23 C
London
Monday, June 24, 2024

न्याय के लिये दर-दर भटकने को मजबूर है विधवा महिला सबीना

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

बाराबंकी। एक विधवा महिला परिवार रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराने के लिये दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर हो रही है लेकिन अधिकारी उसकी सुनवाई नही कर रहे है जिससे वह हैरान परेशान है, ऐसा ही मामला तब संज्ञान में आया है जब पीड़ित विधवा महिला मुख्यमंत्री समेत आला अधिकारियों को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है।

मामला थाना जैदपुर के ग्राम टिकरा का है। पीड़ित महिला माया उर्फ सबीना ने बताया कि उसने 12 दिसम्बर 2017 मे ग्राम टिकरा निवासी अब्दुल गनी के साथ मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार निकाह व कोर्ट मैरिज किया था। पीड़ित तभी से पति पत्नी के रूप में रह रहे थे।

माया उर्फ सबीना ने बताया कि उसके पैरों तले तब जमीन निकल गई जब पति अब्दुल गनी की बीती 2 जून 2020 को उसकी मृत्यु हो गई। तबसे पीड़िता अपने हक व अधिकार पाने के लिय़े परिवार रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराने के लिये हरख ब्लाक के चक्कर काट रही हैं लेकिन अधिकारी उसकी सुनवाई नही कर रहे।

जिससे वह दर-दर की ठोकरें खाने को विवश है। पीड़िता ने बताया कि वह न केवल इस संबंध मे खण्ड विकास अधिकारी से फरियाद लगा चुकी है बल्कि प्रधान एंव ग्राम विकास अधिकारी से भी कई बार मिलकर मिन्नते की किन्तु उसका नाम आज तक परिवार रजिस्टर पर दर्ज नही किया गया है जिससे हैरान परेशान है पीड़िता ने मुख्यमंत्री सहित आला अधिकारियों को प्रार्थना पत्र भेजकर न्याय दिलाने के लिये गुहार लगाई है ताकि उसे न्याय मिल सके।

-सांकेतिक तस्वीर

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here