दुबई. सऊदी अरब (Saudi Arabia) अपने राष्ट्रगान (National Anthem) और राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) में बदलाव करने की योजना बना रहा है. सऊदी अरब की सरकारी मीडिया के मुताबिक सोमवार को राज्य की गैर-निर्वाचित सलाहकार शूरा परिषद ने राष्ट्रगान और ध्वज में बदलाव के पक्ष में मतदान किया है.


हालांकि, परिषद के फैसलों का मौजूदा कानूनों या संरचनाओं पर कोई असर नहीं पड़ता है. लेकिन, इसका फैसला इसलिए महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि इसके सदस्य सऊदी अरब के शाह (किंग) द्वारा नियुक्त किए जाते हैं और उनके फैसले अक्सर देश के शीर्ष नेतृत्व के साथ तालमेल के साथ चलते हैं. शूरा परिषद ने इस संबंध में विस्तृत जानकारी नहीं दी है.

गौरतलब है कि सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान के नेतृत्व में देश में कई क्षेत्रों में नये बदलाव और सुधार किए जा रहे हैं. उन्हें इसके लिए अपने पिता शाह सलमान का पूरा समर्थन मिल रहा है.

शहजादा एक राष्ट्रीय-सांस्कृतिक पहचान के साथ इस्लाम को प्रतिस्थापित करते हुए सऊदी अरब की पहचान को फिर से परिभाषित करने का प्रयास कर रहे हैं, जो पूरी तरह से धर्म द्वारा परिभाषित नहीं है.

सऊदी का राष्ट्रीय गान क्या है?
सऊदी अरब का राष्ट्रगान ‘अन-नासीद अल-वतनी अस्-सऊदी’ है. इसे 1984 में इब्राहिम अल-खाफाजी द्वारा दिये गये बोल के साथ स्वीकार किया गया था. इसके वास्तविक संगीतकार अब्दुल रहमान अल-ख़तीब थे, जिन्होंने 1947 में इसकी रचना की थी. बाद में सेराज ओमर द्वारा इसका वाद्य यंत्र संस्करण प्रबन्धित किया गया था.

इसके बोल में देश के लिये महानता की इच्छा जाहिर की गयी है, झंडा फहराने की बात कही गयी है. भगवान (अल्लाह) का गुणगान किया गया है और उनसे सऊदी अरब के राजा के लिये दीर्घ आयु की मांग की गयी है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment