13.1 C
Delhi
Saturday, December 3, 2022
No menu items!

क्या समलैंगिक के संबंध की वजह से समान्था ने तलाक़ लिया

- Advertisement -
- Advertisement -

सामंथा रूथ प्रभु और नागा चैतन्य के तलाक के बारे में बहुत कुछ लिखा और कहा जा चुका है। सामंथा के सोशल मीडिया हैंडल से अक्किनेनी सरनेम हटाने से लेकर मुंबई में शिफ्ट होने तक कुछ रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया था कि सामंथा का कथित तौर पर अपने स्टाइलिस्ट प्रीतम जुकलकर से अफेयर था। और इसे ही दोनों के अलग होने का कारण बताया जा रहा था। अब एक्ट्रेस श्री रेड्डी ने प्रीतम के साथ सामंथा के अफेयर पर एक चौंकाने वाला दावा किया है। हालिया इंटरव्यू में श्री रेड्डी ने दावा किया है कि प्रीतम समलैंगिक हैं, इसलिए सामंथा और उसके स्टाइलिस्ट के संबंध होने की कोई संभावना ही नहीं है। इससे पहले श्री रेड्डी का एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने चायसम के तलाक की बात कही थी। उन्होंने कहा था, “हम चाहते हैं कि आप दोनों एक साथ रहें। यह मेरा केवल अनुरोध है।

- Advertisement -

शादी के चार साल बाद अलग हुआ कपल
तेलुगु स्टार सामंथा और नागा चैतन्य ने अटकलों को समाप्त करते हुए 2 अक्टूबर को शादी के चार साल बाद अलग होने की घोषणा की थी। कपल ने आधिकारिक बयान में इस खबर की पुष्टि की, जिसे सामंथा ने साझा किया। उन्होंने अपने प्रशंसकों और मीडिया से उनकी प्राइवेसी को सम्मान देने का अनुरोध किया था। उन्होंने 2017 में गोवा में शादी की थी।

प्रीतम ने इसे ‘दुर्भावनापूर्ण’ बताते हुए दी थी सफाई, उन्हें जीजी बोलता हूं
प्रीतम ने भी सामंथा और नागा चैतन्य के साथ उनके बढ़ते प्यार से नाखुश होने की अफवाहों पर प्रतिक्रिया दी थी। प्रीतम ने इसे ‘दुर्भावनापूर्ण’ बताते हुए कहा, सब जानते हैं कि मैं सामंथा को ‘जीजी’ कहता हूं जो कि उत्तर भारतीय शब्द है जिसका मतलब है बहन। हमारे बीच लिंक-अप कैसे हो सकता है? लोग कमेंट कर रहे हैं कि मैं कैसे कह सकता हूं। मैं तुमसे प्यार करता हूं। सामंथा ने भी रिएक्शन देते हुए लिखा था, “व्यक्तिगत संकट में आपके इमोशनल सपोर्ट ने मुझे बहुत सहारा दिया है। सपोर्ट, कंसर्न और झूठी अफवाहों और कहानियों के बीच मेरा बचाव करने के लिए आप सभी का धन्यवाद। वे कहते हैं कि मैं एक अवसरवादी हूं।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here