14.5 C
London
Thursday, May 23, 2024

लोगों ने चिड़चिड़ेपन और डिप्रेशन की शिकायत की, इंडोनेशिया ने घटा दी 70 हजार मस्जिदों के लाउडस्पीकर की आवाज

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

Indonesia Reduces Mosque’s Loudspeakers Volume: दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश इंडोनेशिया ने मस्जिदों के लाउडस्पीकर की आवाज घटा दी है. यहां 21 करोड़ मुसलमान रहते हैं. अजान की तेज आवाज से लोगों को तरह-तरह की दिक्कतें हो रही थीं, जिसके कारण देश की मस्जिद परिषद (Indonesian Mosque Council) ने उन्हें राहत दी है. इसके अध्यक्ष यूसुफ कल्ला ने बताया कि देश की 7.5 लाख मस्जिदों में से ज्यादातर का साउंड सिस्टम ठीक नहीं था. जिसके चलते अजान की आवाज जरूरत से ज्यादा तेज आती थी.

इस परेशानी के निपटारे के लिए 7 हजार टेक्नीशियंस को काम पर लगाया गया. जिसके चलते 70 हजार मस्जिदों के लाउडस्पीकर की आवाज कम हो गई है (jakarta loudspeaker volume). इस काम के लिए बकायदा एक कमिटी का गठन किया गया था. मस्जिद परिषद के समन्वयक अजीस ने अजान की तेज आवाज को इस्लामिक परंपरा से जोड़ा और कहा कि ऐसा इसलिए किया जाता है, ताकि आवाज दूर-दराज कर जाए. वहीं जकार्ता की अल-इकवान मस्जिद के चेयरमैन अहमद तौकीफ का कहना है कि आवाज कम करना बिल्कुल ठीक है.

ऑनलाइन शिकायतें कर रहे थे लोग

अजान की तेज आवाज को लेकर ऑनलाइन शिकायतें की जा रही थीं. लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. इंडोनेशिया में रहने वाली रीना (बदला हुआ नाम) का कहना है कि हर रात 3 बजेलाउडस्पीकर बजने के कारण उन्हें एंजायटी डिसॉर्डर हो गया (Mosque Loudspeakers in Indonesia). जिसके कारण वह ना तो ठीक से सो पाती थीं और ना ठीक से खाना खा पा रही थीं. लेकिन उन्हें डर था कि अगर वह शिकायत करेंगी तो उनपर हमला हो सकता है या उन्हें जेल में डाला जा सकता है.

वक्त से पहले बजने लगते थे लाउडस्पीकर

31 साल की रीना खुद भी मुस्लिम हैं. वह कहती हैं, ‘हर कोई शिकायत करने से डरता है. लाउडस्पीकर पर ना केवल अजान की जाती है बल्कि लोगों को अजान से 30-40 मिनट पहले उठने को भी कहा जाता है.’ लोगों का कहना है कि अजान की तेज आवाज से उनके मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा था (Mental Problems). उन्हें चिड़चिड़ापन, अनिद्रा और डिप्रेशन जैसी दिक्कतें हो रही थीं. काफी परेशानी होने के बावजूद भी लोग खुलकर कुछ नहीं कह पा रहे थे क्योंकि उन्हें डर था कि कहीं उनपर ईशनिंदा का आरोप ना लगा दिया जाए, जिसके तहत पांच साल की जेल की सजा मिलती है.

महीनों तक जेल में रही बौद्ध महिला

साल 2018 में एक बैद्ध महिला मैलियाना को जेल हो गई थी. उन्होंने केवल इतना कहा था कि अजान की तेज आवाज से उनके ‘कानों को परेशानी’ होती है. उन्हें करीब 18 महीने की जेल हुई थी. इसके अलावा भीड़ ने कई बौद्ध मंदिरों को आग के हवाले कर दिया था. मैलियाना चार बच्चों की मां हैं (Noise Pollution Azan). इंडोनेशिया से पहले जून महीने में सऊदी अरब के अधिकारियों ने ध्वनि प्रदूषण पर चिंताओं का हवाला देते हुए मस्जिदों को अपने बाहरी लाउडस्पीकरों की आवाज को उनकी अधिकतम क्षमता के एक तिहाई तक सीमित करने का आदेश दिया था. इसपर सरकार की खूब आलोचना की गई थी.

- Advertisement -spot_imgspot_img

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here