7.4 C
London
Wednesday, April 17, 2024

तालिबान ने काबुल नहर में बहाई 3000 लीटर शराब, और मुसलमानों को दिया मेसेज

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

काबुल. अफगानिस्तान की नई तालिबान (Taliban) सरकार की खुफिया इकाई के एजेंटों ने देश में शराब के कारोबार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. इसके तहत करीब 3,000 लीटर शराब जब्त काबुल नहर में बहा दी गई है. इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया है. अफगानिस्तान के खुफिया इकाई के महानिदेशक (GDI) ने यह वीडियो पर अपने अधिकृत ट्विटर हैंडल पर जारी किया है. इसमें खुफिया इकाई के एजेंट राजधानी काबुल के लिए विभिन्न स्थानों पर की छापामार कार्रवाई के दौरान जब्त की गई शराब को नहर में बहाते हुए दिख रहे हैं.

जीडीआई ने रविवार को यह वीडिेयो अपने ट्विटर हैंडल पर अपलोड किया है. इसमें एक धार्मिक नेता भी नजर आ रहे हैं. वे कह रहे हैं, ‘मुसलमानों को शराब पीने-पिलाने से परहेज करना चाहिए. इसके कारोबार से दूर रहना चाहिए.’ जीडीआई ने हालांकि यह नहीं बताया है कि यह शराब कब जब्त की गई और इसे कब बहाया गया. लेकिन इतना जरूर बताया है कि तीन शराब कारोबारियों को गिरफ्ताार किया गया है.

बताते चलें कि अफगानिस्तान में पिछली सरकार के दौरान भी शराब पीने और बेचने पर पाबंदी लगी हुई थी. पर तब इतनी सख्ती नहीं थी. जबसे 15 अगस्त 2021 से अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा हुआ है, ऐसे मामलों में सख्ती बढ़ी है. तालिबान चूंकि सख्त इस्लामिक नियम-कायदों पर चलने वाला कट्‌टर संगठन है, इसलिए सरकार पर उसके कब्जे के बाद से पूरे देश में शराब का नशा करने और खरीद-फरोख्त करने वालों के खिलाफ छापे की कार्रवाईयां भी लगातार जारी हैं.

तालिबान की सरकार में एक अलग मंत्रालय बनाया गया है. इसका नाम ‘प्रमोशन ऑफ वर्च्यू एंड प्रिवेंशन ऑफ वाइस’ है. इस मंत्रालय ने लोगों के लिए कई दिशा-निर्देश जारी किए हैं. बताया है कि वे उन्हें इस्लाम के कौन से नियमों का जीवन में सख्ती से पालन करना चाहिए और किन बुराईयों को तुरंत छोड़ देना चाहिए. मंत्रालय ने इन दिशा-निर्देशों में महिलाओं के लिए तमाम पाबंदियों का भी जिक्र किया है.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here