13.1 C
Delhi
Monday, November 28, 2022
No menu items!

आपको लगाई जा रही ‘वैक्सीन’ असली है या नकली, केंद्र सरकार ने बताया कैसे पहचाने

- Advertisement -
- Advertisement -

कोरोना के खिलाफ जंग में बड़े स्तर पर ज्यादा से ज्यादा लोगों कोरोना रोधी वैक्सीन लगाई जा रही है। इस बीच फर्जी वैक्सीन की कई खबरें भी सामने आ रही है। हाल ही में दक्षिण पूर्वी एशिया और अफ्रीका में नकली कोविशील्ड पाई गई थी, जिसके बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने फर्जी टीकों को लेकर सचेत किया था। ऐसे में भारत में केंद्र सरकार ने कई ऐसे मानक बताएं हैं, जिनके आधार पर यह पता लगाया आसान हो जाता है कि आपको लगाई जा रही वैक्सीन असली है या नकली। केंद्र सरकार ने इसको लेकर राज्यों को शनिवार को पत्र भी लिखा है। इस पत्र में राज्यों कोवैक्सीन, कोविशील्ड और स्पूतनिक-वी टीकों से जुड़ी हर जानकारी बताई है ताकि यह पता लगाया जाए कि ये टीके नकली तो नहीं हैं। फिलहाल देश में इन्हीं तीन टीकों से टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। 

केंद्र ने राज्यों को एक असली वैक्सीन की पहचान के लिए सभी जरूरी जानकारी दी है, जिसे देखकर पहचान की जा सकती है कि वैक्सीन असली है या नकली। इसमें अंतर पहचानने के लिए कोविशील्ड, कोवैक्सिन और स्पूतनिक-वी तीनों वैक्सीन पर लेबल, उसके कलर, ब्रांड का नाम क्या होता है, इन सब की जानकारी साझा की गई है।

कोवैक्सीन (Covaxin)

– लेबल पर इनविजिबल यानी अदृश्य UV हेलिक्स, जिसे सिर्फ यूवी लाइट में ही देखा जा सकता है।
– लेबल क्लेम डॉट्स के बीच छोटे अक्षरों में छिपा टेक्स्ट, जिसमें COVAXIN लिखा है।
– कोवैक्सिन में ‘X’ का दो रंगों में होना, इसे ग्रीन फॉयल इफेक्ट कहा जाता है।

कोविशील्ड (Covishield)

– SII का प्रोडक्ट लेबल, लेबल का रंग गहरे हरे रंग में होगा।
– ब्रांड का नाम ट्रेड मार्क के साथ (COVISHIELD)।
– जेनेरिक नाम का टेक्स्ट फॉन्ट बोल्ड अक्षरों में नहीं होगा।
– इसके ऊपर CGS NOT FOR SALE ओवरप्रिंट होगा।

- Advertisement -

स्पूतनिक-वी (Sputnik-V)

– चूंकि स्पूतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन रूस की दो अलग प्लांटों से आयात की गई है, इसलिए इन दोनों के लेबल भी कुछ अलग-अलग हैं। हालांकि, सभी जानकारी और डिजाइन एक सा ही है, बस मैन्युफेक्चरर का नाम अलग है।
– अभी तक जितनी भी वैक्सीन आयात की गई हैं, उनमें से सिर्फ 5 एमपूल के पैकेट पर ही इंग्लिश में लेबल लिखा है। इसके अलावा बाकी पैकेटों में यह रूसी में लिखा है।

- Advertisement -
Jamil Khan
Jamil Khan
Jamil Khan is a journalist,Sub editor at Reportlook.com, he's also one of the founder member Daily Digital newspaper reportlook
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here