वाराणसी: धर्म, कला और संस्कृति की नगरी काशी का मिजाज अलहदा है। तीज-त्योहारों के अवसर पर काशीवासी जाति-धर्म की भावना से परे उठ कर उत्सव के माहौल में डूब जाते हैं और सिर्फ इंसानियत को याद रखते हैं।

खुशियां बांटने के पर्व ईद पर मंगलवार को एक बार फिर काशी ने प्रदेश और देश के लोगों को गंगा-जमुनी तहजीब का संदेश दिया। सिगरा क्षेत्र में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ मार्ग स्थित बड़ी ईदगाह से नमाज पढ़ कर निकले मुस्लिम बंधुओं को हिंदुओं ने शर्बत पिला कर ईद की मुबारकबाद दी। हिंदू-मुस्लिम के इस आपसी प्रेम और सद्भाव की शहर भर में खासी चर्चा रही।

नमाजी भाइयों से उनकी दुआएं लेते हैं बड़ी ईदगाह के समीप स्टॉल लगाकर शर्बत पिला रहे भगत सिंह यूथ फ्रंट के अध्यक्ष हरीश मिश्रा ने कहा कि हम लोग हर वर्ष नमाजी भाइयों को ईद पर स्वागत करते हैं। बनारस गंगा-जमुनी तहजीब का शहर है। नमाजी भाइयों को हम शर्बत पिला कर उनकी दुआएं लेते हैं। हम अपने मुस्लिम भाइयों के साथ ईद मनाते हैं और वो हमारे साथ होली-महाशिवरात्रि मनाते हैं।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment