13.1 C
Delhi
Sunday, January 29, 2023
No menu items!

अब वक्फ बोर्ड खुद के खोलेगा स्कूल-कॉलेज, मुस्लिम छात्राएँ पहन सकेंगी अपनी इच्छा से बुर्का-हिजाब

- Advertisement -
- Advertisement -

बैंगलुरु: कर्नाटक वक्फ बोर्ड ने राज्य में अपने खर्चे पर स्कूल और कॉलेज खोलने का ऐलान किया है। जी दरअसल यह नया मामला कर्नाटक हिजाब विवाद से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है।

सामने आने वाली रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज्य में ऐसे स्कूल और कॉलेज खोले जाएँगे जहाँ मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनने की इजाजत होगी। आपको बता दें कि कर्नाटक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष शफी सादी ने इस बारे में जानकारी दी है। उन्होंने कहा वक्फ बोर्ड सेल्फ फंडेड स्कूल-कॉलेज खोलने की योजना बना रहा है। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि इन स्कूल-कॉलेजों में हिजाब पहनने की पूरी आजादी होगी।

- Advertisement -

आपको बता दें कि जानकारी यह भी है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई दिसंबर महीने के अंत तक हिजाब वाले शिक्षण संस्थानों को खोले जाने की आधिकारिक घोषणा कर सकते हैं। जी दरअसल वक्फ बोर्ड ने ऐलान किया है कि मुस्लिमों की बढ़ती माँगों को देखते हुए शिक्षण संस्थान खोले जाएँगे। महिलाओं के लिए 10 कॉलेज खोलने की घोषणा की गई है। वहीं ऐसा भी कहा गया है कि वक्फ के शिक्षण संस्थान मंगलुरु, शिवमोग्गा, हासन, कोडागू, बीजापुर, हुबली और अन्य इलाकों में खोले जाएँगे। जी दरअसल शफी सादी ने कहा कि शिक्षण संस्थान बोर्ड या यूनिवर्सिटी के शिक्षा संबंधी नियमों का ही पालन करेंगे।

हालाँकि, वक्फ बोर्ड के शिक्षण संस्‍थान पूरी तरह से सेल्‍फ फंडेड होने की वजह से अपने नियम लागू करने के लिए स्वतंत्र होंगे। आपको बता दें कि कर्नाटक वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने कहा, ‘5 से 6 महीने पहले इसकी घोषणा की गई थी। वक्फ बोर्ड में इसके लिए 25 करोड़ रुपए आवंटित हैं। हमारे पास अपनी जमीनें हैं।’ वहीं शफी सादी ने सफाई दी कि इस फैसले का हिजाब विवाद से कोई लेना-देना नहीं है। उनके मुताबिक, ये फैसला पहले ही ले लिया गया था। हालाँकि दक्षिणपंथी संगठनों ने वक्फ बोर्ड के इस फैसले का विरोध शुरू कर दिया है।

हिन्दू नेताओं का कहना है कि सरकार को इस तरह के फैसले का समर्थन नहीं करना चाहिए। केवल यही नहीं बल्कि उनका कहना है कि समुदाय विशेष के लिए अलग से शिक्षण संस्थान खोले जाने की कोई आवश्यकता नहीं है। सामने आने वाली रिपोर्ट्स के मुताबिक, संगठनों के नेताओं ने खोले जा रहे इन संस्थानों को ‘शरिया स्कूल’ का नाम दिया है और कहा है कि यह देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा बन सकते हैं। आप सभी को यह भी जानकारी दे दें कि कर्नाटक में स्कूल-कॉलेजों में हिजाब पहनने को लेकर काफी विवाद हुआ था।

जी दरसल इसी साल की शुरुआत में उडुपी के एक कॉलेज में कुछ मुस्लिम छात्राएँ जबरन हिजाब पहनकर क्लास में दाखिल होने की कोशिश करने लगीं। जिन्हें इसकी अनुमति नहीं दी गई थी। जी दरअसल, हिजाब कॉलेज ड्रेस कोड का हिस्सा नहीं है और इसके बाद भी मुस्लिम समुदाय की तरफ से इसका विरोध किया गया। वहीं देखते ही देखते यह राष्ट्रीय बहस का मुद्दा बन गया कि शिक्षा संस्थानों में हिजाब पहनना सही है या नहीं – ये मामला हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट के बड़े बेंच तक पहुँच चुका है।

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -spot_img