Delhi News: इन दिल्ली में एक गांव का नाम बदलने को लेकर चर्चा ज़ोरों पर है. हाल ही में गांव मोहम्मदपुर का नाम बदलकर माधवपुरम करने के प्रस्ताव को अग्रिम मंजूरी दी गई है. इस बात की जानकारी दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर मुकेश सूर्यन ने दी थी. अब इस प्रस्ताव को लेकर गांव के अंदर रोज़ चौपाल लग रही है. इसमें गांव वाले गांव का नाम बदलने के विषय में चर्चा करते हैं. गांव वाले गांव की पहचान और इसका नाम कैसे मिला, इसको लेकर खूब तीखी चर्चा में लगे हैं.

जाट बहुल गांव है मोहम्मदपुर

आपको बता दें कि यह गांव दक्षिणी दिल्ली में भीकाजी कामा प्लेस के नज़दीक बसा हुआ है. मोहम्मदपुर जाट बहुल गांव है. इसका नाम मोहम्मदपुर से माधवपुरम करने का विषय तब शुरू हुआ जब जुलाई में दक्षिणी दिल्ली नगर निगम से पार्षद भगत सिंह टोकस ने जोनल कमेटी की बैठक में शहरी गांव का नाम बदलने का प्रस्ताव पेश किया.

पार्षद भगत सिंह टोकस ने कही ये बात

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम पार्षद भगत सिंह टोकस का कहना है कि मुगल काल में सभी गांवों के नाम जबरन बदले गए थे. मोहम्मदपुर का नाम बदलने की ग्रामीणों की मांग लंबे समय से लंबित है और इसी वजह से यह प्रस्ताव दिया गया है. टोकस का यह भी कहना है कि लोगों की मांग और भावनाओं को देखते हुए मैंने मोहम्मदपुर से माधवपुरम नाम बदलने का प्रस्ताव रखा है. क्योंकि हमारे बुजुर्गों का मानना है कि मुगल काल में गांव का नाम बदल दिया गया था.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment