मुंबई: मुंबई कांग्रेस ने मुनव्वर फारुकी के शो (Munawar Faruqui Show) का समर्थन किया है. पिछले कई हफ्तों में फारुकी के 12 से ज्यादा शो रद्द हो चुके हैं. फारुकी का शनिवार को मुंबई में शो हुआ. इश शो की मेजबानी कांग्रेस (Congress) की यूनिट एआईपीसी द्वारा की गई. मुनव्वर फारुकी के पिछले कुछ महीनों में कई जगहों पर शहरों में शो रद्द कर दिए गए थे.

इससे परेशान फारुकी ने कॉमिक शो न करने का संकेत भी दिया था. फारुकी ने तब एक इंस्टाग्राम पोस्ट में कहा था, “नफरत जीत गई और कलाकार हार गया. मेरा काम हो गया, गुडबॉय, नाइंसाफी”. फारुकी को दक्षिणपंथी संगठनों की ओर से लगातार धमकियां मिल रही थीं.

फारुकी का शो मुंबई के वाईबी चह्वाण सेंटर में आयोजित किया गया. AIPC ने तस्वीरों के साथ ट्वीट किया, हमने कल मुंबई में मुनव्वर फारुकी के शो को आयोजित कराया. कलाकार को रचनात्मक आजादी मिलनी ही चाहिए, जब तक वो संविधान और सभी धर्मों की आस्थाओं का सम्मान करे. हम किसी के विचार या सामग्री से असमहत हो सकते हैं, लेकिन अपना विचार थोपने के लिए ताकत का इस्तेमाल करना असंवैधानिक है. एआईपीसी खुद को भारत में समग्र और प्रगतिशील राजनीति का मंच बताती है. युवा कॉमेडियन को समर्थन देने को लेकर उसकी सराहना की जा रही है.

अभिनेत्री पूजा भट्ट ने एआईपीसी सदस्य मैथ्यू एंटनी को टैग करते हुए ट्वीट किया, यह स्टैंड लेने के लिए आपका धन्यवाद. यह किसी की मदद से कहीं बड़ी बात है. हमें कलाकारों के लिए खड़े होना चाहिए. हमें अभिव्यक्ति की आजादी, लोकतंत्र के समर्थन में खड़ा होना चाहिए. खासकर ऐसे कलाकारों के पक्ष में जिन्हें अपनी आवाज  उठाने में हिचकिचाहट महसूस हो रही हैं. कुछ अन्य कलाकारों ने इसी तरह इस काम की प्रशंसा की है.

इसी महीने मुनव्वर फारुकी को गुरग्राम के एक कॉमेडी शो से आयोजकों ने बाहस कर दिया था. उन्हें गुरुग्राम कॉमेडी फेस्टिवल में 17 से 19 दिसंबर के बीच अपनी प्रस्तुति देनी थी. शो रद्द होने के बीच एनडीटीवी से बातचीत में फारुकी ने कहा था, मुझे रोजाना 50 से ज्यादा धमकियां मिलती हैं. मुझे तीन बार अपना सिम कार्ड बदलना पड़ा है. जब भी मेरा नंबर लीक हो जाता है तो लोग मुझे कॉल करते हैं और गालियां देते हैं. 

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment