हिंदू लड़की ने मर्जी से की मुस्लिम युवक से शादी, कट्टर हिंदुत्ववादी भीड़ ने लड़के के 3 घर जला दिया

रेलेशन्शिपहिंदू लड़की ने मर्जी से की मुस्लिम युवक से शादी, कट्टर हिंदुत्ववादी भीड़ ने लड़के के 3 घर जला दिया

आगरा (Agra) के सिकंदरा में एक युवक और युवती ने अंतरधार्मिक शादी (Inter Faith Marriage) कर ली. दोनों ने सोशल मीडिया पर कई वीडियो भी पोस्ट कर बताया कि शादी अपनी मर्जी से की है. हालांकि, युवती के परिजनों ने युवक के खिलाफ अपहरण का मुकदमा कर दिया.

इधर कुछ दक्षिणपंथी संगठन भी इस मामले में कूद पड़े. युवक का घर जला दिया गया. मामले को लेकर पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठे. एक पुलिस अधिकारी को सस्पेंड भी किया गया. युवक का घर जलाने वाली भीड़ के खिलाफ मामला दर्ज किया गया.

मामला क्या है?

इंडिया टुडे से जुड़े अमित भारद्वाज की रिपोर्ट के मुताबिक, पूरा घटनाक्रम आगरा के सिकंदरा इलाके में स्थित रुनकता गांव का है. इसी गांव की 22 वर्षीय रितिका जैन और 26 वर्षीय साजिद लंबे समय से रिलेशनशिप में थे. साजिद गांव में जिम चलाता है, वहीं रितिका ने हाल ही में मास्टर्स की पढ़ाई पूरी की थी. रिपोर्ट के मुताबिक, 11 अप्रैल को पता चला कि दोनों ने दिल्ली के तीस हजारी इलाके में आर्य समाज विधि से शादी कर ली. साथ ही साजिद ने हिंदू धर्म अपनाकर अपना नाम साहिल रख लिया. उसने अखबार में भी इसका इश्तिहार दिया था.

जब रितिका के परिजनों को ये खबर मिली, तो उन्होंने साजिद के खिलाफ आईपीसी की धारा 366 (अपहरण और महिला को शादी के लिए मजबूर करना) के तहत मामला दर्ज करा दिया. पुलिस ने कार्रवाई करते हुए रितिका को खोजा और उसे नारी निकेतन में भेज दिया. इधर साजिद का अभी तक कुछ पता नहीं चला है. साजिद के दादा का कहना है कि पुलिस अधिकारी ने उन्हें बताया कि साजिद को पूरी सुरक्षा दी गई है, उसे कुछ नहीं होने दिया जाएगा. वहीं रितिका का बयान कोर्ट में दर्ज किया जाएगा.

इधर रितिका और साजिद की शादी की बात दक्षिणपंथी संगठनों को नागवार गुजरी. पहले इन लोगों ने एक पंचायत की और साजिद को सजा देने का फैसला किया. फिर करीब 200-250 लोगों की भीड़ नारेबाजी करती हुई साजिद और उसके परिवार के तीन घरों के पास पहुंची. भीड़ ने इन घरों में तोड़फोड़ और आगजनी की. जब बेकाबू भीड़ उपद्रव कर रही थी, तब साजिद के परिवार ने पुलिस को फोन भी किया था. रिपोर्ट के मुताबिक, रुनकता चौकी इनचार्ज उनको यही कहते रहे कि वे फोर्स के साथ आ रहे हैं, लेकिन आधे घंटे बाद जब भीड़ चली गई, उसके बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची. मामले में लापरवाही बतरने के लिए चौकी इनचार्ज जितेंद्र सिंह को निलंबित कर दिया गया है.

लड़की के परिजनों ने क्या कहा?

इधर रितिका के पिता ने आजतक को बताया कि रितिका के ‘गायब’ होने के बाद उन्होंने पुलिस में FIR दर्ज कराई थी. उनका कहना है कि अगले ही दिन पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी. पुलिस को रितिका दिल्ली के तीस हजारी इलाके में मिली. साथ ही जिस गाड़ी में उसे ले जाया गया था, उसके ड्राइवर को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. हालांकि रितिका के पिता इस बात को मानते हैं कि उनकी बेटी साजिद के साथ पिछले कई सालों से रिलेशनशिप में थी, लेकिन उन्हें पिछले हफ्ते ही इसके बारे में पता चला. रितिका के पिता ने आगे बताया,

“मेरी बेटी का ब्रेनवॉश कर दिया गया है. उन्होंने दिल्ली के तीस हजारी इलाके के आर्य समाज मंदिर में शादी की. हमें उसके बयान दर्ज होने का इंतजार है. अगर वो हमारे पास वापस आना चाहती, तो ठीक है. लेकिन अगर वो नहीं आना चाहती है, तो हमे ये समझ लेंगे की उसे हमेशा के लिए खो चुके हैं.”

इसके साथ ही रितिका के पिता ने ये भी बताया कि रितिका और साजिद ने सोशल मीडिया पर अपनी शादी की बात बताई है और उन्हें इस बारे में पता है. उनका कहना है कि वे रुनकता में हुई पंचायत में मौजूद थे, लेकिन उनका इस हिंसा में कोई हाथ नहीं है.

पुलिस ने क्या कहा?

इधर इस पूरी घटना के बार में जानकारी देते हुए आगरा के एसएसपी सुधीर सिंह ने बताया,

“चार दिन पहले एक लड़की लड़के के साथ चली गई थी, दोनों बालिग थे. ये दोनों अलग संप्रदाय के थे, लड़की पुलिस द्वारा बरामद कर ली गई है. कोर्ट बंद होने के कारण उसका बयान दर्ज नहीं हो पाया है. इस बीच धर्म जागरण समन्वय संघ के कुछ लोग इकट्ठे हुए और जिस लड़के के साथ लड़की गई थी, उसके घर में आग लगा दी. मैं मौके पर हूं. आग बुझा दी गई है. यहां पर पूरी तरह से शांति है. FIR लिखी जा रही है. जल्दी ही सबकी गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाएगी. कुछ लोग अभी पकड़े गए हैं. उनसे पूछताछ की जा रही है.”

इस घटना के बारे में जनकारी देते हुए आगरा के एसएसपी सुधीर सिंह ने आगे कहा कि लापरवाही बरतने पर रुनकता के चौकी इनचार्ज को सस्पेंड कर दिया गया है, और थाना इनचार्ज के खिलाफ जांच बिठाई गई है. अगर उनकी भी लापरवाही पाई जाएगी, तो इनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी. 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती थी, पुलिस बल वहां व्यस्त था, इसका फायदा उठाकर इन लोगों ने ऐसा किया है. दोषियों के खिलाफ गैंगस्टर ऐक्ट और NSA के तहत कार्रवाई की जाएगी.


Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles