13.9 C
London
Wednesday, May 22, 2024

तुर्की को 100 साल पूरे होने के एक दिन पहले बोले “एर्दोगन”, एक सदी पहले “गाजा” हमारे देश का हिस्सा था

एर्दोगन ने कहा, "1947 में गाजा, फिलिस्तीन क्या था? आज क्या है? इज़राइल, आप यहां कैसे पहुंचे? आप कैसे घुसे? आप एक कब्जाधारी हैं

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने कहा है कि उनका देश दुनिया को यह बताने की तैयारी कर रहा है कि इज़राइल एक युद्ध अपराधी है, क्योंकि इस्तांबुल में “महान फ़िलिस्तीन रैली” में हज़ारों लोगों ने फ़िलिस्तीनियों के साथ एकजुटता दिखाई।

एर्दोगन ने शनिवार दोपहर अतातुर्क हवाईअड्डे पर रैली को संबोधित करते हुए कहा, “जैसा कि हम कल अपने गणतंत्र की 100वीं वर्षगांठ की खुशी पूरी दुनिया के सामने चिल्ला-चिल्लाकर सुनाएंगे, हम आज गाजा के लिए अपने दिल का दर्द बयां कर रहे हैं।”

हवाई अड्डे के दृश्यों में जीवन के विभिन्न क्षेत्रों के लोग तुर्की और फ़िलिस्तीनी झंडे लिए हुए दिखाई दे रहे थे, कुछ ने सिर पर पट्टी बाँध रखी थी जिस पर लिखा था, “हम सभी फ़िलिस्तीनी हैं,” “नरसंहार समाप्त करें, बच्चों को जीवित रहने दें” और “फ़िलिस्तीनी बच्चों की आवाज़ बनें”।”

एर्दोगन ने कहा, “1947 में गाजा, फिलिस्तीन क्या था? आज क्या है? इज़राइल, आप यहां कैसे पहुंचे? आप कैसे घुसे? आप एक कब्जाधारी हैं, आप एक संगठन हैं,” एर्दोगन ने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि तुर्किये अब पूरी दुनिया के सामने एक युद्ध अपराधी की तरह पेश करेगा।

उन्होंने जोर देकर कहा कि गाजा में एक वीभत्स नरसंहार किया जा रहा है, उन्होंने एक बार फिर पूछा कि युद्धविराम घोषित होने से पहले कितने निर्दोष बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों को मरना होगा।

इज़राइल के लिए पश्चिम के बिना शर्त समर्थन और गाजा में निर्दोष लोगों के नरसंहार को वैध बनाने के लिए मीडिया की लामबंदी की भी आलोचना करते हुए, एर्दोगन ने इसके विपरीत तुर्किये के साहसिक फिलिस्तीन समर्थक रुख पर जोर देते हुए कहा: “पश्चिम आपका (इज़राइल) क़र्ज़दार होगा, लेकिन तुर्किये नहीं है। इसीलिए हम बिना किसी झिझक के अपनी बात कहते हैं।”

उन्होंने कहा, “पश्चिम की पापों की किताब ने एक बार फिर अपनी सीमा लांघी है।” उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इजरायल पश्चिमी समर्थन के बिना इस तरह के अत्याचार नहीं कर सकता।

गाजा हमारा अभिन्न अंग था

रैली में ऐतिहासिक स्पीच के बाद तुर्किये के सदर एर्डोगन ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर पोस्ट किया की आज कुछ लोग गाजा को दूर की जगह कि तरह देखते है जिसका हमसे कोई लेना देना नहीं और यह बात वह खुलेआम कहते है ।

में उनसे कहना चाहता हूँ कि सिर्फ़ एक सदी पहले गाजा हमारे देश तुर्की के लिए वैसा ही था जैसा आज अदाना था .जैसे स्कोप्जे वही है जो एडिरने है, थेसालोनिकी वही है जो किर्कलारेली है, मोसुल वही है जो मार्डिन है, अलेप्पो वही है जो गाजियांटेप है, गाजा भी मातृभूमि का एक अविभाज्य हिस्सा था।

जब आप कानाक्कले शहीदों के कब्रिस्तान में जाएं, तो कब्रों पर लिखे नामों और शहरों पर एक अच्छी नज़र डालें।

वहां आप देखेंगे कि गाजा और स्कोप्जे बालिकेसिर और सान्लिउर्फा की तरह एक-दूसरे के बगल में स्थित हैं।

इतना कि कानाक्कले शहीदों की सूची में, गाजा आज अपने 53 शहीदों के साथ हमारी सीमाओं के अधिकांश शहरों से ऊपर है।

लेकिन उन्होंने हमें उन सभी ज़मीनों से अलग कर दिया जो हमारे खून, हमारे जीवन, हमारे प्यार जितनी ही हमारी हैं।

उन्होंने न केवल हमें शारीरिक रूप से अलग किया, बल्कि हमारे दिलो-दिमाग से भी निकालने के लिए हर तरह की चालें चलीं।

हमें उन काले दिनों से सीखे गए सबक को कभी नहीं भूलना चाहिए जब हमारे लाखों लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी और लाखों लोगों को अपना घर छोड़कर अनातोलिया में शरण लेनी पड़ी थी।

हमें आज इस महान फिलिस्तीन रैली को इस संकल्प के साथ छोड़ना होगा कि भविष्य में दूसरा गाजा नहीं बनने देंगे जैसा आज बन गया है।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img