड़ी पर घात लगाकर हमला किया था।

मुस्लिम दुकानदारों का बहिष्कार करने की अपील करने वाला वीएचपी नेता पर मामला दर्ज

0

मंगलुरु के मंगलादेवी मंदिर में हिंदू दुकानदारों द्वारा संचालित दुकानों पर भगवा झंडा लगाने और मुस्लिम दुकानदारों का बहिष्कार करने के आरोप में मंगलुरु शहर पुलिस ने गुरुवार को विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के प्रांतीय संयुक्त सचिव शरण पंपवेल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

मंगलुरु दक्षिण पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने हिंदू समुदाय के लोगो से मुस्लिम दुकानदारों द्वारा संचालित दुकानों से सामान न खरीदने और मंगलादेवी मंदिर परिसर में सिर्फ़ भगवा झंडे वाली दुकानों से खरीदारी करने का आग्रह करने के लिए पंपवेल और अन्य वीएचपी कार्यकर्ताओं पर मामला दर्ज किया है।

अधिकारियों के अनुसार, मंगलादेवी मंदिर समिति, जो 15 अक्टूबर से 24 अक्टूबर तक दशहरा उत्सव मेलों का आयोजन कर रही है, ने नीलामी के माध्यम से केवल हिंदू समुदाय के विक्रेताओं को दुकानें आवंटित की थीं, और मुस्लिम व्यापारियों को इससे वंचित कर दिया था।

इसके बाद, मुस्लिम समुदाय के व्यापारियों, डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) और समान विचारधारा वाले संगठनों के मंच ने मंदिर निकाय के इस कदम का विरोध किया था और इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। बाद में, मंदिर समिति कुछ मुस्लिम विक्रेताओं को दुकानें आवंटित करने पर सहमत हुई।

दिग्गज टेक कंपनी के सीईओ ने इज़रायल पर “अंतर्राष्ट्रीय युद्ध अपराध” के आरोप लगाने के बाद दिया इस्तीफ़ा, फ़ेसबुक-गूगल ने किया मजबूर

एक प्रमुख टेक कॉन्फ़्रेस कंपनी के सीईओ ने इज़राइल पर “युद्ध अपराध” करने और अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करने का आरोप लगाने वाले सार्वजनिक बयानों पर प्रतिक्रिया की लहर के बाद पद छोड़ दिया है।

पुर्तगाल के लिस्बन में हजारों प्रमुख तकनीकी स्टार्टअप और फर्मों को एक साथ लाने वाले यूरोपीय तकनीकी सम्मेलन वेब समिट के सह-संस्थापक पैडी कॉसग्रेव ने प्रायोजकों और उपस्थित लोगों से झटका मिलने के बाद शनिवार को इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि उनके व्यक्तिगत विचार “घटना से ध्यान भटकाने वाले” बन गए थे और उन्होंने इससे हुई “किसी भी चोट” के लिए माफी मांगी।

2009 में वेब समिट की स्थापना करने वाले एक आयरिश उद्यमी पैडी कॉसग्रेव ने गाजा में इजरायल के चल रहे बमबारी अभियान पर अपना पक्ष रखने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स, जिसे पहले ट्विटर के नाम से जाना जाता था, का सहारा लिया, आपको बता दें गाजा में अब तक लगभग 4,400 से अधिक फिलिस्तीनी मारे गए हैं। जिसमें ज़्यादातर नागरिक है और बमबारी ने शहर के अधिकांश बुनियादी ढाँचे को नष्ट कर दिया है।

कॉसग्रेव ने 13 अक्टूबर को अपने पोस्ट में कहा, “मैं कई पश्चिमी नेताओं और सरकारों की बयानबाजी और कार्यों से हैरान हूं, विशेष रूप से आयरलैंड की सरकार को छोड़कर, जो पहली बार सही काम कर रहे हैं।” युद्ध अपराध भले ही सहयोगियों द्वारा किए गए हों, और उन्हें उनके वास्तविक स्वरूप के लिए उजागर किया जाना चाहिए।”

सोशल मीडिया पर टेक कम्पनियो द्वारा भारी विरोध और समिट का बहिष्कार के दो दिन बाद, कॉसग्रेव ने अपने ट्वीट को अपडेट करते हुए 7 अक्टूबर को इज़राइल पर हमास के हमले की भी निंदा की ।

उन्होंने कहा: “इज़राइल को अपनी रक्षा करने का अधिकार है, लेकिन जैसा कि मैंने पहले ही कहा है, उसे अंतरराष्ट्रीय कानून तोड़ने का अधिकार नहीं है।”

कंपनी को हो रहे भारी नुक़सान के बाद कंपनी के सीईओ पैडी कॉस्ग्रेव ने इस्तीफ़ा देने का एलान कर दिया है क्यों की गाजा के लोगो का समर्थन करने और इज़रायल पर अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकारों का उलंघन का आरोप लगाने के बाद फ़ेसबुक,गूगल जैसी दिग्गज कम्पनियो ने उनकी कंपनी का बहिष्कार करने का एलान कर दिया था।

इज़रायल की मदद करने पर ईराक़ रेज़िटेंस फ़ोर्स ने 2 अमेरिकी सैन्य अड्डों पर किया हमला

0

आतंकवाद विरोधी लड़ाकों के एक समूह इस्लामिक रेसिस्टेंस इन इराक का कहना है कि उसने अरब देश में अमेरिका के कब्जे वाले दो ठिकानों पर हमले किए हैं।

शनिवार को जारी एक बयान में, समूह ने पश्चिमी इराकी प्रांत अल-अनबर में अमेरिका द्वारा संचालित ऐन अल-असद एयरबेस के खिलाफ ड्रोन हमले की जिम्मेदारी ली।

इसमें कहा गया कि अबाबिल-2टी मानव रहित हवाई वाहन ने ऑपरेशन के दौरान “सीधे अपने लक्ष्य पर हमला किया”।

बाद में दिन में, प्रतिरोध समूह ने घोषणा की कि उसने दो ड्रोनों से अमेरिकी सैनिकों के आवास वाले अल-हरिर एयरबेस को निशाना बनाया था।

यह बेस इराक के अर्ध-स्वायत्त कुर्दिस्तान क्षेत्र में एरबिल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास स्थित है।

पिछले तीन दिनों में इराक में अमेरिका द्वारा संचालित सुविधाओं के खिलाफ शनिवार की कार्रवाई चौथी और पांचवीं थी।

वे इराकी प्रतिरोध गुटों द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका को इज़रायल के सेनिको से घिरे गाजा पट्टी में फिलिस्तीनियों के खिलाफ इजरायली युद्ध अपराधों में अमेरिका द्वारा मदद और समर्थन के खिलाफ चेतावनी देने के बाद यह हमले किए गये है।

इराक के कताइब हिजबुल्लाह ने धमकी दी कि अगर अमेरिका चल रहे गाजा युद्ध में हस्तक्षेप करेगा तो वह इराक और पूरे क्षेत्र में अमेरिकी ठिकानों को निशाना बनाएगा।

फिलिस्तीनी प्रतिरोध समूह हमास द्वारा अवैध क़ब्ज़ाधारी इज़रायल के खिलाफ आश्चर्यजनक ऑपरेशन अल-अक्सा स्टॉर्म शुरू करने के बाद इज़राइल ने 7 अक्टूबर को गाजा पर युद्ध शुरू किया है।

इजरायल ने अपने लगातार हवाई हमलों में 1,756 बच्चों सहित कम से कम 4,385 फिलिस्तीनियों को मार डाला है और 13,561 अन्य को घायल कर दिया है।

इज़राइल ने गाजा में पानी, भोजन और बिजली भी रोक दी है, जिससे तटीय क्षेत्र मानवीय संकट में पड़ गया है।

इज़रायल-फ़िलिस्तीन युद्ध के बीच अमेरिका के बाद चीन का जवाब हमारे भी 6 युद्ध पोत अरब सागर में मौजूद है

0

चीनी रक्षा मंत्रालय के अनुसार, गाजा पट्टी में इज़राइल और हमास समूह के बीच युद्ध के बीच, पिछले सप्ताह में छह चीनी युद्धपोत मध्य पूर्व में काम कर रहे हैं।

चीनी रक्षा मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, 44वीं नौसेना एस्कॉर्ट टास्क फोर्स मई से इस क्षेत्र में नियमित संचालन में है। पिछले हफ्ते, उन्होंने ओमान की यात्रा के दौरान ओमानी नौसेना के साथ एक संयुक्त अभ्यास भी किया था।

ओमान की अपनी यात्रा के सफल समापन के बाद, चीनी नौसैनिक एस्कॉर्ट टास्क फोर्स 18 अक्टूबर की सुबह निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कुवैत के शुवैख बंदरगाह पर पहुंची। चीनी समुद्री समूह कुवैत की पांच दिवसीय सद्भावना यात्रा पर रवाना हुआ।

“कुवैती नौसैनिक गश्ती जहाज फेलाका द्वारा निर्देशित, चीनी टास्क फोर्स के युद्धपोत, जिनमें जहाज ज़िबो, जहाज जिंगझोउ और जहाज कियानदाओहू शामिल हैं, सुबह लगभग 9:00 बजे कुवैत के शुवाइख बंदरगाह पर पहुंचे। चीनी रक्षा मंत्रालय ने कहा, कुवैती सेना के प्रतिनिधियों, कुवैत में चीनी दूतावास के कर्मचारियों और विदेशी चीनी सहित 200 से अधिक लोगों ने उनका स्वागत किया।

टास्क फोर्स पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ईस्टर्न थिएटर से है और इसमें ज़िबो, एक टाइप 052डी गाइडेड-मिसाइल विध्वंसक, फ्रिगेट जिंगझोउ और एकीकृत आपूर्ति जहाज कियानदाओहू शामिल हैं।

छह महीने पहले सोमालिया के उत्तर में अदन की खाड़ी में पहुंचने के बाद, टास्क फोर्स मुख्य रूप से शिपिंग मिशनों को आगे बढ़ा रही है। हालाँकि, SCMP के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में, इसने अपनी ज़िम्मेदारियाँ 45वीं एस्कॉर्ट टास्क फोर्स को सौंप दी थीं।

पीएलए के उत्तरी थिएटर की कमान के तहत, नए काफिले में उरुमकी, एक अन्य प्रकार 052 विध्वंसक, फ्रिगेट लिनी और आपूर्ति जहाज डोंगपिंगु शामिल हैं।

लिनी को इस महीने की शुरुआत में एक पनामा के मालवाहक जहाज को एक अज्ञात स्थान पर ले जाने के अपने पहले मिशन में भाग लेने के लिए जाना जाता था।

इस बीच, इस दौरे ने जनवरी 2020 में अपने कमीशनिंग के बाद से विध्वंसक ज़िबो के पहले एस्कॉर्ट मिशन को चिह्नित किया, जबकि 2018 की शुरुआत में कमीशन किया गया उरुमकी दो साल पहले अदन की खाड़ी में एक अन्य एस्कॉर्ट मिशन में शामिल हुआ था।

क्षेत्र में चीन और अमेरिका की नौसेना उपस्थिति

जैसे-जैसे क्षेत्र में तनाव बढ़ता गया, मध्य पूर्वी जल में छह चीनी जहाजों का संचालन तेजी से महत्वपूर्ण हो गया। इस क्षेत्र में चीनी युद्धपोतों की खबरें तब आती हैं जब संयुक्त राज्य अमेरिका वहां अपनी उपस्थिति बढ़ा रहा है।

7 अक्टूबर को इज़राइल पर हमास के हमले के बाद, संयुक्त राज्य अमेरिका ने अपने सबसे उन्नत वाहक, यूएसएस गेराल्ड आर. फोर्ड और उससे जुड़े युद्ध समूह को पूर्वी भूमध्य सागर में भेजा। ड्वाइट डी. आइजनहावर कैरियर स्ट्राइक ग्रुप इस क्षेत्र के रास्ते में है।

पेंटागन ने हाल ही में पूर्वी भूमध्य सागर में एक अतिरिक्त कमांड जहाज, यूएसएस माउंट व्हिटनी की तैनाती की घोषणा की।

19 अक्टूबर को, यूएसएस कार्नी (डीडीजी 64), एक आर्ले बर्क-श्रेणी निर्देशित मिसाइल विध्वंसक, ने लाल सागर में कई हौथी मिसाइलों और मानव रहित हवाई वाहनों को सफलतापूर्वक रोका और निष्क्रिय कर दिया।

संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा हौथी प्रक्षेपणों को रोकना असाधारण रूप से असामान्य है, जो इस घटना के महत्व को बढ़ाता है, विशेष रूप से इज़राइल में बढ़ते तनाव को देखते हुए।

विशेष रूप से, अक्टूबर 2016 में, यूएसएस मेसन ने लाल सागर में एक हमले के प्रयास को विफल करने के लिए जवाबी उपाय किए, जो नौसेना के विध्वंसक और आसपास के अन्य जहाजों को निशाना बना रहा था। उस घटना के जवाब में, संयुक्त राज्य अमेरिका ने यमन में हौथी रडार सुविधाओं पर समुद्र से प्रक्षेपित क्रूज मिसाइलें लॉन्च कीं।

फिर भी, चीनी और अमेरिकी दोनों युद्धपोतों की उपस्थिति इस क्षेत्र में इन दो वैश्विक शक्तियों की भागीदारी का स्पष्ट संकेत है।

यह घटनाक्रम तब हुआ है जब यूक्रेन संघर्ष के कारण दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है, चीन ने खुद को रूस के साथ जोड़ लिया है।

फिर भी, इस क्षेत्र में इन दोनों नौसेनाओं के सीधे एक-दूसरे से भिड़ने की संभावना अपेक्षाकृत कम है, जैसा कि वे कभी-कभी प्रशांत क्षेत्र में करते हैं। चीनी नौसेना कार्य समूह कुवैत की पांच दिवसीय सद्भावना यात्रा में लगा हुआ है।

चीनी टास्क फोर्स के कमांडर ने कहा, “इस साल चीन-कुवैत रणनीतिक साझेदारी की स्थापना की 5वीं वर्षगांठ और बेल्ट एंड रोड पहल की 10वीं वर्षगांठ भी है। आशा है कि यह यात्रा आपसी समझ और विश्वास को बढ़ावा देने में मदद करेगी और दोनों देशों और सेनाओं के बीच आदान-प्रदान और सहयोग को बढ़ावा देगी।”

चीनी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि पूरी यात्रा के दौरान, दोनों पक्ष आपसी कॉल, दौरे, डेक रिसेप्शन, सैन्य आदान-प्रदान और सांस्कृतिक और खेल गतिविधियों में शामिल होंगे।

इज़राइल ने सीरिया के अलेप्पो और दमिश्क अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों पर किया हमला किया

0

सीरियाई राज्य संचालित समाचार एजेंसी SANA का कहना है कि इज़राइल ने आज सुबह अलेप्पो और दमिश्क हवाई अड्डों पर हवाई हमले किए, जिससे रनवे क्षतिग्रस्त हो गए और उन दोनों को सेवा से बाहर कर दिया गया।

SANA का कहना है कि दमिश्क हमले में एक नागरिक कार्यकर्ता मारा गया और एक अन्य घायल हो गया।

अलेप्पो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को कथित तौर पर 14 अक्टूबर और 12 अक्टूबर को इज़राइल द्वारा निशाना बनाया गया था, जबकि दमिश्क अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को कथित तौर पर 12 तारीख को ही निशाना बनाया गया था।

दोनों हवाई अड्डों पर पिछले वर्ष में कई बार हमले हुए हैं, क्योंकि माना जाता है कि इज़राइल ईरान से अपने विभिन्न मध्य पूर्व प्रॉक्सी, जिनमें लेबनान का हिजबुल्लाह समूह प्रमुख है, को उन्नत हथियारों के शिपमेंट को रोकने के प्रयास बढ़ा रहा है।

इजरायली हवाई हमले ने वेस्ट बैंक को निशाना बनाया

फिलिस्तीनी चिकित्सकों ने कहा है कि रविवार तड़के कब्जे वाले वेस्ट बैंक में जेनिन शरणार्थी शिविर पर इजरायली हवाई हमले में दो फिलिस्तीनी चिकित्सा कर्मचारियों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।