Punjab Patiala Violence: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि पटियाला में हुआ संघर्ष दो राजनीतिक दलों के बीच हुआ था, दो समुदायों के बीच नहीं. उन्होंने इस हिंसा के लिए शिरोमणि अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी को जिम्मेदार बताया. उन्होंने कहा कि हिंसा के लिए किसने उकसाया यह पता करने के लिए जांच की जा रही है और इसमें संलिप्त किसी भी व्यक्ति को, फिर चाहे वो कोई भी हो, बख्शा नहीं जाएगा.

मान ने लगाया विपक्ष पर भड़काने का आरोप

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, ”यह संघर्ष दो राजनीतिक दलों के बीच हुआ था ना कि दो समुदायों के बीच. पंजाब में लोग शांति से रहते हैं. हिंसक घटनाएं किसने भड़काईं इसकी जांच की जा रही है. किसी को बख्शा नहीं जाएगा.” मान मुख्यमंत्रियों और हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीशों के साथ एक सम्मेलन में हिस्सा लेने दिल्ली आए हैं. उन्होंने आरोप लगाया, ”विपक्ष ऐसी घटनाओं के लिए भड़का रहा है क्योंकि उन्हें राज्य में आम आदमी पार्टी (आप) की सफलता देखी नहीं जा रही है और इसलिए वे ऐसा कर रहे हैं.”

संघर्ष में घायल हुए थे चार लोग

गौरतलब है कि खुद को शिवसेना (बाल ठाकरे) संगठन का सदस्य बताने वाले कुछ लोगों ने ‘खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च’ शुरू कर दिया जिसके कारण काली माता मंदिर के सामने संघर्ष हुआ. वहीं कुछ सिख कार्यकर्ताओं, जिनमें निहंग भी शामिल थे, ने उक्त मोर्चा के खिलाफ एक दूसरा मोर्चा निकाला. संघर्ष में चार लोग घायल हुए हैं. मान ने कहा कि हिंसा वाले दिन भाजपा की पंजाब इकाई के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा मंदिर में पूजा करने जा रहे थे. उन्होंने सवाल किया, ”वह (शर्मा) वहां क्यों जा रहे थे? हम किसी को नहीं छोड़ेंगे फिर चाहे वह कोई भी हो या किसी पद पर हो.”

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment