6.4 C
London
Tuesday, April 23, 2024

‘नए भारत’ में मदरसों की जरूरत नहीं, असम के मुख्यमंत्री हिमंत सरमा

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा है कि वह अपने राज्य में सभी मदरसों को बंद करने का इरादा रखते हैं.

पिछले गुरुवार को कर्नाटक के बेलगावी में छत्रपति शिवाजी पर आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हिमंत ने यह बात कही.

उन्होंने अपने भाषण में कहा, “नए भारत में मदरसों की कोई आवश्यकता नहीं है. हमें मदरसों की ज़रूरत नहीं है. हमें नए भारत में डॉक्टर, इंजीनियर बनाने के लिए स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी की जरूरत है.’

उन्होंने कहा,‘’ हमें भारत की शिक्षा व्यवस्था में परिवर्तन करना है. हमारे इतिहास को जो तोड़ा-मरोड़ा गया है अभी उस इतिहास को नए सिरे से लिखने का समय आ गया है.हमारा जो नया इतिहास होगा वो आक्रमणकारियों का इतिहास नहीं होगा वो इतिहास हमारे भारत के विजय वीरों का इतिहास होगा.”

असम में बीजेपी सरकार ने साल 2021 में करीब 600 सरकार द्वारा संचालित मदरसों को बंद कर दिया था.हालांकि सामाजिक संगठन और अन्य ग़ैर सरकारी संगठनों द्वारा चलाए जा रहे प्राइवेट मदरसे अब भी चल रहे हैं..

असम में इस समय करीब 800 प्राइवेट मदरसे चल रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा “मैं असम से आता हूं, जो हर दिन बांग्लादेश से घुसपैठ के खतरे का सामना करता है. जो हमारी संस्कृति और परंपराओं को खतरा है.”

हालांकि चुनावी राज्य कर्नाटक में मुख्यमंत्री हिमंत द्वारा दिए गए इस भाषण को राजनीति के कुछ जानकार ध्रुवीकरण करने के प्रयास से जोड़ कर देख रहें है.

By Ahsan Ali

- Advertisement -spot_imgspot_img
Ahsan Ali
Ahsan Ali
Journalist, Media Person Editor-in-Chief Of Reportlook full time journalism.

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img