नई दिल्ली: यूक्रेन की राजधानी में आज की रात कयामत की रात होगी. अब तक पूरी ताकत से हमला नहीं कर रही रूसी सेना को उसके सुप्रीम कमांडर से ‘तबाही’ का आदेश मिल चुका है. कभी नाजी जर्मनी को नाको चने चबवा देने वाली रूस की सेना अब हमलावर की भूमिका में है.

उसके सामने है कभी उसी का हिस्सा रहा यूक्रेन. दोनों ही देश कभी सुपर पॉवर रहे सोवियत रूस का ही हिस्सा रहे थे, लेकिन अब उनका अतीत उनके वर्तमान पर इस कदर हावी हो चुका है कि यूक्रेन अब तेजी से सिमट रहा है तो रूस अपनी ताकत का विस्तार करता दिख रहा है.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रूसी सेना को यूक्रेन पर चौतरफा हमले का आदेश दे दिया है. उन्होंने शुक्रवार को रूसी सेना से हमले की रफ्तार कम रखने को कहा था, लेकिन बातचीत का कोई नतीजा न निकलते देख अपनी सेना को पूरी ताकत से हमला करने का आदेश दे दिया है. रूस के सामने अब जोरदार हमले के अलावा कोई फौरी विकल्प नहीं बचा है, क्योंकि यूक्रेनी सेना तेजी से संगठित हो रही है और उसे इंटरनेशनल सप्लाई मिलने लगी है. जर्मनी, पोलैंड, फ्रांस समेत कई यूरोपीय देश खुलकर यूक्रेन के पक्ष में आ चुके हैं, भले ही उन्होंने अपनी सेना को यूक्रेन न भेजा हो, लेकिन हथियार, पॉवर सप्लाई और पूर्व सैनिकों का जमावड़ा अब यूक्रेन में तेज हो रहा है.

एएफपी ने रूसी रक्षा मंत्री के हवाले से बताया कि राष्ट्रपति ने सेना को नए आदेश दे दिये हैं और अब यूक्रेन की खैर नहीं.

स्पूतनिक ने भी ये खबर दी है. स्पूतनिक के मुताबिक, पुतिन को उम्मीद थी कि यूक्रेन उसके शुरुआती हमलों से बैकफुट पर आ जाएगा और बातचीत की टेबल पर सभी मुद्दे सुलझ जाएंगे. लेकिन कीव के साथ कोई समझौता न होते देख क्रेमलिन ने अब तबाही का आदेश दे दिया है. ये नया आदेश शनिवार की दोपहर में राष्ट्रपति ने दिया.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment