13.1 C
Delhi
Monday, December 5, 2022
No menu items!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को देना ही होगा इस्तीफा ? बाजवा निभाएंगे अहम रोल

- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तान में राजनीतिक उथल-पुथल अपने चरम पर है। एकजुट विपक्ष को इस बात की उम्मीद है कि कल नेशनल असेंबली के अध्यक्ष प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत करने की इजाजत देंगे।

विपक्ष ने यह भी चेतावनी दी है कि यदि अध्यक्ष ने प्रस्ताव को स्वीकार करने से इनकार या इसमें देरी की तो वे सचिवालय पर धरना देंगे। आपको बता दें कि यहीं पर 22-23 मार्च को ओआईसी विदेश मंत्रियों का सम्मेलन भी प्रस्तावित है। यदि सोमवार को अध्यक्ष द्वारा प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया जाता है तो अविश्वास प्रस्ताव पर 28 मार्च को सदन में वोटिंग होगी।

- Advertisement -

पीएम इमरान खान पर राजनीतिक दबाव बढ़ रहा है। खुफिया इनपुट से संकेत मिलता है कि सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और डीजी (आईएसआई) लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अंजुम सहित चार वरिष्ठतम पाकिस्तानी सेना जनरलों ने ओआईसी-एफएम सम्मेलन के बाद इमरान खान को प्रधानमंत्री का पद छोड़ने के लिए कहा है।

यहां तक ​​​​कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के बहुप्रचारित तुरुप का पत्ता पूर्व सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ भी सेना के साथ इमरान खान की ओर से मध्यस्थता करने में स्पष्ट रूप से विफल रहे हैं। यह भी पता चला है कि जनरल शरीफ इमरान खान के कहने पर जनरल बाजवा से मिलने के लिए पाकिस्तान गए थे, लेकिन वे सेना प्रमुख को नहीं समझा सके।

दिल्ली पहुंचने वाली खबरों के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना अपने इस आकलन में एकजुट है कि इमरान खान को पद छोड़ देना चाहिए क्योंकि लगातार राजनीतिक उथल-पुथल पाकिस्तान के हित में नहीं है। आपको बता दें कि पाकिस्तान पहले से ही गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है।

सेना भी पीएम इमरान खान से यूक्रेन संकट पर अमेरिका और यूरोपीय संघ के खिलाफ अनावश्यक पॉट-शॉट लेने और जाहिर तौर पर अफगानिस्तान में पश्चिम में इस्लामाबाद के समर्थन के बावजूद उनकी और पाकिस्तान की अनदेखी के लिए नाराज है।

पाकिस्तानी सेना द्वारा ओआईसी सम्मेलन के बाद पीएम इमरान खान को इस्तीफा देने के लिए कहने के साथ, विपक्षी नेताओं ने भी गतिविधि बढ़ा दी है। 

इस्लामाबाद के सियासी हलकों में इस बात की चर्चा है कि पीएम इमरान खान जनरल बाजवा को भी बर्खास्त कर सकते हैं, क्योंकि पाकिस्तान के राष्ट्रपति जुल्फिकार अली भुट्टो ने मार्च 1972 में कार्यवाहक सेना प्रमुख जनरल गुल हसन खान और वायु सेना प्रमुख एयर मार्शल अब्दुल रहीम खान को बर्खास्त कर दिया था।

हालांकि, जनरल बाजवा के लिए फिलहाल इस संभावना का कोई महत्व नहीं है। वर्तमान सेना प्रमुख ने राजनीति से दूरी बना ली है। वह पाकिस्तान के पूर्व स्विंग गेंदबाज की जगह लेने के बारे में नहीं सोच रहे हैं।

- Advertisement -
Jamil Khan
Jamil Khanhttps://reportlook.com/
journalist | chief of editor and founder at reportlook media network
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here