सिद्धू मूसे वाला की ‘हत्या’ के बाद ‘हमलावरों’ के जश्न मनाने का वीडियो हुआ वायरल

मनोरंजनसिद्धू मूसे वाला की 'हत्या' के बाद 'हमलावरों' के जश्न मनाने का वीडियो हुआ वायरल

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाले की हत्या में शामिल शूटर्स का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह कार में बैठकर हथियार लहराते हुए दिख रहे हैं. शूटर्स के मोबाइल फोन से यह वीडियो बरामद हुआ है जिसमें आरोपी जश्न मनाते दिख रहे हैं. गाड़ी में सभी शूटर्स बेखौफ होकर गाने बजा रहे थे और हथियार के साथ मूसेवाला की हत्या का जश्न मना रहे थे. यह वीडियो दिखाता है कि हत्यारों को अपने पकड़े जाने का जरा भी डर नहीं था और वह संगीन वारदात को अंजाम देकर बेखौफ तरीके से जश्न मनाते हुए दिख रहे हैं.

गाड़ी में हथियार लहराते दिखे शूटर्स

ये वीडियो शूटर्स के मोबाइल फोन से मिले हैं, पुलिस के मुताबिक शूटर्स ने ये वीडियो अपने इंस्टाग्राम पर डाले थे, हालांकि वो अकाउंट अब डिलीट है. वीडियो में दिख रहा है कैसे शूटर्स मूसेवाला की हत्या के बाद गाड़ी में गानों पर हथियारों के साथ रील बना रहे हैं. वीडियो में गाड़ी कपिल चला रहा है, बगल में नीली टीशर्ट में प्रियव्रत है, पीछे बीच मे अंकित सबसे छोटा शूटर है जिसने दोनों हाथ से फायरिंग की. इसके अलावा पीछे नीली चैक शर्ट में  सचिन भिवानी और सफेद टीशर्ट में  दीपक है.

मर्डर केस में दो और आरोपी अरेस्ट

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मूसेवाला की हत्या के सिलसिले में दो और लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें मूसेवाला को कथित तौर पर करीब से गोली मारने वाला शूटर भी शामिल है. पुलिस ने बताया कि इसके साथ ही पुलिस मामले में अभी तक पांच लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. अधिकारियों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने अंकित और सचिन भिवानी को रविवार रात गिरफ्तार किया, दोनों ही लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गिरोह के अपराधी हैं.

पुलिस के मुताबिक सोनीपत का रहने वाला अंकित इस मॉड्यूल का सबसे छोटा शूटर्स था और उसने मूसावाला पर 6 गोलियां चलाईं और ये गोलियां इसने दोनो हाथों से चलाई थीं. इसके अलावा अंकित के दोस्त सचिन भिवानी ने इन आरोपियों को छिपने के लिए जगह दी थी और शूटर्स की काफी मदद की थी.

इन शूटर्स ने करीब 35 लोकेशन बदली हैं आरोपियों का पता था कि उनके पीछे मल्टी एजेंसी लगी हुई हैं और इसलिए ये लगातार अपनी लोकेशन बदल रहे थे. इन आरोपियों ने छिपने के लिए फतेहाबाद, पिलानी, बिलासपुर, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और कच्छ में ठिकाने तलाशे थे. कहीं भी ये आरोपी एक लोकेशन पर 24 घंटे से ज्यादा नहीं रुके और लगातार ट्रेवल कर रहे थे.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles