राष्ट्रीय लोक दल (RLD) प्रमुख जयंत सिंह चौधरी (Jayant Singh) ने अपना सरनेम बदल कर चौधरी के स्थान पर बिश्नोई कर लिया है।

जयंत ने अपने सरनेम में बिश्नोई जोड़ने का फैसला अगले एक माह के लिए किया है। दरअसल उन्होंने ऐसा इसलिए किया है ताकि जाति और धर्म आधारित भेदभाव न हो। माना जा रहा है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद बिश्नोई समाज को टारगेट किया जा रहा और इसलिए उन्होंने ये फैसला लिया है। जयंत का तर्क है कि मीडिया इस मामले में शांतिप्रिय बिश्नोई समाज को बदनाम कर रहा है। 

जयंत चौधरी ने इसकी जानकारी देते हुए मंगलवार को ट्वीट कर कहा, क्या आप जानते हैं, मेरे नाम में चौधरी अजित सिंह जी की इच्छा अनुरूप कुमार भी है. माताजी के स्मृति में और शांतिप्रिय बिश्नोई समाज के सम्मान में जून माह के लिए ट्विटर पर नाम जोड़ा है। ऐसे वक्त जब धर्म और जाति पर आधारित बंटवारों पर चर्चा है, शायद कुछ लोगों के आंखों से पर्दे उठ जाएं!

राज्यसभा सांसद बनना तय माने जा रहे जयंत चौधरी के इस फैसले का बिश्नोई समाज ने भी स्वागत किया है। बिश्नोई समाज का जाना माना नाम मनोहर विश्नोई ने जयंत चौधरी को रीट्वीट कर कहा, सकारात्मक सोच, सराहनीय पहल।

गौरतलब पंजाबी गायक सिद्धू सिद्धू मूसेवाला की हत्या में लॉरेंस बिश्नोई गैंग का नाम सामने आ रहा है और सोशल मीडिया पर लोग पूरे बिश्नोई समाज को टारगेट कर रहे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि इन्ही सब घटनाक्रम को देखते हुए जयंत चौधरी ने सरनेम बिश्नोई रखने का फैसला किया है। 

उल्लेखनीय है कि मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या 29 मई को उनके गाँव के पास की गई थी। उनकी गाड़ी पर दो दर्जन से अधिक गोलियां बरसाई गई थीं और उनकी मृत्यु हो गई थी। घटना की जिम्मेदारी फेसबुक पोस्ट के माध्यम से गोल्डी बरार ने ली थी। मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सिद्धू मूसेवाला के घर पहुंच कर उनके परिवार से मुलाकात की और सिंगर की हत्या पर दुख जाहिर किया।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment