13.5 C
London
Saturday, May 18, 2024
Home Blog

इलेक्टोरल बॉन्ड पर सुप्रीम कोर्ट की SBI को फटकार कहा- ’21 मार्च तक हलफनामा दें कि कुछ नहीं छुपाया’ चुनावी बॉन्ड पर’

0

Electoral Bonds: सुप्रीम कोर्ट में चुनावी बांड को लेकर सुनावई शुरू हो चुकी है. सुनावई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से कहा कि आप ने चुनावी बांड की आधी-अधूरी जानकारी क्यों दी।

सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश डी.वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि आपको चुनावी बांड के यूनीक नंबर जारी करने होंगे और साथ ही आपको एक हलफनामा भी दायर करना होगा कि आपने चुनावी बांड को लेकर अब कोई जानकारी नहीं छुपाई.

बता दें कि प्रत्येक चुनावी बांड पर एक यूनीक नंबर दर्ज होता है. इस यूनीक नंबर से ही पता चलेगा कि किस दाता ने किस पार्टी को चंदा दिया.

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा, SBI से सभी विवरण का खुलासा करने को कहा गया था और इसमें इलेक्टोरल बॉन्ड की संख्या भी शामिल थी. कोर्ट ने आगे कहा कि आपको विवरण का खुलासा करने में चयनात्मक नहीं होना चाहिए. हम चाहते हैं कि आपके पास इलेक्टोरल बॉन्ड से जुड़ी जो भी जानकारी है वे सारी जानकारी सार्वजनिक की जाए.

‘हमारी छवि खराब करने की हो रही कोशिश’

इसके जवाब में SBI ने कहा कि चुनावी बांड को लेकर हमारी छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है. हम प्रत्येक जानकारी देने को तैयार है. एसबीआई ने कहा कि वह बैंक के पास मौजूद सारी जानकारी को साझा करेगा और कोई भी जानकारी को नहीं छुपाएगा.

मुख्य पार्टियों ने डोनर का खुलासा नहीं किया- प्रशांत भूषण

वहीं सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता Association for Democratic Reforms (ADR) की ओर से पेश हुए वकील प्रशांत भूषण ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि मुख्य राजनीतिक दलों ने दाताओं के नामों का खुलासा नहीं किया है. मेरी प्रार्थना है कि शुरू से लेकर पूरा डाटा सार्वजनिक किया जाए. इस पर सीजेआई ने कहा कि हमने आपका पक्ष जान लिया है आपने इसको लेकर आवेदन किया है.

योजना का उद्देश्य काले धन पर अंकुश लगाना था- सॉलिसिटर जनरल

वहीं केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि योजना का अंतिम उद्देश्य काले धन पर अंकुश लगाना था और शीर्ष अदालत को पता होना चाहिए कि इस फैसले को अदालत के बाहर कैसे खेला जा रहा है. उन्होंने आगे कहा कि अब विच हंटिंग केंद्र सरकार के स्तर पर नहीं बल्कि दूसरे स्तर पर शुरू हो गई है. अदालत के समक्ष मौजूद लोगों ने प्रेस इंटरव्यू देना शुरू कर दिया और जानबूझकर अदालत को शर्मिंदा करना शुरू कर दिया. सॉलिसिटर जनरल ने आगे कहा कि शर्मिंदगी पैदा करने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर कई पोस्ट किए जा रहे हैं.

गुरुवार 5 बजे तक हलफनामा दें’

दोनों पक्षों को सुनने के बाद अंत में सुप्रीम कोर्ट ने एसबीआई के चेयरमैन को आदेश दिया कि वो गुरुवार शाम 5 बजे तक हलफनामा दाखिल करें कि बैंक के पास चुनावी बांड को लेकर जो भी जानकारी थी वह सब उसने चुनाव आयोग को दे दी है और अब उसके पास छुपाने के लिए कुछ भी नहीं है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा कि वह एसबीआई से डाटा मिलने के तुरंत बाद उसे वेबसाइट पर अपलोड करेगा.

By Ahsan Ali

राम के गेटअप में अयोध्या जा रहे लोगों पर प्रकाश राज ने किया कमेंट…. लोगों ने बताया एंटी हिंदू

0

एक्टर प्रकाश राज अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहते हैं। अब उनके लेटेस्ट ट्वीट ने लोगों का ध्यान खींचा है। प्रकाश ने अहमदाबाद से अयोध्या जा रही पहली फ्लाइट के पैसेंजर को देखकर हैरानी जताई है।

उन्होंने कमेंट किया जिसके बाद लोग उनको ट्रोल करके ऐंटी-हिंदू बोल रहे हैं। दरअसल लोग जर्नी के लिए राम, लक्ष्मण की तरह तैयार होकर आए थे।

प्रकाश राज हुए हैरान

राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा समारोह की देशभर में तैयारी चल रही है। अब अहमदाबाद से अयोध्या के लिए पहली फ्लाइट रवाना हुई तो पैसेंजर्स में काफी उत्साह दिखा। एयरपोर्ट में लोग राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान के गेटअप में पहुंचे तो हर कोई हैरान था। वहां जय श्रीराम के नारे भी लगाए गए। वहां के वीडियो को ट्वीट करके प्रकाश राज ने लिखा है, हम जा कहां रहे हैं…#JustAsking

कमेंट पर मिले ये रिएक्शंस

प्रकाश राज के इस सवाल पर कई तरह के कमेंट्स हैं। एक ने लिखा है, गुफाओं की तरफ वापसी। एक ने लिखा है, ऐंटी-हिंदुइज्म के अंत की तरफ। एक कमेंट है, हमारे बारे में भू जाओ, 2024 में मोदी के आने के बाद तुम कहां जाओगे। एक कमेंट है, बीते साल लोगों ने सैंटा क्लॉज के कपड़े पहनकर क्रिसमस मनाया था। एयरपोर्ट, मॉल, स्कूल हर जगह सजावट थी। उस समय तुमको दिक्कत नहीं थी। अब लोग श्रीराम का कॉस्ट्यूम पहने हैं तो अचानक तुम लोगों को लगने लगा कि हम कहां जा रहे हैं…दोगलापन। एक ने लिखा है, मुझे लगता है कि हिंदुओ से नफरत करना और हमारी भावनाओं का अपमान करना बहुत आसान है और अगर तुम्हारे अंदर हिम्मत है तो दूसरों के साथ ऐसा करके पूछो कि हम कहां जा रहे हैं।

जरूरत पड़ी तो हजार बार उपराष्ट्रपति की मिमिक्री करूंगा, कल्याण बनर्जी ने फिर की मिमिक्री

तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ की एक बार फिर मिमिक्री की है। टीएमसी सांसद ने रविवार को कहा कि कला के रूप में वह उप राष्ट्रपति की मिमिक्री करना जारी रखेंगे।

वह इसे हजार बार करेंगे क्योंकि ऐसा करना उनके मौलिक अधिकारों में शामिल है। उन्होंने कहा, ‘मैं इसे करना जारी रखूंगा। मिमिक्री कला का एक रूप है। जरूरत पड़ी तो मैं इसे हजार बार करूंगा। मेरे पास मौलिक अधिकार हैं जिनके जरिए मैं अपने विचारों को प्रकट कर सकता हूं।’

मिमिक्री को बताया मामूली बात

पश्चिम बंगाल के श्रीरामपुर में एक कार्यक्रम के दौरान बनर्जी ने एक ‘मामूली सी बात’ पर बिगड़ने के लिए धनखड़ की आलोचना की। बता दें कि सांसदों के निलंबन के खिलाफ गत सोमवार को विपक्ष के सांसद,संसद भवन के प्रवेश द्वार पर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, इस दौरान कल्याण बनर्जी ने उप राष्ट्रपति की कार्यशैली की नकल करते हुए उनकी मिमिक्री की। जबकि राहुल गांधी ने उनकी इस मिमिक्री को अपने फोन से शूट किया।

18 दिसंबर को संसद परिसर में की मिमिक्री

बाद में जगदीप धनखड़ ने बयान जारी कर कहा कि वह संसद और उपराष्ट्रपति पद का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते। उन्होंने संसद परिसर में एक टीएमसी सांसद द्वारा उनकी नकल करने और एक कांग्रेस सांसद के इसे रिकॉर्ड करने पर गहरा दुख जताया। इस घटना पर ममता बनर्जी ने कहा कि वह और उनकी पार्टी सभी का सम्मान करती है। ममता ने कहा कि यह मामला इसलिए तूल पकड़ा क्योंकि राहुल गांधी ने मिमिक्री को अपने फोन में शूट किया।

साक्षी मलिक की संन्यास पर क्यों नहीं बोले धनखड़’

धनखड़ के इस बयान पर कि मिमिक्री से किसान समुदाय का अपमान हुआ है, बनर्जी ने कहा कि ‘धनखड़ की जोधपुर में करोड़ों रुपए की जायदाद है और दिल्ली में फ्लैट है। वह लाखों रुपए की कीमत के कपड़े पहनते हैं।’ बनर्जी ने साक्षी मलिक के संन्यास की घोषणा एवं बजरंग पूनिया द्वारा पद्मश्री लौटाए जाने पर धनखड़ की चुप्पी पर सवाल उठाए। संसद की सुरक्षा में सेंध पर टीएमसी सांसद ने कहा कि भाजपा के एक सांसद ने दो लोगों को पास जारी किया और उसे बचाने के लिए विपक्ष के 146 सांसदों को निलंबित कर दिया गया।

By Ahsan Ali

फिल्म सालार ने दूसरे दिन बॉक्स ऑफिस पर मचाया तूफान, कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़े।

प्रभास स्टारर फिल्म सालार को दर्शकों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है। शुक्रवार को यह फिल्म दुनिया भर के सिनेमाघरों में रिलीज हुई। फिल्म ने रिलीज होते ही कमाई के मामले में कई रिकॉर्ड तोड़ दिए।

रिलीज के पहले दिन फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर करीब 80 करोड़ रुपये की शानदार ओपनिंग की. प्रभास की फिल्म सालार एक दिन पहले रिलीज हुई शाहरुख खान स्टारर गधेडा को कड़ी टक्कर दे रही है। रिलीज के दूसरे दिन सालार के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन में उछाल आया है। फिल्म को वीकेंड पर अच्छा मुनाफा मिल रहा है। साउथ सुपरस्टार प्रभास स्टारर सालार एक फुल एक्शन पैक्ड फिल्म है जिसे देशभर के सिनेमाघरों में दर्शकों का भरपूर प्यार मिल रहा है।

प्रभास की फिल्म सालार का दूसरे दिन का बॉक्स ऑफिस कलेक्शन

सालार की धमाकेदार ओपनिंग ने बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा दिया है। फिल्म रिलीज होते ही बड़ी संख्या में लोग फिल्म देखने के लिए अपने नजदीकी सिनेमाघरों में पहुंच रहे हैं. रिलीज के पहले दिन यह शो देश के कई सिनेमाघरों में हाउसफुल रहा। ओपनिंग डे की तरह फिल्म ने दूसरे दिन भी कमाई का सिलसिला जारी रखा. दूसरे दिन की कमाई की बात करें तो सालार ने दुनिया भर में करीब 180-200 करोड़ रुपये की कमाई की है. बाहुबली और बाहुबली 2 के बाद सालार भी प्रभास की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों की लिस्ट में शामिल हो सकती है। सालार का निर्देशन प्रशांत नील ने किया है। फिल्म में प्रभास के अलावा श्रुति हासन, पृथ्वीराज सुकुमारन, जगपति बाबू और टीनू आनंद जैसे सितारे भी अहम भूमिकाओं में नजर आएंगे।

Salaar Advance Booking

एडवांस बुकिंग के मामले में प्रभास की सालार ने शाहरुख को भी पीछे छोड़ दिया है। इतना ही नहीं, सालार इस साल अमेरिका में सबसे ज्यादा एडवांस बुकिंग वाली भारतीय फिल्म बन गई है। फिल्म ने भारत में एडवांस बुकिंग के जरिए 49 करोड़ रुपये की शानदार कमाई की है। कमाई का यह आंकड़ा बॉक्स ऑफिस पर एक दिन पहले रिलीज हुई शाहरुख स्टारर गधेदा की ओपनिंग कलेक्शन से भी ज्यादा है।

By Ahsan Ali

साक्षी मलिक ने कुश्ती से लिया संन्यास, रोते हुए जूते उतारकर टेबल पर रखे

0

साक्षी ने कहा: अगर बृजभूषण जैसा ही अध्यक्ष बनता है तो मैं कुश्ती छोड़ती हूं

नई दिल्ली। संजय कुमार सिंह भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के नए अध्यक्ष चुने गए हैं। वह लम्बे समय तक महासंघ पर राज करने वाले बृजभूषण शरण सिंह के करीबी हैं।

गुरुवार को हुए मतदान में संजय सिंह को कुल 47 में से 40 मत प्राप्त हुए। उनका मुकाबला अनीता श्योराण से था। सिंह इससे पहले संयुक्त सचिव थे। चुनाव परिणाम सामने आने के बाद गुरुवार को महिला पहलवान साक्षी मलिक ने कुश्ती से संन्यास ले लिया है।

पहलवान साक्षी मलिक ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हम 40 दिनों तक सड़कों पर सोए और देश के कई हिस्सों से बहुत सारे लोग हमारा समर्थन करने आए। अगर बृज भूषण शरण सिंह के बिजनेस पार्टनर और करीबी सहयोगी को कुश्ती संघ का अध्यक्ष चुना जाता है, तो मैं कुश्ती छोड़ती हूं। हमारा समर्थन करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद। लड़ाई पूरे दिल से लड़ी। अगर अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह जैसा आदमी ही रहता है तो मैं अपनी कुश्ती को त्यागती हूं।

लगता है पीढ़ियां न्याय के लिए लड़ती रहेंगी: बजरंग

वहीं रेसलर बजरंग पूनिया ने कहा कि खेल मंत्री ने ऑन रिकॉर्ड कहा था कि बृजभूषण से जुड़े किसी भी व्यक्ति को फैडरेशन का अध्यक्ष नहीं बनाया जाएगा। लेकिन लगता है कि यहां बेटियों को न्याय नहीं मिलेगा। लगता है पीढ़ियां न्याय के लड़ती रहेंगीं। सरकार ने जो वादा किया किया था वो पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है कि वह हमारे साथ न्याय करेगी। साक्षी के संन्यास लेने के बाद विनेश फोगाट भी भावुक हो गई और संवाददाता सम्मेलन में ही रोने लगी।

बृजभूषण और विवाद

उल्लेखनीय है कि बृज भूषण शरण सिंह 12 साल से लगातार कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बने हुए थे। इस साल की शुरुआत में ही महिला पहलवानों ने उन पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। इस मामले में भाजपा सांसद के खिलाफ दिल्ली पुलिस जांच भी कर रही है। इसी के चलते बृजभूषण को पद से हटना पड़ा और यह तय हुआ था कि वह खुद या उनके परिवार या रिश्तेदार का कोई सदस्य भी चुनाव में नहीं लड़ेगा।

By Ahsan Ali

झूठी और फर्जी निकली अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की मौत की खबर, एकदम स्वस्थ है डॉन


इस्लामाबाद: अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को लेकर कहा जा रहा था कि उसे पाकिस्तान में जहर दे दिया गया। इसके बाद गंभीर हालत में दाऊद को कराची के एक अस्पताल में भर्ती कराने की खबर भी सामने आई थी। हमने पहले ही दावा किया था की यह खबर फर्जी है हालाकि मुख्यधारा की मीडिया ने इस पर प्रमुखता से खबरें छापी लेकिन अब ऐसा लगता है कि ये सभी खबरें एक बार फिर अफवाह से ज्यादा कुछ नहीं हैं। एक रिपोर्ट में खुफिया सूत्रों के हवाले से दाऊद के जहर देने की खबरों को नकार दिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक दाऊद के करीबी छोटा शकील ने पुष्टि की है कि डॉन जिंदा और पूरी तरह स्वस्थ है। रिपोर्ट के मुताबिक छोटा शकील ने कहा, ‘दाऊद जिंदा और स्वस्थ है। मैं भी इस फेक न्यूज को देख कर पूरी तरह शॉक में आ गया था।’ 17 दिसंबर को सोशल मीडिया पर इससे जुड़ी अफवाहें तेज हो गई थीं।

एक पाकिस्तानी यूट्यूबर ने रविवार की देर रात सोशल मीडिया के कुछ पोस्ट का हवाला देते हुए दाऊद के जहर और अस्पताल में भर्ती होने का अनुमान लगाया था। इसके अलावा पाकिस्तान में इंटरनेट की स्पीड को कम कर दिया गया, जिसे दाऊद से ही जोड़ा गया। हालांकि माना जा रहा है कि इमरान खान की तहरीक ए इंसाफ पार्टी की वर्चुअल मीटिंग को रोकने के लिए ऐसा किया गया। वैश्विक इंटरनेट स्वतंत्रता की निगरानी करने वाली संस्था नेटब्लॉक्स के मुताबिक रविवार की शाम सात घंटे तक पाकिस्तान में महत्वपूर्ण सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर प्रतिबंध रहा।

पहले भी आती रही हैं मौत की खबरें

इंटरनेशनल प्रतिबंधों के बावजूद दाऊद इब्राहिम और उसका परिवार कई दशकों से पाकिस्तान में लग्जरी लाइफस्टाइल का आनंद ले रहा है। दाऊद के मौत से जुड़ी खबरें पहले भी आती रही हैं। लेकिन हर बार वह अफवाह साबित होती रही हैं।

मोहम्मद शमी ने खरीदी जगुआर की लग्जरी कार, इतनी है इसकी कीमत

0

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने आईसीसी मेंस क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 के ठीक बाद एक नई कार खरीदी है। रेड कलर की ये कार जगुआर लैंड रोवर की जगुआर एफ टाइप है।

इस 2 सीटर लग्जरी कार की कीमत भारतीय बाजार में करीब सवा करोड़ रुपये है। मोहम्मद शमी साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए चुने गए थे, लेकिन चोट की वजह से टीम से बाहर हो गए हैं।

मोहम्मद शमी की ये रेड कलर की कार इस समय सुर्खियों में है। मुंबई में इस कार को एक शोरूम में देखा गया, जहां से इसे मोहम्मद ने खुद रिसीव किया। कार का नंबर भी मोहम्मद शमी का लकी नंबर है। शमी 11 नंबर की जर्सी पहनते हैं और इस कार का नंबर भी 0011 है। शमी की इस कार का नाम Jaguar F-Type है। इस कार के कुल तीन वेरियंट भारत में उपलब्ध हैं, जिसमें से शमी ने Coupe R-Dynamic 2.0 खरीदा है।

इस कार की एक्स शोरूम प्राइस तो 99 लाख 98 हजार रुपये है, लेकिन रोड टैक्स और इंश्योरेंस समेत तमाम चीजों को मिलाकर इसकी कीमत 1 करोड़ 20 लाख के आसपास हो जाती है। शमी ने वर्ल्ड कप के ठीक बाद इस कार की डिलिवरी ली है। शमी ने वर्ल्ड कप के करीब आधे ही मैच खेले थे और उन्होंने धूम मचाई थी। हालांकि, टीम इंडिया को फाइनल में वे जीत नहीं दिला पाए, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया ने दमदार प्रदर्शन फाइनल में किया था।

मोहम्मद शमी इस समय क्रिकेट से दूर हैं, क्योंकि वर्ल्ड कप 2023 फाइनल के बाद उन्होंने अपने कुछ स्कैन कराए थे, जिसमें एक चोट सामने आई। इस वजह से उनको आगे खेलने के लिए बीसीसीआई की मेडिकल टीम से अनुमति लेनी थी, लेकिन वे इस चोट से रिकवर नहीं हो पाए। इस चोट में किसी सर्जरी की आवश्यकता नहीं है, बल्कि इससे उबरने के लिए आपको समय चाहिए। यही कारण है कि शमी इस समय फिटनेस का तो ख्याल रख रहे हैं, लेकिन गेंदबाजी नहीं कर रहे।

By Ahsan Ali

बिडेन ने नेतन्याहू को संकेत दिया कि उनका मानना ​​है कि पीएम कार्यालय में उनके दिन अब गिने-चुने रह गए हैं

0

कथित तौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और उनके सहयोगियों का मानना ​​​​है कि गाजा में युद्ध के परिणामों के कारण इजरायल के प्रधान मंत्री के रूप में बेंजामिन नेतन्याहू के दिन गिने-चुने रह गए हैं।

पोलिटिको की रिपोर्ट में प्रशासन के दो वरिष्ठ अधिकारियों का हवाला देते हुए कहा गया है कि बिडेन ने पिछले महीने राष्ट्रपति की इज़राइल की युद्धकालीन यात्रा के दौरान नेतन्याहू को सुझाव देते हुए इस भावना से प्रधान मंत्री को भी अवगत कराया था कि प्रधानमंत्री उन सबक के बारे में सोचें जो वह अपने उत्तराधिकारी को देना चाहते हैं।

एक तीसरे अमेरिकी अधिकारी का कहना है कि प्रशासन के भीतर उम्मीद यह है कि नेतन्याहू केवल कुछ और महीनों तक या गाजा में इजरायल की जमीनी घुसपैठ के शुरुआती चरण के समाप्त होने तक सत्ता में बने रह पाएंगे। हालाँकि, सभी अधिकारियों ने इज़रायली राजनीति की अस्थिरता को स्वीकार किया, जो उनकी अटकलों के लिए एक चेतावनी के रूप में कार्य करता है।

जैसे ही अमेरिका नेतन्याहू के बाद के परिदृश्य के बारे में सोचना शुरू करता है, उसके अधिकारियों ने राष्ट्रीय एकता अध्यक्ष बेनी गैंट्ज़ के साथ बातचीत की है, जो युद्ध के फैलने के बाद सरकार में शामिल हुए थे; एक पूर्व अमेरिकी अधिकारी ने पोलिटिको को बताया कि साथ ही विपक्षी नेता यायर लैपिड और पूर्व प्रधान मंत्री नफ्ताली बेनेट भी शामिल हैं।

बिडेन के दो वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि प्रशासन को डर है कि नेतन्याहू अपने राजनीतिक भविष्य को युद्ध से जोड़ सकते हैं और किसी बिंदु पर संघर्ष को बढ़ाने के लिए कदम उठा सकते हैं।

चीन के नक्शों से ग़ायब हुआ इज़रायल, नाम के लिए जगह ख़ाली छोड़ी

अमेरिकी न्यूज़ पेपर वॉल स्ट्रीट जर्नल ने सोमवार को इंटरनेट यूज़र्स का हवाला देते हुए बताया कि इजराइल को अब Baidu और अलीबाबा सहित चीन के प्रमुख ऑनलाइन डिजिटल मानचित्रों से हटा दिया गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, Baidu के चीनी भाषा के नक्शे अभी भी इज़राइल और फिलिस्तीनी क्षेत्रों की सीमाओं के साथ-साथ क्षेत्र के प्रमुख शहरों को दर्शाते हैं। हालाँकि, वे अब इज़राइल को नाम से नहीं दिखाते।

अलीबाबा का अमैप भी अब इज़राइल का नाम प्रदर्शित नहीं करता है। रिपोर्ट के अनुसार, प्लेटफ़ॉर्म आमतौर पर विवरणों पर ध्यान देने के लिए जाना जाता है, यहां तक कि लक्ज़मबर्ग जैसे छोटे देशों को भी स्पष्ट रूप से लेबल किया गया है।

कंपनियों ने टिप्पणी के लिए मीडिया के अनुरोधों का जवाब नहीं दिया। प्रकाशन के अनुसार, यह स्पष्ट नहीं है कि वास्तव में इज़राइल नाम उनके मानचित्रों से कब हटाया गया था, लेकिन वेब उपयोगकर्ता स्पष्ट रूप से इस महीने की शुरुआत में इज़राइल-हमास संघर्ष के बढ़ने के बाद से विकास पर चर्चा कर रहे हैं।

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार, चीनी इंटरनेट पिछले महीने से यहूदी विरोधी टिप्पणियों से भर गया है, जो मानचित्रों से इज़राइल का नाम गायब होने का कारण हो सकता है। उपयोगकर्ताओं के कई मौखिक हमलों के बाद, चीन में इजरायली दूतावास को हाल ही में वीबो प्लेटफॉर्म पर अपने आधिकारिक खाते के तहत टिप्पणी अनुभाग को बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

चीनी सरकार ने मध्यपूर्व संघर्ष में किसी का पक्ष नहीं लिया है, उसने युद्धरत पक्षों से शत्रुता समाप्त करने का आह्वान किया है और नागरिकों पर हमलों की निंदा की है। हालाँकि, बीजिंग का फिलिस्तीन का समर्थन करने का एक लंबा इतिहास रहा है। इसने 1964 में फिलिस्तीन मुक्ति संगठन और 1988 में फिलिस्तीनी संप्रभुता को मान्यता दी, और बाद में 1989 में फिलिस्तीनी प्राधिकरण के साथ पूर्ण राजनयिक संबंध स्थापित किए।

2022 में सऊदी अरब की अपनी यात्रा के दौरान, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने इस तथ्य को “ऐतिहासिक अन्याय” कहा कि वैश्विक समुदाय अभी भी फिलिस्तीन को एक देश के रूप में मान्यता नहीं देता है, और कहा कि चीन पूर्वी येरुशलम को इसकी राजधानी के साथ एक फिलिस्तीनी राज्य की स्थापना का समर्थन करेगा।

खाड़ी देशों में युद्ध की आशंका बढ़ने के बाद सऊदी अरब के रक्षा मंत्री, वाशिंगटन पहुँचे :रिपोर्ट

0

एक्सियोस की रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी रक्षा मंत्री खालिद बिन सलमान के सोमवार को व्हाइट हाउस में बिडेन प्रशासन के अधिकारियों के साथ बातचीत करने की उम्मीद है।

रिपोर्ट के मुताबिक, बैठकें इस बात की आशंकाओं के बीच होंगी कि 7 अक्टूबर के हमले के बाद क़ब्ज़ाधारी इजरायल और हमास आंदोलन समूह के बीच युद्ध क्षेत्रीय युद्ध में बदल सकता है।

सऊदी विदेश मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, सउदी ने शनिवार को कहा कि “इजरायल के किसी भी जमीनी ऑपरेशन से फिलिस्तीनी नागरिकों के जीवन को खतरा होगा और इसके परिणामस्वरूप अमानवीय खतरे होंगे।”

बैठकों की जानकारी रखने वाले तीन स्रोतों का हवाला देते हुए, एक्सियोस की रिपोर्ट है कि बिन सलमान व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन, रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन, राज्य सचिव टोनी ब्लिंकन के साथ-साथ कई सीनेटरों से मुलाकात करेंगे।

युद्ध से पहले के हफ्तों में, सऊदी अरब ने इज़राइल के साथ संबंधों को सामान्य बनाने के लिए अमेरिका के नेतृत्व वाली कूटनीति में प्रगति की बात कही थी।

इस सप्ताह की शुरुआत में, बिडेन और सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने एक फोन कॉल में अंततः यूएस-ब्रोकेड वार्ता को “आगे बढ़ाने” पर सहमति व्यक्त की, जो इज़राइल-सऊदी संबंधों को सामान्य बनाने के लिए चल रही थी।