NCB की जांच पर सवाल उठाने वाले महाराष्ट्र के ‘मंत्री नबाब मालिक’ को मिली धमकी, सुरक्षा बढ़ाई गई

मनोरंजनNCB की जांच पर सवाल उठाने वाले महाराष्ट्र के 'मंत्री नबाब मालिक' को मिली धमकी, सुरक्षा बढ़ाई गई

मुंबई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पर ‘दुर्भावनापूर्व इरादों’ के साथ काम करने का आरोप लगाया. साथ ही उन्होंने कहा कि वे उनके दामाद समीर खान (Sameer Khan) के खिलाफ लगे आरोपों के रद्द कराने, एजेंसी के खिलाफ और उनके साथ हुए उत्पीड़न के चलते उच्च न्यायालय का रुख करेंगे. एनसीबी ने खान को जनवरी में गिरफ्तार किया था. उन्होंने पिछले महीने जमानत मिल गई है.

मलिक ने आरोप लगाया कि एनसीबी ने 200 किलो हर्बल तंबाकू को गांजा दिखाया था और दफ्तर पर हुई जब्ती की तस्वीरें तैयार की थी. उन्होंने कहा कि एनसीबी को खान के दफ्तर पर छापेमारी में कुछ भी नहीं मिला था. मलिक ने कहा कि मीडिया को 200 किलो गांजा बरामद होने की गलत जानकारी दी गई थी. राकंपा नेता ने आरोप लगाया कि एनसीबी सस्ती लोकप्रियता के लिए बड़े नामों की जानकारी चुनिंदा तौर पर लीक कर रहा है.

हाल ही में मलिक ने यह भी कहा था कि मुंबई में हुई एनसीबी रेड पर खुलासे के बाद से ही उन्हें धमकी भरे फोन आ रहे हैं. उन्होंने जानकारी दी कि धमकियों की शिकायत के बाद उनकी सुरक्षा बढ़ाई गई है. बुधवार को एक विस्तृत जमानत आदेश में विशेष अदालत ने कहा कि खान के खिलाफ कोई भी ड्रग तस्करी और साजिश का मामला नहीं है. उन्हें पिछले महीने जमानत दे दी गई थी.

दमाद के खिलाफ मामले को लेकर मलिक ने कहा कि एनडीपीएस कोर्ट ने कल एक ऑनलाइन आदेश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि मामले में (दामाद समीर खान के खिलाफ) 27(a) लागू नहीं होती है. उनके घर से कुछ भी बरामद नहीं हुआ था. 27(a) को गलत तरीके से लगाया गया था और जमानत दी गई.

मलिक ने बीते हफ्ते आरोप लगाए थे कि 2 अक्टूबर को मुंबई के क्रूज शिप पर हुई रेड ‘फर्जी’ थी और वहां से कोई भी नार्कोटिक ड्रग नहीं मिले थे. मलिक ने अपने दामाद खान की संलिप्तता वाले मामले में एनडीपीएस (राष्ट्रीय स्वापक औषधि एवं मन:प्रभावी पदार्थ) की एक अदालत द्वारा दिए गए जमानत संबंधी आदेश का जिक्र करते हुए कहा, ‘नशीले पदार्थों के गिरोह का प्रथमदृष्ट्या कोई सबूत नहीं मिला है.’

एनसीपी नेता ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि एनसीबी जैसी एजेंसी स्वापक औषधि और मन-प्रभावी पदार्थ अधिनियम (NDPS) और तम्बाकू संबंधी सामग्रियों के अंतर्गत आने वाले मादक पदार्थों के बीच अंतर समझ नहीं सकती. राकांपा नेता ने कहा, ‘एनसीबी ने कहा कि (समीर खान की संलिप्तता वाले मामले में) गांजा जब्त किया गया था, लेकिन ऐसा कुछ नहीं था. मुझे जमानत संबंधी आदेश के बाद आज चीजें स्पष्ट करनी थी, क्योंकि भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) क्रूज पार्टी को लेकर एनसीबी के फर्जी मामले पर मेरे सवाल उठाने के बाद से मेरे दामाद को लेकर मुझे निशाना बना रही है.’ मलिक ने आरोप लगाया कि एनसीबी के कारण उनके परिवार को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles