संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर के पोते ने 17 जून को पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा द्वारा की गई विवादित टिप्पणी के खिलाफ मुंबई में बड़े आंदोलन की घोषणा की। दलित नेता प्रकाश आंबेडकर अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं, वंचित बहुजन अघाड़ी और विभिन्न मुस्लिम संगठनों के साथ आंदोलन का नेतृत्व करेंगे।

बता दें कि भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद पर टिप्पणी को लेकर विवाद के बीच देशभर के कई हिस्सों में आंदोलन शुरू हुआ है।

प्रकाश आंबेडकर की घोषणा के बाद मुंबई पुलिस किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए हाई अलर्ट पर है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वासे पाटिल ने कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने न पाए, इसके लिए पुलिस अलर्ट पर है।

जैसे ही पैगंबर की टिप्पणी विवाद गर्मा गया है, कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गए और पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागने पड़े। प्रदर्शनकारियों ने नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर रांची, प्रयागराज, सहारनपुर, लखनऊ, पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों और अन्य में सड़कों पर पथराव किया और वाहनों में आग लगा दी।

प्रकाश अंबेडकर से पूछा, “नूपुर शर्मा के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। पार्टी से निलंबित करना कोई सख्त कार्रवाई नहीं है। अगर कोई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कुछ भी कहता है, तो तुरंत सख्त कार्रवाई की जाती है। इस मामले में क्यों नहीं?” उन्होंने कहा, नूपुर शर्मा और उनका समर्थन करने वाले नेताओं के बयान से विदेशों में रह रहे भारतीयों की जान को खतरा है।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave a comment