नई दिल्ली- सरकार ने गुरुवार को राज्यसभा के उच्च सदन के चेयरमैन से मॉनसून सेशन के दौरान पार्लियमानी वकार और एकतेदार को शर्मसार करने वाले अपोजीशन पार्टियों के मेम्बरान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

8 हुकूमती वजिरा ने यहां एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि अपोजीशन पार्टियों के सदस्य कार्रवाई के डर से मार्शलों के साथ झगड़े और हाथापाई के झूठे इल्जाम लगा रहे हैं और मुल्क को गुमराह करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि अपोजीशन नहीं चाहता था कि पार्लियामेंट की कार्यवाही पहले दिन से जारी रहे, खासकर राज्यसभा के ऊपरी सदन में। वह बहुत जारहना थे और उन्होंने कुर्सी पर बेबुनियाद आरोप लगाए। वजिरा ने चेयरमैन से जोर दिया है कि सदन में 4 अगस्त, 9 अगस्त और 11 अगस्त की घटनाओं की खुसूसी कमेटी से जांच कराकर कसूरवार अरकान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए ताकि मुस्तकबिल में ऐसी घटनाएं दोबारा न हों। वाणिज्य और वजीर तिजारत पीयूष गोयल, सदन के उपनेता और अकलियती अमूर के वजीर मुख्तार अब्बास नकवी, संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी, वजीर इत्तेलात और नशरियात अनुराग सिंह ठाकुर, वजीर महंत भूपिंदर यादव, वजीर तालीम धर्मेंद्र प्रधान और संसदीय कार्य राज्य मंत्री धरन और अर्जुन राम मेघवाल मौजूद थे।

गोयल ने कहा कि इस सैशन के दौरान केवल नए मर्कजी वजिरा के तारुफ कराने से रोका, बल्कि वजीर के हाथों से दस्तावेज भी छीने, एक चेम्बर का शीशा चकनाचूर कर दिया जिसमें एक खातून मार्शल ज़ख्मी हो गई। अपोजीशन के अरकान टेबल पर चढ़ गए और सीट पर रोल बॉक्स फेंक दिए, जो काबिले मजम्मत है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के अरकान ने सदन के वकार पर सवाल उठाया और खातून मार्शल से बदतमीज़ी भी की।
गोयल ने इल्जाम लगाया कि अपोजीशन पार्टियों के अरकान सियासी मजबूरी की वजह से देगर पसमांदा तबका से मुताल्लिक बिल पर बहस और इसे पास कराया।
इससे पहले जोशी ने कहा कि अपोजीशन का वाहिद ऐजेंडा इंतेशार फैलाना था। अपोजीशन पहले दिन से ही जारहिना थी और उसका इरादा सदन को चलने देने का नहीं था। उन्होंने कहा कि नए वजिरा का तारुफ तक नहीं कराने दिया गया। बिजनेस एडवाइजरी की मीटिंग में तीन मुद्दों पर एक मुख्तसर मुद्दती बहस करने पर इत्तेफाक हुई, लेकिन कांग्रेस ने इन मुद्दों पर चर्चा की इजाज़त नहीं दी और पेगासस जासूसी मामले पर हंगामा करती रही।
उन्होंने कहा कि इस सैशन के दौरान एक मोबाइल फोन से एक चेम्बर का शीशा टूट गया जिसमें एक महिला मार्शल घायल हो गई.उन्होंने इसकी शिकायत भी की. उन्होंने कहा कि सदन अगामी फलाह व बहुबूद के मसायल पर जामीय बहस के लिए है। उन्होंने कांग्रेस के साबिक सदर राहुल गांधी के जम्हूरियत के क़ात्ल के इल्जाम का हवाला देते हुए उन्होने कहा कि अपोजीशन को अपने रवैये पर मुल्क से माफी मांगनी चाहिए।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment