3.4 C
London
Tuesday, February 27, 2024

अच्‍छे नंबर पाने के लिए करना पड़ता था कॉलेज के प्रोफेसर से सेक्स, इस तरह खुला केस!

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

राबत: अच्छे नंबरों के बदले छात्राओं का यौन शोषण (Good Grades in Return For Sexual Favours) करने वाले एक प्रोफेसर (Professor) को जेल भेज दिया गया है. इस हाई-प्रोफाइल केस में अभी 4 और प्रोफेसर्स को अदालत में पेश होना बाकी है. अफ्रीकी देश मोरक्को (Morocco) की अदालत ने एक प्रोफेसर को अभद्र व्यवहार, यौन उत्पीड़न और हिंसा का दोषी ठहराते हुए दो साल कैद की सजा सुनाई है. हसन यूनिवर्सिटी से जुड़ा ये मामला तब सामने आया जब सोशल मीडिया पर स्टूडेंट और प्रोफेसर के बीच हुई चैट लीक हो गई. इसके बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया. 

कुल 5 Professors के नाम आए सामने 

BBC की रिपोर्ट के मुताबिक, मोरक्को में यूनिवर्सिटीज में हाई प्रोफाइल यौन उत्पीड़न (Sexual Harassment) के मामलों में यह पहला अदालती फैसला है. कोर्ट ने Hassan I University के अर्थशास्त्र के प्रोफेसर को अपनी छात्राओं के यौन उत्पीड़न का दोषी करार दिया है. प्रोफेसर छात्राओं को अच्छी ग्रेड देने का झांसा देकर उनका उत्पीड़न करता था. इस मामले अभी 4 और प्रोफेसर्स को अदालत में पेश होना है. यूनिवर्सिटी के कुल पांच प्रोफेसरों पर अच्छे नंबर के बदले छात्राओं को सेक्स के लिए मजबूर करने के आरोप लगे हैं.   

छात्रा ने लीक कर दी थी चैट 

यह मामला तब सामने आया जब पिछले साल सितंबर में सोशल मीडिया पर स्टूडेंट्स और प्रोफेसर के बीच हुई चैट लीक हो गई. दरअसल, यूनिवर्सिटी की एक छात्रा ने चैट को सार्वजनिक कर दिया था. धीरे-धीरे यह मामला फैलता गया और यह चैट लीक विश्वविद्यालय प्रशासन तक पहुंच गई. इसके बाद प्रोफेसर पर मुकदमा दर्ज किया गया और मामला कोर्ट पहुंचा. इस खुलासे के बाद पूरे देश में बवाल हो गया, लोग सड़कों पर उतरकर आरोपियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग करने लगे.  

मोरक्कन यूनिवर्सिटीज की छवि खराब

इसी बीच, कुछ अन्य छात्राओं ने भी ऐसे ही आरोप लगाए तो यूनिवर्सिटी के अन्य प्रोफेसर्स के नाम भी सामने आ गए. कुल पांच प्रोफेसरों के ऊपर आरोप लगाए गए और पांचों के ऊपर मुकदमे दर्ज किए गए. इनमें एक को अब अभद्र व्यवहार, यौन उत्पीड़न और हिंसा का दोषी ठहराया गया है. रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह की घटनाओं की एक सीरीज है, जिसने हाल के वर्षों में मोरक्कन यूनिवर्सिटीज की प्रतिष्ठा को प्रभावित किया है. हालांकि, वर्तमान मामला इस मायने में अलग था कि इसे पहली बार अदालत में लाया गया.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here