8.9 C
London
Wednesday, February 21, 2024

तुर्की देश ने बदला अपना नाम यूनाइटेड नेशन ने स्वीकारा नया नाम

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

तुर्की (Turkey) के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोग्लू ने संयुक्त राष्ट्र (United Nations) को एक पत्र भेजकर औपचारिक रूप से अनुरोध किया है कि उनके देश को “तुर्किये” (Türkiye) के रूप में संदर्भित किया जाए. संयुक्त राष्ट्र द्वारा अनुरोध को स्वीकार कर लिया गया है. सरकार द्वारा संचालित समाचार एजेंसी ने गुरुवार को यह जानकारी दी. इस कदम को अंकारा (Ankara) द्वारा देश की छवि में बदलाव करने और पक्षी, टर्की (bird) और इसके साथ जुड़े कुछ नकारात्मक अर्थों से अपना नाम अलग करने के प्रयास के हिस्से के रूप में देखा जाता है.

अनादोलु एजेंसी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव (U.N. Secretary General) एंटोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बुधवार देर रात पत्र मिलने की पुष्टि की. एजेंसी ने दुजारिक के हवाले से कहा कि नाम परिवर्तन “उस क्षण से” प्रभावी हो गया था जब पत्र प्राप्त हुआ था.

नाम बदलने के लिए लगातार दबाव डाल रही एर्दोआन सरकार 
राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन (Recep Tayyip Erdogan) की सरकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त नाम तुर्की को “तुर्किये” (तूर-की-येय) में बदलने के लिए दबाव डाल रही है क्योंकि यही तुर्की में वर्तनी और उच्चारण है. स्वतंत्रता की घोषणा के बाद 1923 में देश ने खुद को “तुर्किये” कहा था.

दिसंबर में, एर्दोआन ने तुर्की संस्कृति और मूल्यों का बेहतर प्रतिनिधित्व करने के लिए “तुर्किये” के उपयोग का आदेश दिया, जिसमें निर्यात उत्पादों पर “मेड इन तुर्की” के बजाय “मेड इन तुर्किये” का उपयोग करने की मांग शामिल थी. तुर्की के मंत्रालयों ने आधिकारिक दस्तावेजों में “तुर्किये” का उपयोग करना शुरू कर दिया.

सरकार जारी किया था एक प्रचार वीडियो 
इस साल की शुरुआत में, सरकार (Government) ने नाम अंग्रेजी में बदलने के अपने प्रयासों के तहत एक प्रचार वीडियो (Promotional Video) भी जारी किया था. वीडियो में दुनिया भर के पर्यटकों को प्रसिद्ध स्थलों पर “हैलो तुर्किये” (Hello Türkiye) कहते हुए दिखाया गया है.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here