सदर जमियत उलम ए हिंद के वफ्द ने ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर और डी सी पी नई दिल्ली रेंज से मुलाकात की।

मुल्क की राजधानी दिल्ली के कल्ब में वाकय जंतर मंतर पर मुसलमानों के खिलाफ खुले आम इश्तेआल अंग्रेजी की गई, यह ‘भारत बचाव अभियान रैली’ के मुजाहिरीन के एक गिरोह ने अंजाम दिया। जब इसका वीडियो मंजर ए आम पर आया तो मुल्क में बैचेनी फैल गई।

इस सिलसिले में आज जमियत उलमा ए हिंद के कौमी सदर मौलाना महमूद मदनी ने वजीर ए दाखिला हुकूमते हिंद अमित शाह और देहली कमिश्नर को खत इरसाल किया है। इस खत की एक कापी जमियत उलमा ए हिंद के जनरल सैक्रेटरी मौलाना हकीमुद्दीन कासमी की कयादत में एक वफ्द ने जंतर मंतर पर वाकय पुलिस कैम्प में पहुँचकर नई दिल्ली रेंज के ज्वाइंट कमिश्नर श्री जसपाल सिंह और डीसीपी श्री दीपक यादव से मुलाकात करके सौंपा।

मकतूब में कहा गया है कि वीडियो में खुले आम मुसलमानों के कत्ल ए आम की धमकी दी गई है। जो सोशल मीडिया पर बड़ी तेज़ी के साथ शाया किया जा रहा है। इससे मुल्क के अमन पसंद अफराद और मुस्लिम अकिलियत को सख्त तकलीफ़ पहुँची है, इसलिए यह ज़रूरी है कि ऐसे अनासिर के खिलाफ जल्द कारवाई अमल में लायी जाए और इन पर दो फिरको के माबीन नफ़रत फैलाने वाले दफात लगाए जाए। सदर जमियत उलमा ए हिंद ने अपने मकतूब में दिल्ली में फिरका वराना सूरत ए हाल पर तशवीश का इजहार किया है और 2020 के हालात दोबारा दोहराये जाने से खबरदार किया है। इसलिए पुलिस इंतिजामिया को चौकस किया जाए और जहरीले बयानात देने वाले गिरोह के सरगना को गिरफ्तार किया जाए। जमियत उलमा ए हिंद दिल्ली पुलिस कमिश्नर के इस बयान को तारीफ की निगाह से देखती है जिसमें उन्होने फिरका वराना आहेंगी को अपनी तरजीहात में सर फहरिस्त में रखा है, लेकिन महज बयान काफी नही है, बल्कि नफरत की जड़ को खत्म करने की ज़रुरत है जो मुल्क की राजधानी में ऐसी हरकते अंजाम दे रही है, इसकी वजह से बैन अल्कवामी सतह पर मुल्क बदनाम हो रहा है।

जंतर मंतर पर ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर और डीसीपी से मुलाकात के वक्त भी वफ्द ने इसी तरह के खयालात पर गुफ्तगू की और उम्मीद का इजहार किया कि पुलिस उन अनासिर को केफेकिरदार तक पहुँचाएगी, ज्वाइंट कमिश्नर ने वफ्द को यकीन दिलाया कि सख्त से सख्त कार्रवाई अमल में लायी जाएगी। अभी फिल वक्त इस वीडियो के सभी पहलू को जायजा लिया जा रहा है, नीज ऐसे अफराद पर FIR दर्ज कर ली गई है। जमियत के वफ्द में जनरल सैक्रेटरी मौलाना हकीमुद्दीन कासमी के अलावा मुबस्सिर कारकुन जमियत उलमा ए हिंद और मौलाना अजीमुल्लाह सिद्दीकी भी शामिल थे।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment