प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा पर सदन को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कृषि कानून को लेकर हो रहे आंदोलन से लेकर विपक्ष की ओर से की जा रही बयानबाजी तक हर बात का जवाब दिया। पीएम मोदी ने कहा कि आंदोलन करने वाले किसानों से सरकार की वार्ता जारी है।

पीएम मोदी ने कहा कि विपक्ष को लोकतंत्र समझने की जरूरत है। पीएम मोदी ने अपने भाषण में एक बार फिर से किसानों को यह आश्वासन दिया कि न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी खत्म नहीं होगी। उन्होंने किसानों से आंदोलन खत्म करने की भी अपील की।

गांव और शहर की खाई को अगर हमें पाटना है तो उसके लिए आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ना होगा: PM

श्रमजीवी, बुद्धजीवी  के बाद नई जमात सामने आई है आंदोलनजीवी। स्टूडेंट हो या कोई भी आंदोलन हो वहां शामिल हो जाते हैं। ये आंदोलनजीवी परजीवी होते हैं। जहां-जहां सरकार चलाते होंगे वहां यह नजर आते होंगे। नया एफडीआई आया है?नया एफडीआई यानी फारेन डिस्ट्रक्टिव एक्टिविटी। देश को इससे बचना होगा।

कुछ लोग हैं जो भारत को अस्थिर-अशांत देखना चाहते हैं। हमें नहीं भूलना चाहिए कि पंजाब के साथ क्या हुआ। आजादी मिली तो सबसे ज्यादा पंजाब को नुकसान हुआ। इसके पीछे कौन ताकतें हैं, हर सरकार ने इसको जाना है, परखा है और जांचा है। कुछ लोग हमारे सिख भाइयों के दिमाग में गलत चीजें भरने में लगे हैं। ये देश हर सिख भाई पर गर्व करता है। देश के लिए क्या कुछ नहीं किया उन्होंने। 

संसद में पीएम मोदी बोले- आंदोलनकारियों से सरकार की बात चल रही है। कोई तनाव पैदा नहीं हुआ है। आंदोलनकारियों को समझाते हुए हमें देश को आगे ले जाना होगा। एमएसपी है, एमएसपी था और एमएसपी रहेगा…मेहरबानी कर के भ्रम न फैलाएं।

कृषि कानूनों पर विपक्ष के विरोध की तुलना पीएम मोदी ने शादी में नाराज होने वाले रिश्तेदारों से की। उन्होंने कहा जब इतना बड़ा परिवार है तो यह सब लगा रहता है।  

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *