उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट (Rampur Loksabha Seat) से बीजेपी ने घनश्याम सिंह लोधी (Ghanshyam Singh Lodhi) को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है. रामपुर को सपा नेता आजम खान (Azam Khan) का गढ़ कहा जाता है. यही वजह है कि बीजेपी ने आजम के ही करीबी रहे घनश्याम लोधी को अपना प्रत्याशी बनाया है. घनश्याम इसी साल जनवरी में विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) को छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे. इस बीच घनश्याम लोधी से एबीपी गंगा की टीम ने बात की. 

बीजेपी ने घनश्याम लोधी का बनाया प्रत्याशी

रामपुर सियासी दिग्गज नेताओं का गढ़ माना जाता है और हर बार के चुनाव में यहां बड़े-बड़े नाम चुनावी मैदान में उतरते रहे हैं. आज़म खान, मुख्तार अब्बास नकवी, जयप्रदा और नूर बानो जैसे बड़े नेताओं की कर्मभूमि रामपुर में लोकसभा उपचुनाव होने जा रहे हैं. यहां 23 जून को लोकसभा उपचुनाव के लिए मतदान होना है लेकिन हर बार की तरह इस बार रामपुर के चुनावी मैदान में कोई बड़ा नाम अभी तक सामने नहीं आया है. बीजेपी ने घनश्याम सिंह लोधी को अपना प्रत्याशी घोषित कर सब को चौका दिया है. 

आजम खान के करीबी रहे हैं लोधी

घनश्याम लोधी विधानसभा चुनावों में ही सपा छोड़ कर बीजेपी में शामिल हुए हैं और सपा नेता आज़म खान के करीबी माने जाते रहे हैं. आज़म खान 27 महीनों बाद जेल से बाहर आये हैं और उन पर 80 से ज़्यादा मुकदमे चल रहे हैं ऐसे में आज़म खान ने जेल से बाहर आने के बाद कहा था कि वो अब सब से मुलाकातें किया करेंगे पहले लाईन खींच कर राजनीति करते थे लेकिन अब चाय नाश्ता सब के साथ किया करेंगे. कयास लगाए जा रहे हैं कि आजम खान इस बार बीजेपी या किसी अन्य से सीधा मोर्चा खोलने के मूड में नहीं है इसीलिए बीजेपी ने भी घनश्याम लोधी का नाम घोषित कर रामपुर में गंगा जमुनी तहजीब वाले प्रत्याशी को चुनावी मैदान में उतार दिया है. 

इस बार चुनाव होगा अलग 

भाजपा प्रत्याशी खुद कह रहे हैं कि जब प्यार मोहब्बत से चुनाव लड़ा जा सकता है तो फिर कड़वाहट पैदा करने की क्या जरुरत है. आज़म खान और घनश्याम लोधी के अच्छे रिश्ते जग जाहिर हैं ऐसे में सपा की तरफ से नगर अध्यक्ष आसिम राजा और आज़म खान की पत्नी डॉ ताज़ीन फातिमा के नाम से दो नामांकन फार्म लिए गए हैं. दोनों ही नाम ऐसे है कि उनका स्वभाव नरम माना जाता रहा है. कांग्रेस की तरफ से नवाब काज़िम अली खान के नाम से एक नामांकन फार्म लिया गया है लेकिन अभी आधिकरिक घोषणा होने बाकी है. 

ऐसे में कयास ये लगाए जा रहे हैं कि इस बार रामपुर में चुनाव फ्रैंडली मैच की तरह होने वाला है और चुनावों में दिग्गज नेताओं के बीच कोई टकराव देखने को नही मिलेगा. सोमवार को नामांकन का आखरी दिन है. यहां 23 जून को मतदान होना है और भाजपा प्रत्याशी ने गंगा जमुनी तहजीब के नारे के साथ चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है. इसकी एक वजह ये भी है कि रामपुर लोकसभा सीट पर मुस्लिम मतदाता 50 प्रतिशत से भी अधिक बताये जाते हैं.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment