Maharashtra: कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भारतीय जनता पार्टी छोड़कर आने वाले नाना पटोले को महाराष्ट्र कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया है. साल 2014 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से लोकसभा का चुनाव लड़ा था. हालांकि साल 2019 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ा था और जीते भी थे. 

2019 के विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद उन्हें विधानसभा का स्पीकर नियुक्त किया गया था. गुरुवार को पटोले ने महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर पद से इस्तीफा दे दिया थे. इसके बाद से ही उनके महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए जाने के कयास लगाए जाने लगे थे. आज कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्होंने राज्य कांग्रेस समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया.

पटोले के अलावा शिवाजी राव मोगे, मो. आरिफ नसीम खान, बसवराज पाटिल, कुणाल रोहिदास पाटिल, कुमारी प्रणती सुशील कुमार शिंदे और चंद्रकांत हांडोरे को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया है. यानि कि कांग्रेस पार्टी ने राज्य के लिए एक अध्यक्ष और दस उपाध्यक्षों की नियुक्ति की है.

बता दें कि पटोले महाराष्ट्र में भंडारा जिले से चार बार विधायक रह चुके हैं. कांग्रेस के गढ़ रहे विदर्भ क्षेत्र का उन्हें एक आक्रामक नेता माना जाता है. पटोले के अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में महाराष्ट्र के राहत और पुनर्वास मंत्री विजय वादीतिवार तथा राज्यसभा सांसद राजीव सातव भी शामिल थे.

हालांकि सोनिया गांधी ने विदर्भ क्षेत्र से नया प्रदेश अध्यक्ष चुना. विदर्भ गैर-मराठी क्षेत्र है. पटोले कुणबी समुदाय से आते हैं, जो राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत आता है. साल 2019 के विधानसभा चुनावों में इस क्षेत्र के कई हिस्सों में कांग्रेस पार्टी को जमकर समर्थन मिला था. कांग्रेस पार्टी के इस इलाके से चार विधायक और एक सांसद हैं.

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पटोले ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था और एनसीपी के प्रफुल्ल पटेल को भंडारा-गोंदिया सीट से हराया था. साल 2017 में वह पीएम मोदी के खिलाफ बोलने वाले पहले भाजपा सांसद थे. इसके बाद उन्होंने भाजपा छोड़ दी थी और कांग्रेस में वापस आ गए थे.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *