17.3 C
London
Monday, May 27, 2024

सरकार विरोधी विद्रोह में भाग लेने वाले युवक को सऊदी अरब ने दी फांसी

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

दुबई, संयुक्त अरब अमीरात (एपी) – सऊदी अरब ने मंगलवार को एक युवक को फांसी दे दी, जिसे अल्पसंख्यक शियाओं द्वारा सरकार विरोधी विद्रोह में उसकी कथित भागीदारी के आरोप में दोषी ठहराया गया था। एक प्रमुख अधिकार समूह ने कहा कि उसके खिलाफ पूरा ट्रायल हुआ और दोषी साबित होने के बाद ही फांसी पर लटकाया गया!

एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, यह स्पष्ट नहीं है कि 26 वर्षीय मुस्तफा बिन हाशिम बिन ईसा अल-दरविश को नाबालिग के रूप में किए गए अपराधों के लिए फांसी दी गई है या नहीं। अधिकार समूह ने कहा कि उन्हें 2011 और 2012 के बीच दंगों में कथित भागीदारी के लिए 2015 में हिरासत में लिया गया था। आधिकारिक चार्जशीट में उसके कथित अपराध होने की तारीखें नहीं बताई गई हैं, जिसका अर्थ है कि वह उस समय 17 वर्ष के हो सकते थे, या सिर्फ 18 वर्ष का हो सकता है।

हालाकि सऊदी अरब सरकार का कहना है कि अल-दरविश को 19 साल से अधिक उम्र के अपराधों के लिए दोषी ठहराया गया था और उसे फांसी पर चढ़ा दिया गया है, हालांकि उसके कथित अपराधों के लिए कोई विशेष तारीख नहीं दी गई है।

आपको बता दे की पिछले साल, सऊदी अरब ने नाबालिग के रूप में किए गए अपराधों के लिए लोगों को फांसी देने की अपनी प्रथा को रोक दिया था।

आंतरिक मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पुलिस अधिकारियों को मारने के लिए एक सशस्त्र आतंकवादी प्रकोष्ठ के गठन में भाग लेने और पुलिस अधिकारियों को मारने का प्रयास करने, पुलिस गश्ती पर गोली चलाने और पुलिस को निशाना बनाने के लिए पेट्रोल बोम्ब बनाने के लिए दोषी पाए जाने के बाद उसे फाँसी दी गई है .

अन्य आरोपों में यह आरोप भी शामिल थे कि अल-दरविश ने किंग के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह में भाग लिया और अराजकता और सांप्रदायिक संघर्ष को उकसाया। कथित रूप से अपराध पूर्वी प्रांत में हुए, जहां अधिकांश सऊदी तेल केंद्रित है और एक महत्वपूर्ण स्वदेशी शिया आबादी का इलाक़ा है। फांसी को प्रांत की प्रशासनिक राजधानी दमाम में अंजाम दिया गया।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here