16 C
London
Tuesday, May 28, 2024

अमित शाह के दौरे के बाद असम-मिजोरम सीमा पर भड़की हिंसा

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दो दिवसीय पूर्वोत्तर दौरे के बाद असम और मिजोरम बॉर्डर पर हिंसा भड़क उठी है। बॉर्डर एरिया पर फायरिंग की खबरें मिली हैं, इसके साथ ही सरकारी वाहनों पर हमला किए जाने की भी खबरें सामने आई हैं। दोनों राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों ने इस मसले पर ट्वीट करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री को टैग किया है। एक वीडियो, जिसमें लोगों को लाठियों से लैस देखा जा सकता है, ट्वीट करते हुए मिजोरम के सीएम जोरामथांगा ने मामले में गृह मंत्री शाह के दखल की मांग की है। उन्‍होंने लिखा-इसे तुरंत ही रोका जाना चाहिए।

एक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने लिखा, ‘कछार के रास्‍ते मिजोरम लौटने के दौरान निर्दोष दंपति पर गुंडों ने हमला किया और तोड़फोड़ की। आखिरकार इस तरह की हिंसक घटनाओं को आप किस तरह न्‍यायोचित ठहराएंगे।’ असम के सीएम हिमांता बिस्‍ब सरमा ने ट्वीट किया, ‘आदरणीय जोरामथांगाजी। कोलासिब (मिजोरम) के एसपी ने हमें अपनी पोस्‍ट से तब तक हटने के लिए कहा है जब तक उनके नागरिक बात नहीं सुनते और हिंसा नहीं रोकते। ऐसी परिस्थितियों में हम किस तरह सरकार चला सकते हैं। उम्‍मीद है, आप जल्‍द से जल्‍द दखल देंगे।

वहीं, सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री अमित शाह ने असम और मिजोरम के मुख्यमंत्रियों से बात की और उन्हें सीमा मुद्दे को हल करने के लिए कहा है। दोनों मुख्यमंत्रियों ने इस मुद्दे को सुलझाने और शांति बनाए रखने पर सहमति जताई है। दोनों राज्यों के पुलिस बल विवादित स्थल से लौट चुके हैं।

बता दें कि मिजोरम के तीन जिले आईजोल, कोलासिब और मामित, असम के कोचर, हेलकांडी और करीममंग जिलों के साथ 164.6 किमी लंबी इंटर स्‍टेट बॉर्डर शेयर करते हैं। वर्षों से सीमा के ‘विवादित माने जाने वाले इस क्षेत्र में झड़पें होती आई हैं और दोनों पक्षों के निवासियों ने एक-दूसरे पर घुसपैठ का आरोप लगाया है। ऐसी आखिरी घटना जून माह में रिपोर्ट की गई थी जब दोनों राज्‍यों के सुरक्षा बलों ने एक-दूसरे पर घुसपैठ का आरोप लगाया था। मिजोरम के अलावा असम का मेघालय और अरुणाचल प्रदेश के साथ भी सीमा विवाद है।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here