कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के कारण मास्क (Face Mask) पहनना सबसे जरूरी चीज है जिससे कोरोना को फैलने से रोका जा सकता है. यूं तो कई लोग कोरोना नियमों का पालन कर मास्क पहनते हैं मगर कुछ लोग लापरवाही कर जा रहे हैं और मास्क नहीं पहन रहे. कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके किसी प्रकार की कोई शारीरिक समस्या है जिसके चलते वो मास्क नहीं पहन सकते.

ऐसा ही हाल इंग्लैंड (England) की एक महिला का है जिसने अपनी समस्या के कारण मास्क नहीं लगाया मगर मास्क ना लगाने की उसे इतनी बड़ी सजा मिली कि उसे अपमानित होना पड़ा.

ये घटना इसी साल 25 फरवरी की है जब इंग्लैंड में मास्क पहनना अनिवार्य था. इंग्लैंड के ससेक्स (Sussex) में रहने वाली जुलिएट जॉन्सन (Juliet Johnson) वेटरोज सुपरमार्केट में शॉपिंग करने गई थीं. उन्होंने मास्क नहीं पहना था. उन्होंने बताया कि जब वो सुपरमार्केट में शॉपिंग कर रही थीं तभी वहां का सिक्योरिटी गार्ड उन्हें मास्क पहनने के लिए बोलने आया.

महिला ने उसे बताया कि उन्हें स्वास्थ्य से जुड़ी कोई गंभीर समस्या है जिसके कारण उन्हें मास्क पहनने से छूट मिली हुई है. अपने इस दावे का सबूत देने के लिए उन्होंने गार्ड को कुछ पेपर दिखाए जो डॉक्टरों के थे. गार्ड के जाने के बाद दुकान का मैनेजर भी उन्हें टोकने आया तो उन्होंने उसे भी यही बात बता दी. इसके बाद मैनेजर ने तुरंत पुलिस को बुला लिया.

जब पुलिस वहां पहुंची तो महिला ने उन्हें भी सारी बात बता दी मगर वो उसकी एक नहीं माने और उसे हथकड़ी लगाकर पुलिस स्टेशन लेते गए. वहां मौजूद महिला पुलिसकर्मियों ने उसके साथ काफी जोर-जबरदस्ती की और उससे कहा कि वो अपने सारे कपड़े उतारे (Police made woman strip clothes) क्योंकि उसे चेकिंग करती है और फिर वो जेल के कपड़े पहने.

पीड़ित महिला को समझ नहीं आया कि वो ऐसे में क्या करे मगर पुलिसकर्मियों के गुस्साए चेहरे देखकर उसने सारे कपड़े उतार दिये. महिला को कुछ घंटे तक पुलिस ने हिरासत में रखा और फिर उसे जाने दिया. मगर इस घटना के बाद से ही महिला पुलिस से बदला लेने पर उतारू है. उसने ससेक्स पुलिस (Susex Police) पर केस दर्ज कर दिया है और उन पर अपनी शक्तियों का गलत फायदा उठाने का आरोप लगाया है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment