10.6 C
London
Saturday, April 20, 2024

योगी सरकार का बड़ा फैसला, अब प्रदेश के मदरसों में पढ़ा सकेंगे केवल TET पास शिक्षक 

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

उत्तर प्रदेश में मदरसा शिक्षा की दिशा में तेजी से बदलाव हो रहा है।

मदरसा मॉडर्नाइजेशन स्कीम (Madarsa Modernization Scheme) के तहत अब टीईटी पास शिक्षक (TET Pass Teacher) ही मदरसों में टीचर के तौर पर भर्ती किए जाएंगे। मदरसा शिक्षकों की भर्ती के लिए नियमावली में जल्‍द संशोधन किया जाएगा। बता दें कि, योगी सरकार ने मदरसों में ‘दीनी तालीम’ को कम कर हिंदी (Hindi), अंग्रेजी (English), विज्ञान (science), गणित (mathematics), सामाजिक विज्ञान (social science) जैसे विषयों पर ध्यान देगी। 

उत्तर प्रदेश सरकार ने फैसला लिया है कि अब सूबे के मदरसों में 20 प्रतिशत दीनी शिक्षा और 80 फीसद आधुनिक शिक्षा (modern education) कराई जाएगी। आलिया स्तर की मदरसों में एक शिक्षक रहेंगे, जबकि 5वीं कक्षा तक के मदरसों में 4 शिक्षक होंगे। वहीं, कक्षा 6 से 8 तक में दो और कक्षा 9 तथा 10 स्तर के मदरसों में तीन शिक्षक मॉडर्न एजुकेशन (Madarsa Modernization Scheme) पढ़ाने के लिए रखे जाएंगे। 

स्‍टेट टीईटी पास उम्मीदवार ही होंगे शिक्षक योग्य 

गौरतलब है कि, शिक्षकों की भर्ती (Recruitment of Teachers) के लिए टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (Teacher Eligibility Test) लिया जाएगा। जिसके बाद शिक्षक मदरसों में पढ़ा पाएंगे। स्‍टेट टीईटी पास उम्मीदवारों को ही मदरसों में शिक्षक भर्ती के योग्य माना जाएगा। जबकि, अब तक मदरसे में पढ़ाने वाले खुद ही शिक्षक बन जाया करते थे। बदली स्थितियों में एक प्रक्रिया के तहत शिक्षा प्रदान की जाएगी। इसके अतिरिक्त, अब तक दीनी शिक्षा 80 प्रतिशत हुआ करती थी। मगर, मॉडर्न शिक्षा के तहत अब 20 फीसदी ही दीनी शिक्षा होगी। यूपी सरकार ने अब मदरसा मॉर्डनाइजेशन के तहत इस तरह की व्यवस्था में सुधार लाने की कवायद की है।

‘UP Madarsa E-Learning’ ऐप हुआ था लॉन्च

मदरसा शिक्षा (Madrasa Education) में सुधार के लिए बीते हफ्ते उत्तर प्रदेश सरकार ने ‘UP Madarsa E-Learning’ ऐप लॉन्च किया था। उसी की मदद से बच्चे पारंपरिक तरीके के अलावा मोबाइल की मदद से भी पढ़ाई कर सकेंगे। इसका मकसद, मदरसे में पढ़ने वाले बच्चों को डिजिटल शिक्षा (digital education) से जोड़ना तथा अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्‍ध कराना है। इस ऐप के जरिये छात्र रात्रि कक्षाएं (Night Classes) भी अटेंड कर सकेंगे। अपनी सहूलियत के हिसाब से कोई भी क्लास कर सकेंगे।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khanhttps://reportlook.com/
journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here