कनाडाई सरकार हिंदू प्रतीक स्वास्तिक पर बैन लगाने की तैयारी में है। हालांकि अभी सरकार ने इस पर अंतिम फैसला नहीं लिया लेकिन उससे पहले कनाडा को कई तरह के विरोध प्रदर्शनों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल इस मसले पर विवाद तब शुरू हुआ जब स्वास्तिक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने के लिए कनाडा की संसद में एक विधेयक लाया। न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी या एनडीपी के नेता जगमीत सिंह के समर्थन वाले निजी सदस्यों के बिल ने भारत-कनाडाई समुदाय को उग्र बना दिया है।

तो क्या हिंदू स्वास्तिक और नाजी स्वास्तिक को लेकर कन्फ्यूज है कनाडा?

अमेरिका स्थित एक प्रमुख हिंदू संगठन ने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और बिल के समर्थन वाले भारतीय मूल के नेता जगमीत सिंह से आग्रह किया है कि वे हिंदुओं के लिए एक प्राचीन और शुभ प्रतीक ‘स्वास्तिक’ को ‘हकेनक्रेज’ के साथ न मिलाएं। ‘हकेनक्रेज’ एक स्वास्तिक जैसा दिखने वाला प्रतीक है जो 20वीं सदी में नाजियों द्वारा इस्तेमाल किया जाता था।

मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए, हिंदूपैक्ट (हिंदू पॉलिसी रिसर्च एंड एडवोकेसी कलेक्टिव) ने ट्रूडो और सिंह से आग्रह किया है कि वे हिंदुओं, बौद्धों, सिखों और दुनिया भर के कई स्वदेशी समुदायों के लिए एक प्राचीन और शुभ प्रतीक “स्वस्तिक” को “हकेनक्रेज” के साथ न मिलाएं। हिंदूपैक्ट के कार्यकारी निदेशक उत्सव चक्रवर्ती ने कहा, “हमारा मानना है कि इस गलत बयानी से हिंदुओं और सिखों के खिलाफ घृणा अपराध होंगे। पिछले महीने अकेले कनाडा में छह हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की गई और लूटपाट की गई।”

भारत सरकार ने लिया संज्ञान

टोरंटो स्थित अधिकार अधिवक्ता रागिनी शर्मा को जवाब देते हुए भारत के महावाणिज्यदूत अपूर्व श्रीवास्तव ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर औपचारिक रूप से कनाडा सरकार से बात की है। इस संबंध में कनाडाई समूहों से प्राप्त याचिकाओं को उनके साथ साझा किया है। वहीं लिबरल पार्टी के सांसद चंद्र आर्य इस मामले को हाउस ऑफ कॉमन्स में उठा सकते हैं। 

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment