मॉस्को, फरवरी 20: पूर्वी यूक्रेन में काफी तनावपूर्ण हो चुके हालात के बीच अब आशंका इस बात की है, कि कभी भी यूक्रेन और रूस के बीच लड़ाई शुरू हो सकती है और रूस यूक्रेन पर हमला कर सकता है। खासकर कल जिस तरह से रूस ने परमाणु हथियारों के साथ युद्धाभ्यास किया है, उससे यूक्रेन काफी घबराया हुआ लगता है। इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने रूसी राष्ट्रपति के सामने शांति का संदेश भेजा है और तनाव के बीच मिलने का आग्रह किया है।

यूक्रेन का शांति संदेश

यूक्रेन के ऊपर युद्ध से बचने का भारी प्रेशर है, लेकिन अब मामला हाथ से निकलता जा रहा है। खासकर पूर्वी यूक्रेन में रूस समर्थित अलगाववादियों ने जिस तरह से हिंसा करना शुरू किया है, उसके बाद रूसी आक्रमण की संभावना काफी बन गई है। इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति ने रूसी राष्ट्रपति से मुलाकात करने और बातचीत के जरिए तनाव को टालने का आग्रह किया है। यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा कि, ‘मुझे नहीं पता है कि रूस के राष्ट्रपति और रूसी संघ का चाहता है, लिहाजा हमने हमने उनके सामने मुलाकात का प्रस्ताव रखा है।’ यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने ये प्रस्ताव म्यूनिख सिक्योरिटी क्रांफ्रेंस के दौरान रखी है, जिसमें अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस भी मौजूद थीं।

रूस तय करे मुलाकात का कार्यक्रम

यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने कहा कि, चाहे तो रूस तय कर ले कि मुलाकात कहां होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि, ‘यूक्रेन लगातार कूटनीतिक रास्ते के जरिए विवाद और तनाव का शांतिपूर्ण समाधान करना चाहता है।’ हालांकि, यूक्रेन के राष्ट्रपति के प्रस्ताव पर अभी तक रूस की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। यूक्रेनी राष्ट्रपति ने मुलाकात का प्रस्ताव ऐसे वक्त में दिया है, जब पूर्वी यूक्रेन में रूस समर्थित विद्रोही नेताओं ने शनिवार को पूर्ण सैन्य लामबंदी के आदेश दिए हैं और विद्रोहियों के क्षेत्र से यूक्रेन के लोगों को निकालने की कोशिश तेजी के साथ शुरू हो गई है। वहीं, पश्चिमी देशों के तरफ से रूस पर धमकियों की बारिश की जा रही है।

यूक्रेन छोड़ रहे विदेशी

वहीं, युद्ध के बनते हालात के बीच ऑस्ट्रिया और जर्मनी ने अपने नागरिकों से फौरन यूक्रेन से बाहर निकलने को कहा है। वहीं, जर्मन एयर कैरियर लुफ्थांसा ने यूक्रेन की राजधानी, कीव, और ओडेसा, काला सागर बंदरगाह के लिए उड़ानें रद्द कर दीं हैं, जो कि रूसी सैनिकों एक प्रमुख लक्ष्य हो सकता है। वहीं, नाटो ने कहा है कि, वो अपने अधिकारियों और कर्मचारियों को राजधानी कीव से ब्रसेल्स और दूसरे यूक्रेनियन शहर लीव में ट्रांसफर कर रहा है। इस बीच, यूक्रेन के शीर्ष सैन्य अधिकारी के विद्रोहियों के हमले में घायल होने की भी खबर है, जो करीब आठ साल के बाद विद्रोहियों के इलाके में गये थे। पूर्वी यूक्रेन में हिंसा हाल के दिनों में तेज हो गई है और यूक्रेन और विद्रोहियों के कब्जे वाले दो क्षेत्रों ने एक-दूसरे पर तनाव बढ़ने का आरोप लगाया है। रूस ने शनिवार को कहा कि पूर्वी यूक्रेन के सरकार के कब्जे वाले हिस्से से कई गोले दागे गये हैं, वहीं अमेरिका ने इसे रूस का फॉल्स प्लैग ऑपरेशन कहा है।

रूस का शक्ति प्रदर्शन

युक्रेन संग तनाव के बीच रूस ने परमाणु हथियारों के साथ युद्धाभ्यास भी किया है। ये परमाणु अभ्यास दुनिया के लिए एक नई चिंता बन गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक क्रेमलिन ने कहा कि रूस ने शनिवार को राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उनके बेलारूसी समकक्ष की देखरेख में रणनीतिक परमाणु अभ्यास के हिस्से के रूप में बैलिस्टिक और क्रूज मिसाइलों के साथ समुद्र और भूमि आधारित लक्ष्यों को मार गिराया। क्रेमलिन ने एक बयान में कहा कि वार्षिक अभ्यास में किंजल और सिर्कोन हाइपरसोनिक मिसाइलों और कई अन्य हथियारों का प्रक्षेपण किया गया।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment