8.9 C
London
Tuesday, April 16, 2024

तालिबान सरकार के समर्थन में महिलाओं ने बुर्का पहन कर निकाली रैली

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

काबुल: एक तरह पूरी दुनिया के मीडिया पर अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) का विरोध लगातार जारी है. कई देशों में लगातार तालिबान के विरोध में जुलूस निकाल रहे हैं. हालांकि शनिवार को काबुल (Kabul) की सड़कों पर इसके उलट तस्वीर दिखाई दी.

300 बुर्काधारी महिलाओं ने निकाली रैली

काबुल में तालिबान (Taliban) के संरक्षण में करीब 300 बुर्काधारी महिलाओं ने रैली निकाली. सिर से पांव तक काले बुर्के ढकी महिलाओं ने तालिबान को सच्ची सरकार बताया और कहा कि उसका विरोध करने वाले पश्चिमी देश उनके मामलों में हस्तक्षेप कर रहे हैं.

तालिबान के समर्थन में लगाए नारे

हिजाब और बुर्का पहनकर निकली महिलाओं की सुरक्षा के लिए तालिबान (Taliban) लड़ाकों ने कड़ा इंतजाम किया था. महिलाओं ने अपने हाथ में तालिबान के झंडे ले रखे थे. उन्होंने तालिबान के फेवर में नारेबाजी की और उसके बाद काबुल यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में हो रहे कार्यक्रम में शामिल हुईं.

जुलूस में शामिल एक बुर्काधारी महिला ने दावा किया कि वे उन महिलाओं के खिलाफ हैं, जो सड़कों पर तालिबान के खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं. महिला ने जोर देकर कहा कि तालिबान के खिलाफ बोलने वाली औरतें देश की महिलाओं की प्रतिनिधि नहीं हैं.

गनी सरकार पर लगाए ये आरोप

एक महिला ने आरोप लगाया कि पिछली सरकार महिलाओं का दुरुपयोग कर रही थी. वे सिर्फ अपनी सुंदरता के आधार पर महिलाओं की सरकारी नौकरी में भर्ती कर रहे थे.

काबुल यूनिवर्सिटी की एक छात्रा शबाना ओमारी ने कहा, ‘हिजाब नहीं पहनने वाली औरतें हम सभी को नुकसान पहुंचा रही हैं.’ एक अन्य स्पीकर सोमैया ने कहा, ‘हम अपनी पूरी ताकत से अपनी सरकार का समर्थन कर रहे हैं.’

सरकार में किसी महिला को जगह नहीं

बताते चलें कि तालिबान (Taliban) ने अफगानिस्तान में घोषित हुई अपनी नई सरकार में किसी भी महिला और अल्पसंख्यक को शामिल नहीं किया है. इसके साथ ही महिलाओं पर कई पाबंदी लगाते हुए उनके खेलने और बिना बुर्के के बाहर निकलने पर बैन लगा दिया है.

हालांकि इससे पहले तालिबान (Taliban) ने दावा किया था कि वे महिलाओं को इस्लामी शरिया के तहत सभी अधिकार प्रदान करेंगे. जो इस्लामी शरिया कानून के तहत वैध होंगे. तालिबान ने यह भी कहा कि महिलाओं को हिजाब या बुर्का को ड्रेस कोड के रूप में अपनाना होगा.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here