इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान के अरबपति बिजनेसमैन मियां मांशा (Pakistani Billionaire Businessman Mian Mansha) ने भारत-पाक रिश्तों (Indo-Pak Relation) को लेकर बड़ा दावा किया है. उनका कहना है कि भारत और पाकिस्‍तान के बीच पर्दे के पीछे बातचीत जारी है. मियां मांशा ने यह भी कहा कि यदि हम मिलकर कार्य करते हैं तो एक महीने में पीएम मोदी (PM Modi) पाकिस्‍तान का दौरा कर सकते हैं. पाकिस्तानी अरबपति ने कहा कि कोई भी स्‍थायी शत्रु नहीं होता, हमें भारत के साथ चीजों को ठीक करने की जरूरत है.

‘हमें शांति की जरूरत है’

पाकिस्‍तान की बहुराष्‍ट्रीय कंपनी ‘निशात ग्रुप’ के प्रमुख मियां मांशा (Mian Mansha) ने दोनों देशों के बीच व्यापार पर बोलते हुए कहा कि 1965 की जंग के पहले तक भारत के साथ पाकिस्‍तान का 50 फीसदी व्‍यापार होता था. उन्होंने कहा, ‘हमें अब शांति की जरूरत है. भारत के पास अच्‍छी तकनीक है. हमारे पास भी ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हिंदुस्‍तान को दी जा सकती हैं. कोई भी स्‍थायी शत्रु नहीं होता. इतनी गरीबी है, हमें भारत के साथ चीजों को सुधारना होगा’.

रिश्ते बेहतर करना चाहता है PAK

पाकिस्‍तानी अरबपति ने ये दावा ऐसे समय किया है जब हाल ही में जारी पहली राष्‍ट्रीय सुरक्षा नीति में पाकिस्‍तान ने भारत के साथ शांति पर जोर दिया है. पिछले दिनों राष्‍ट्रीय सुरक्षा नीति से जुड़े एक अधिकारी ने पाकिस्‍तानी अखबार एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून से बातचीत में कहा था कि हम अगले 100 साल तक भारत के साथ बैर नहीं रखेंगे. इस नई नीति में पड़ोसी देशों के साथ शांति पर जोर दिया गया है. उन्‍होंने यह भी कहा था कि इस मुद्दे पर अगर बातचीत और प्रगति होती है तो इस बात की संभावना है कि भारत के साथ व्‍यवसायिक संबंध सामान्‍य हो जाएं.

पहले भी आई थीं ऐसी खबरें 

हालांकि, पाकिस्‍तानी अधिकारी ने यह भी कहा था कि नई दिल्‍ली में वर्तमान मोदी सरकार के अंतर्गत भारत के साथ मेलमिलाप की कोई संभावना नहीं है. गौरतलब है कि पहले भी ऐसी खबरें आई थीं कि अफगानिस्‍तान पर तालिबान के कब्जे से पहले भारत और पाकिस्‍तान के बीच पर्दे के पीछे बातचीत चल रही थी. कहा यह भी गया था कि भारत और पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रीय सुरक्षा से जुड़े दो शीर्ष अधिकारी किसी तीसरे देश में मिले भी थे. 

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment