7.8 C
London
Monday, April 15, 2024

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई नूपुर शर्मा को लताड़, देश के लिए खतरा और उदयपुर घटना के लिए बताया जिम्मेदार

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी करने वालीं नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाई है। अदालत ने उन्हें टीवी पर जाकर पूरे देश से माफी मांगने के लिए कहा है। यही नहीं कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि आपको खतरा नहीं है बल्कि पूरे देश को आपके बयान से खतरा पैदा हो गया है।

यही नहीं कोर्ट ने कहा कि आज जो देश में हालात पैदा हो गए हैं, उदयपुर में जो घटना हुई है, उसके पीछे आपका बयान ही है। इसके चलते लोग उकसावे में आए हैं। सुप्रीम कोर्ट की सख्ती टिप्पणियों पर अब राजनीतिक दलों के भी रिएक्शन आने लगे हैं।

कांग्रेस की महिला नेता रेणुका चौधरी ने इस मामले में भाजपा की लीडरशिप को ही घेरा है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को ही कान पकड़कर माफी मांगनी चाहिए। रेणुका चौधरी ने कहा, ‘इस मामले में क्या भाजपा माफी नहीं मांगेगी। यह बुनियाद तो उसकी ओर से ही रखी गई है। भाजपा को देश के अल्पसंख्यकों से माफी मांगनी चाहिए।

उन्हें कान पकड़ने चाहिए, वरना आपके हालात भी ऐसे ही होंगे। भाजपा ने घूम फिरकर महिला को बलि का बकरा बना दिया है। क्या भाजपा में कोई मर्द नहीं है, जो आगे आकर माफी मांग ले। इन लोगों को तो चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए।’ 

रेणुका चौधरी ने कहा कि नूपुर शर्मा ने जो कहा, वह गलत है। क्या भाजपा जिम्मेदार नहीं है और उससे पल्ला झाड़ लिया गया है। कभी तो आप आगे बढ़कर सच स्वीकार करना सीख लो। मैंने सोचा कि भाजपा में मर्द हैं, लेकिन शायद कोई नहीं है।

रेणुका से पहले कांग्रेस के ही राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी ने भी भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘अब तो कम से कम देश से माफी मांग लें नूपुर शर्मा। सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी बात कही है कि दिल्ली पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं की है। इस पर अब भाजपा के सर्वोच्च नेतृत्व को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने अपनी प्रवक्ता के जरिए देश को आग में झोंकने का काम किया था।’

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here