यूट्यूब ने इस्लामिक धर्मगुरु ‘डॉ इसरार अहमद’ के चैनल को हटाया, सोशल मीडिया पर भड़के लोग

मनोरंजनयूट्यूब ने इस्लामिक धर्मगुरु 'डॉ इसरार अहमद' के चैनल को हटाया, सोशल मीडिया पर भड़के लोग

दिवंगत पाकिस्तानी इस्लामिक विद्वान और महान दार्शनिक, डॉ इसरार अहमद के आधिकारिक YouTube चैनल जिस पर लगभग 2.9 मिलियन सब्सक्राइबर थे को यूट्यूब ने कथित यहूदी विरोधी सामग्री का हवाला देते हुए अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया है। इसरार अहमद द्वारा स्थापित एक आंदोलन तंज़ीम-ए-इस्लामी ने YouTube पर ट्वीट कर इस कदम को इस्लामोफ़ोबिया का एक ज़बरदस्त कृत्य बताया है!

तंज़ीम-ए-इस्लामी ने यह भी कहा कि उसने YouTube द्वारा चैनल की समाप्ति के जवाब में एक मजबूत कानूनी और प्रक्रियात्मक कार्रवाई शुरू की है।

डॉ इसरार अहमद का 2010 में लाहौर में 77 वर्ष की आयु में निधन हो गया। वह 1947 में भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद हरियाणा से पाकिस्तान चले गए। शुरुआत में, वह जमात-ए-इस्लामी के सदस्य थे, लेकिन 1957 में, जब पार्टी ने चुनावों में भाग लेने का फैसला किया तो, उन्होंने इस्तीफा दे दिया क्योंकि उनका मानना ​​​​था कि 1947 से पहले की अवधि में जमात द्वारा अपनाई गई क्रांतिकारी कार्यप्रणाली के साथ यह अपूरणीय था।

“बयान-उल-कुरान” नामक कुरान पर व्याख्यान की उनकी स्मारकीय श्रृंखला के लिए जाने जाने के अलावा, उन्हें इस्लामिक खिलाफत और इस्लामिक क्रांति (पैगंबर मुहम्मद के संघर्ष से प्रेरित क्रांति) को पुनर्जीवित करने के विचार को लोकप्रिय बनाने के लिए भी याद किया जाता है। .

सोशल मीडिया पर जनता का आक्रोश

यूट्यूब के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर यूजर्स भड़क गए है और विभिन्न मंचो पर गूगल का कड़ा विरोध कर रहे है जिसमें प्लेस्टोर पर जाकर नकारात्मक रेटिंग और रिव्यू भी शामिल है.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles