पुजारी को नौकरी से निकाला दूसरे पुजारी को दी कन्हैयालाल की तरह सिर तन से जुदा करने की धमकी 

राज्यपुजारी को नौकरी से निकाला दूसरे पुजारी को दी कन्हैयालाल की तरह सिर तन से जुदा करने की धमकी 

भरतपुर. भरतपुर के महारानी जया कॉलेज परिसर में स्थित मंदिर के पुजारी को सिर तन से जुदा (Threatened to sever head) करने की धमकी देने के मामले का पुलिस ने दो दिन में खुलासा करते हुये एक दंपति को गिरफ्तार किया है. आरोपी दंपति से हुई पूछताछ में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. आरोपी दंपति ने पुजारी को मंदिर से डराकर हटाने की नीयत से यह साजिश रची थी. पुजारी अच्छे से डर जाये इसके लिये उन्होंने उदयपुर के कन्हैयालाल (Udaipur Kanhaiyalal Murder Case) जैसा हाल करने की धमकी देते हुये वहां पत्र चस्पा कर दिया था. पुलिस ने दंपति के खिलाफ मथुरा गेट थाने में कई धाराओं में मामला दर्ज किया है.

पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह ने बताया कि 15 जुलाई को सुबह 6.30 बजे हनुमान मंदिर के पुजारी ताराचंद को मंदिर में एक पत्र चिपका हुआ मिला था. उसमें ताराचंद का सिर तन से जुदा कर देने की धमकी लिखी हुई थी. पत्र में पुजारी से कहा गया था कि या तो मंदिर छोड़ दो नहीं तो 10 दिन बाद आपका कन्हैयालाल की तरह सिर कलम कर दिया जायेगा. पत्र में प्रेषक के रूप में कामां पहाड़ी लिखा हुआ था.

आरोपी को 4 महीने पहले मंदिर से हटा दिया गया था
इस पर पुजारी ने पुलिस को सूचना दी. सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले और संदिग्ध लोगों से पूछताछ की. जांच में सामने आया कि इस मंदिर के पहले पुजारी मनोज शास्त्री को कॉलेज प्रशासन ने 4 महीने पहले हटाकर ताराचंद को वहां रख लिया था. इस पर पुलिस मामले की कड़ी से कड़ी जोड़ते हुये मनोज शास्त्री तक पहुंची. पुलिस ने उससे पूछताछ की तो पूरी सच्चाई सामने आ गई.

मनोज ने पत्नी के साथ मिलकर रचा षड़यंत्र
मनोज शास्त्री से पूछताछ में सामने आया कि मंदिर से हटा दिये जाने से वह पूरी तरह बेरोजगार हो गया था. इसी से वह खफा हो गया था. इस पर उसने नये पुजारी ताराचंद को वहां से हटाने के लिये धमकी भरे पत्र का सहारा लिया ताकि वह डर कर मंदिर को छोड़ दे और उसे नौकरी वापस मिल जाये. इसके लिये मनोज ने शातिराना अंदाज अपनाते हुये अपनी पत्नी मनीषा से धमकी भरा पत्र लिखवाया ताकि कोई हैंड राइटिंग ना पहचान सके. पत्नी भी उसकी बातों में आ गई और उसने पत्र लिख दिया.

मुख्य आरोपी को पुलिस ने लिया रिमांड पर
इसमें उदयपुर की घटना का जिक्र इसलिये किया गया था मामले का रुख मोड़ा जा सके. लेकिन पुलिस की गहराई से की गई छानबीन में उसकी साजिश का पर्दाफास हो गया और वह पत्नी समेत पकड़ा गया. पूछताछ में आरोपी मनोज शास्त्री ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया. दोनों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उनको अदालत में पेश किया. वहां से पत्नी को जेल भेज दिया गया जबकि आरोपी मनोज को पूछताछ के लिये पुलिस को रिमांड पर सौंप दिया गया. पुलिस उससे गहनता से पूछताछ करने में जुटी है.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles