दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किला और विभिन्न हिस्सों में हुई हिंसा के बाद किसानों के आंदोलन को लेकर विरोध के स्वर तेज हो गए हैं। नए कृषि कानूनों के विरोध में करीब दो महीनों ने यूपी गेट और गाजीपुर बॉर्डर डेरा डालकर बैठे किसानों को हटाने के लिए पुलिस ने कमर कस ली है। इसके लिए धरनास्थलों के बिजली-पानी काटकर पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती भी बढ़ा दी गई है। पुलिस और अर्धसैनिक बलों की बढ़ी तादाद को देखकर किसान आशंकित दिख रहे हैं। वहीं, राकेश टिकैत के भाषण में बल पूर्वक हटाए जाने का डर दिख रहा है। किसान नेता आगे की रणनीति को लेकर आपस में बैठक कर रहे हैं। 

LIVE UPDATES

– राकेश टिकैत ने कहा कि हमारे साथ अत्याचार किया जा रहा है। कृषि कानून वापस नहीं हुए तो वह आत्महत्या कर लेंगे।

गाजीपुर : भावुक होकर रोते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि किसान को मारने की कोशिश की जा रही है। मैं किसान को बर्बाद नहीं होने दूंगा।

– किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि जबर्दस्ती से किसान आंदोलन बंद नहीं होगा। जब तक सांस चलेगी तब तक लड़ेंगे। अभी हमारी कोई योजना नहीं है। अभी हम मीटिंग करेंगे। पता नहीं सरकार क्या-क्या षड्यंत्र करती है।

किसानों के धरने के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर पर जुटे स्थानीय लोग, पुलिस से धरनास्थल खाली कराने की अपील कर नारेबाजी कर रहे हैं लोग। 

– उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी डीएम और एसएसपी को आदेश दिया है कि वे राज्य में सभी किसान आंदोलन समाप्त करें: सरकारी अधिकारी

दिल्ली पुलिस बताया कि 26 जनवरी की हिंसा के संबंध में दिल्ली के कई थानों में 33 एफआईआर दर्ज की गई हैं। उनमें से नौ को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच में ट्रांसफर कर दिया गया है। इस मामले में किसान नेताओं सहित 44 लोगों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया गया है।

गाजीपुर : राकेश टिकैत ने सरेंडर करने की बात को अफवाह बताया और कहा कि उनका आंदोलन जारी रहेगा।  

– गाजीपुर : टिकैत ने कहा कि तिरंगे का अपमान कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट दीप सिद्धू के दो महीने के कॉल रिकॉर्ड्स की जांच कराए।

– गाजीपुर : राकेश टिकैत ने गुरुवार को कहा कि सुप्रीम कोर्ट जांच कराए कि लाल किले की हिंसा में कौन-कौन शामिल थे। 

– यूपी गेट : किसान नेता गिरफ्तारी देने को तैयार, लेकिन आंदोलन जारी रखने का ऐलान।

– गाजीपुर : बीकेयू से जुड़े सूत्रों ने बताया- भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के गाजियाबाद प्रशासन के समक्ष आत्मसमर्पण करने की संभावना।  

– टीकरी बॉर्डर : हिंसा के बाद पुलिस ने बॉर्डर पर सख्ती बढ़ा दी है। किसानों के धरनास्थल से लगभग 1 किलोमीटर पहले बैरिकेडिंग लगाकर रास्ते को पूरी तरह ब्लॉक कर दिया गया है। टीकरी बॉर्डर मेट्रो स्टेशन के नीचे बैरिकेडिंग कर दी गई है। आम जनता को भी इस मेट्रो स्टेशन का इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी जा रही है। टीकरी बॉर्डर पर पुलिस फोर्स के अलावा कल रात से अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त टुकड़ियों को भी तैनात कर दिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *