भारतीय स्टील कंपनी JSW Group ने एक बड़ा ऐलान किया है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों को ईवी वाहन खरीदने के लिए 3 लाख रुपये का प्रोत्साहन देने का फैसला किया है।

यह योजना पूरे भारत में JSW कर्मचारियों के लिए होगी। JSW ने देश भर में अपने कर्मचारियों के लिए हरित पहल योजना शुरू की है। इसमें कर्मचारियों को कार या दोपहिया वाहन खरीदने पर 3 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। कंपनी की नई नीति नए साल की जनवरी से प्रभावी होगी। कंपनी में काम करने वाले लोगों के लिए 3 लाख रुपये के प्रमोशन के अलावा, सभी JSW कार्यालयों और प्लांट स्थानों पर इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए मुफ्त चार्जिंग स्टेशन और ग्रीन जोन (पार्किंग स्लॉट)। वो भी बना लेंगे। कंपनी का कहना है कि देशभर में जहां भी शाखाएं या कार्यालय होंगे, वहां सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहनों का ही इस्तेमाल किया जाएगा।

जेएसडब्ल्यू समूह के अध्यक्ष सज्जन जिंदल ने कहा, “जैसा कि हमारे माननीय प्रधान मंत्री ने ग्लासगो सीओपी26 बैठक में घोषणा की थी, भारत 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन तक पहुंचने का प्रयास कर रहा है। जेएसडब्ल्यू समूह की नई ईवी रणनीति इलेक्ट्रिक को सक्षम करने के लिए एक अनूठी पहल है। वाहन अपनाने में वृद्धि। साथ ही, भारत में हरित गतिशीलता तक पहुंच को सुगम बनाने की आवश्यकता है। हम जिम्मेदारी से आगे बढ़ते रहेंगे। पीएम मोदी ने यूके के ग्लासगो में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर COP26 ग्लोबल ब्रेनस्टॉर्मिंग फोरम को बताया कि भारत दुनिया की आबादी का केवल 17 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करता है लेकिन वैश्विक कार्बन उत्सर्जन में केवल 5 प्रतिशत का योगदान देता है, भारत ने ईमानदारी से अपने वादों को निभाया है।

पेरिस में किए गए भारत के वादों के अलावा, प्रधान मंत्री ने घोषणा की थी कि 2030 तक, भारत अब गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों से 500 GW बिजली पैदा करेगा। इसके अलावा, यह 50 प्रतिशत ऊर्जा मिश्रित अक्षय ऊर्जा संसाधन उत्पन्न करेगा। ध्यान दें कि 2015 में, भारत ने 2030 तक 175 GW और फिर गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों से 450 GW का लक्ष्य रखा था। साथ ही, ऊर्जा मिश्रण में गैर-जीवाश्म ईंधन की हिस्सेदारी को 40 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य था।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment