अमेरिका की भारत को चेतावनी, चीन हमला करेगा तो रूस बचाने नहीं आएगा

रेलेशन्शिपअमेरिका की भारत को चेतावनी, चीन हमला करेगा तो रूस बचाने नहीं आएगा

भारत दौरे पर आए अमेरिका के उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार दलीप सिंह ने कहा कि रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों को दरकिनार करने वाले देशों को इसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है।उनका यह बयान रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के दिल्ली पहुंचने से कुछ घंटों पहले आया।साथ ही उन्होंने कहा कि अगर चीन दोबारा वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) में घुसपैठ करता है तो रूस भारत की सुरक्षा के लिए आगे नहीं आएगा।बयानरूस और चीन की दोस्ती का भारत पर भी पड़ेगा असर- सिंह

रूस और चीन के बीच बढ़ती दोस्ती पर चिंता जताते हुए सिंह ने कहा कि इसका भारत पर भी असर पड़ेगा। चीन के साथ रिश्तों में रूस एक जूनियर साझेदार होगा। चीन रूस से जितना फायदा उठाएगा, यह भारत के लिए उतना ही नुकसानदायक होगा।बयानभारत की मदद को नहीं आएगा रूस- सिंह

भारतीय-अमेरिकी अधिकारी सिंह ने कहा, “मैं नहीं मानता कि कोई भी इस बात पर भरोसा करेगा कि अगर चीन दोबारा LAC का उल्लंघन करते हुए घुसता है तो रूस भारत की मदद के लिए आगे आएगा। इस संदर्भ में हम चाहते हैं कि दुनिया के सभी लोकतंत्र और खासकर क्वाड एक साथ आए और यूक्रेन में चल रहे घटनाक्रमों और इसके प्रभावों पर अपने साझा हितों और चिंताओं पर मुखर रूप से बात करें।”बयानभारत का आयात प्रतिबंधों का उल्लंघन नहीं- सिंह

सिंह ने कहा, “हम चाहते हैं कि सभी देश और खासकर हमारे सहयोगी और साझेदार ऐसा कोई तंत्र न बनाए, जिससे रूबल (रूसी मुद्रा) को बढ़ावा मिले और डॉलर आधारित वित्तीय व्यवस्था कमजोर हो।”इस मौके पर उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि भारत द्वारा रूस से फिलहाल ऊर्जा का आयात किसी भी प्रतिबंध का उल्लंघन नहीं कर रहा है।बता दें कि भारत ने हालिया दिनों में रूस से ईंधन का आयात बढ़ाया है।जानकारीS-400 समझौते पर सिंह ने क्या कहा?

जब सिंह से पूछा गया कि क्या भारत के रूस से S-400 एयर डिफेंस सिस्टम की खरीद जैसे समझौतों पर प्रतिबंधों का कोई असर पड़ेगा तो उन्होंने कहा कि यह निजी बातचीत का मुद्दा है।रूस पर लगाए प्रतिबंधों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि इसका मकसद यह दिखाना है कि अगर रूस यह बिना उकसावे, गैरकानूनी और गैर जरूरी आक्रमण जारी रखता है तो यह उसकी सामरिक विफलता होगी।जानकारीरूस पर प्रतिबंधों के पीछे सिंह की अहम भूमिका

यूक्रेन पर आक्रमण करने को लेकर अमेरिका ने रूस पर कड़े प्रतिबंध लागू किए हैं।रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, लावरोव और रूस के वरिष्ठ अधिकारियों को भी इन प्रतिबंधों के दायरे में रखा गया है। अमेरिका के इन प्रतिबंधों के सिंह की अहम भूमिका है।भारत दौरे पर पहुंचे सिंह ने गुरुवार को प्रधानमंत्री कार्यालय, वित्त और विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी। वो वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल से भी मिले थे।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles