दिल्ली में बिजली सप्लाई करने वाली कंपनी टाटा पावर डीडीएल ने अपने उपभोक्ताओं को मैसेज कर गुजारिश की है कि वह संभाल कर बिजली खर्च करें। टाटा पावर ने यह मैसेज इसलिए किया है क्योंकि देश इस वक्त कोयले की कमी से जूझ रहा है जिसके चलते बिजली के उत्पादन में आने वाले दिनों में परेशानी होगी।

केजरीवाल ने लिखा प्रधानमंत्री को खत
वहीं अब दिल्ली सरकार ने भी राजधानी पर मंडरा रहे दिल्ली संकट के बारे में संज्ञान लिया है। कोयले की कमी को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख दिया है। केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से दखल की अपील की है।

केजरीवाल ने कहा कि, दिल्ली में बिजली संकट पैदा हो सकता है। मैं खुद पूरी स्थिति पर बारीकी से नजर बनाए हुए हूं। हम इस स्थिति से निपटने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं। इसी बीच मैंने प्रधानमंत्री को खत लिखकर इस मामले में दखल देने को कहा है।

सत्येंद्र जैन बोले- यह मानव निर्मित संकट जैसा लग रहा है
इस मामले पर ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि इसमें राजनीति की संभावना दिख रही है क्योंकि यह ऑक्सीजन संकट के समान ही मानव निर्मित संकट जैसा लग रहा है। हमारे पास हमारी आवश्यकता से 3.5 गुना अधिक उत्पादन क्षमता है, इसके बावजूद हम बिजली का उत्पादन करने में सक्षम नहीं हैं।

एक तरफ पर उत्पादक प्लांट अपनी पूरी क्षमता के अनुसार चल भी नहीं रहे हैं, तब भी कोयले की कमी हो रही है। पूरे देश में कोयले से चलने वाले पावर प्लांट में कोयले की बहुत कमी है। दिल्ली को जिन प्लांट से बिजली आती है उनमें केवल एक दिन का स्टॉक बचा है, कोयला बिल्कुल नहीं है। केंद्र सरकार से अपील है रेलवे वैगन का इस्तेमाल कर कोयला जल्द पहुंचाया जाए

ये हो सकती है परेशानी
बिजली के उत्पादन में रुकावट आने से बिजली की सप्लाई में भी दिक्कत आएगी जो अंततः उपभोक्ताओं को बिजली कटौती के रूप में झेलना होगा। ऐसे में टाटा पावर ने अपने ग्राहकों से संभालकर बिजली खर्च करने को कहा है ताकि कमी होने पर भी 24 घंटे आपूर्ति हो सके।

टाटा पावर मुख्यतः उत्तर पश्चिमी दिल्ली में बिजली सप्लाई करता है और इसी इलाके के ग्राहकों को यह मैसेज मिला है। टाटा पावर कोयले से उत्पादित होने वाली बिजली सप्लाई करता है और उसके पास अब सिर्फ दो दिनों का स्टॉक बचा है।

टीपीडीडीएल के सीईओ गणेश श्रीनिवासन ने जानकारी दी कि कोयले का स्टॉक कम होने के चलते दिल्ली को बिजली कटौती का सामना करना पड़ सकता है। दिल्ली और केंद्र दोनों सरकारों द्वारा उठाए जा रहे कदमों से राहत मिलने की पूरी उम्मीद है। हालांकि इस बारे में अभी दिल्ली सरकार का कोई पक्ष नहीं मिल सका है।

उपभोक्ताओं को मिला ये एसएमएस
शनिवार को भेजे गए एसएमएस में लिखा है कि, ‘चूंकि पूरे उत्तर भारत में कोयले का सीमित स्टॉक बचा है तो दोपहर दो बजे से 6.00 बजे तक बिजली की सप्लाई में परेशानी आ सकती है। कृपया संभाल कर बिजली खर्च करें। जिम्मेदार नागरिक बनें। असुविधा के लिए खेद है।’

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment