यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दो दिन पहले संगम नगरी प्रयागराज में माफिया घोषित किए गए पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के कब्ज़े से खाली कराई गई जिस ज़मीन पर भूमि पूजन कर गरीबों के लिए सस्ते दाम पर आशियाना बनाए जाने के अभियान का आगाज़ किया था, उस ज़मीन को लेकर अब विवाद खड़ा हो गया है.

बाहुबली अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन ने इस ज़मीन को अपने परिवार से जुड़े करीबियों की बताते हुए योगी सरकार की मंशा पर सवाल खड़े किये हैं और मामले को अदालत की दहलीज तक ले जाने की बात कही है.

इतना ही नहीं बाहुबली की पत्नी ने सूबे के कैबिनेट मंत्री और इलाके के विधायक सिद्धार्थनाथ सिंह पर जमकर निशाना साधते हुए उन्हें गरीबों के आशियाने बनवाने के लिए अपनी पुश्तैनी ज़मीन मुफ्त में दिए जाने का एलान भी किया है. शाइस्ता ने सिद्धार्थनाथ को चुनौती देते हुए कहा है कि वह अपनी पुश्तैनी ज़मीनों को गरीबों के मकान बनाने के लिए मंत्री सिद्धार्थ को मुफ्त में देने को तैयार है, लेकिन शर्त यह है कि उन्हें इन ज़मीनों पर अपनी कमाई से गरीबों के मकान का निर्माण कराना होगा.

शाइस्ता परवीन ने कही ये बात

शाइस्ता परवीन का कहना है कि इलाके के विधायक और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने महज़ सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ को गुमराह कर उनसे विवादित ज़मीन पर भूमि पूजन कराया था. शाइस्ता का दावा है कि सीएम योगी ने लूकरगंज इलाके की जिस 1531 वर्ग मीटर ज़मीन पर भूमि पूजन किया था, उस पर कभी उनके पति अतीक का कब्ज़ा ही नहीं था. यह ज़मीन अतीक के पारिवारिक मित्र रफात अहमद के नाम की है. उनके पास इसकी रजिस्ट्री भी है. ज़मीन के इस हिस्से के विवाद को लेकर अदालत में मुकदमा विचाराधीन हैं. रफात अहमद यह ज़मीन पैसे लेकर अतीक के परिवार के नाम लिखने की तैयारी में थे, लेकिन मंत्री सिद्धार्थनाथ ने न सिर्फ इस ज़मीन पर बुलडोज़र चलवा दिया, बल्कि सीएम योगी से सच्चाई छिपाकर उनसे भूमि पूजन कराकर गरीबों के लिए सस्ते मकान बनाए जाने के अभियान का कथित तौर पर आगाज़ भी करा दिया.

शाइस्ता परवीन के मुताबिक़, मंत्री सिद्धार्थनाथ ने वोटों के ध्रुवीकरण और अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए यह हथकंडा अपनाया है. मंत्री के रसूख के चलते ही ज़िले के अधिकारी भी सीएम योगी को हकीकत बताने की हिम्मत नहीं जुटा सके थे. शाइस्ता ने अपनी बात रखने के लिए शहर के एक बड़े होटल में प्रेस कांफ्रेंस भी बुलाई, लेकिन एन वक़्त पर होटल संचालक ने प्रशासन से धमकी मिलने का दावा करते हुए किसी को भी कुर्सी तक देने से इंकार कर दिया. ऐसे में शाइस्ता समेत अतीक के परिवार के बाकी लोगों को सड़क पर खड़े होकर मीडिया से मुखातिब होना पड़ा. इस दौरान वहां काफी देर तक हंगामे और अफरा तफरी के हालात रहे.

सीएम योगी ने किया था शिलान्यास

गौरतलब है कि यूपी सरकार ने सूबे में माफियाओं के कब्ज़े से खाली कराई गई ज़मीन पर गरीबों के लिए कम कीमत पर आवास बनाए जाने के अभियान का आगाज़ रविवार की शाम को संगम नगरी प्रयागराज से किया था. अभियान की शुरुआत खुद सीएम योगी ने माफिया घोषित किये गए पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के कब्ज़े से लूकरगंज इलाके में खाली कराई गई ज़मीन पर भूमि पूजन व शिलान्यास करके की थी. मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने इस बारे में कहा था कि बाहुबली के आतंक से कांपने वाले लोग अब उसकी ज़मीन पर ही सिर छिपाने के लिए छत पा सकेंगे. गरीबों के आशियाने की सुगबुगाहट मिलते ही आतंक फैलाने वालों के सीने पर सांप लोटने लगा है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment