अपनी दमदार एक्टिंग के लिए मशहूर प्रसिद्ध अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक बेहतरीन फिल्मों में काम किया। उनके बेस्ट परफॉर्मेंस के लिए वह ढेरों अवॉर्ड्स से भी सम्मानित किए गए। वह राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और फिल्मफेयर पुरस्कार सहित कई पुरस्कारों से नवाजे जा चुके हैं। सिनेमा में उनके योगदान के लिए, भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री और पद्म भूषण से सम्मानित किया है।

लेकिन एक समय ऐसा भी था जब नसीरुद्दीन शाह के साथ एक एक्ट्रेस ने काम करने से इनकार कर दिया था। इसके पीछे की वजह थी कि एक्ट्रेस को नसीरुद्दीन की शक्ल पसंद नहीं आई थी। उस वक्त नसीरुद्दीन शाह अभिनय की पढ़ाई भी पूरी कर रहे थे।

20 जुलाई 1949 को उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में एक रईस खानदान में जन्में नसीरुद्दीन ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की। इसके बाद उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला लिया था। हालांकि पिता उन्हें एक अधिकारी या डॉक्टर बने देखना चाहते थे। लेकिन किस्मत को तो उनके लिए कुछ और ही मंजूर था। जब उन्होंने अभिनय के प्रति अपने प्रेम का इजहार अपने पिता के सामने किया तो नसीरुद्दीन के पिता काफी नाराज हो गए थे।

इसके बाद उनका मन फिल्मों में काम करने का हुआ। ऐसे में नसीरुद्दीन एफटीआईआई, पुणे जा पहुंचे थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक इंटरव्यू में नसीरुद्दीन शाह ने एक पुराना किस्सा शेयर किया था। उन्होंने बताया था- ‘उस वक्त मैं और ओमपुरी साथ में एफटीआईआई में पढ़ रहे थे। तब एक फिल्म का ऑफर आया था, उस फिल्म में शबाना आजमी भी थीं तो फिल्म में ओमपुरी को भी लिया गया। उस फिल्म में एक रोल के लिए मुझे भी चुना गया। लेकिन शबाना आजमी ने उस फिल्म में काम करने से इनकार कर दिया।’

नसीरुद्दीन शाह ने बताया था कि शबाना आजमी ने नसीरुद्दीन शाह की फोटो देखी थी ऐसे में उनकी शक्ल देखते ही शबाना ने काम करने से मना कर दिया था।

लेकिन वक्त के साथ साथ उन्होंने खुद पर काफी काम किया, और अपनी मेहनत के दम पर अपनी अदाकारी का लोहा मनवाया। फिर एक वक्त ऐसा भी आया कि जिस शबाना आजमी ने उनके साथ काम करने से मना कर दिया था, उन्होंने भी नसीरुद्दीन के साथ बड़े पर्दे पर खुशी-खुशी काम किया। शबाना संग नसीरुद्दीन ने मासूम, स्पर्श और निशांत जैसी फिल्मों में काम किया।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment