1 C
London
Sunday, March 3, 2024

नए कोरोना वेरिएंट ने दी दस्तक, वैज्ञानिकों का दावा 3 संक्रमितों में से एक कि होगी मौत

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

दुनियाभर में कोरोना का कहर जारी है. कोरोना वायरस के लगातार सामने आने वाले नए वेरिएंट सभी के लिए चिंता का कारण बन रहे हैं. इस बीच चीन के वुहान शहर के वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एक नया कोरोना वायरस ‘NeoCov’ दुनिया में दस्‍तक दे चुका है. कोरोना का यह नया वेरिएंट बेहद की खतरनाक माना जा रहा है. वज्ञानिकों का कहना है कि यह नया वेरिएंट बहुत ही ज्‍यादा संक्रामक है और इससे संक्रमित प्रत्‍येक 3 में से 1 मरीज की मौत हो सकती है. कोरोना का यह नया कोरोना दक्ष‍िण अफ्रीका में मिला है.

रूस की न्यूज एजेंसी के अनुसार, कोरोना वायरस का यह नया वेरिएंट बेहद संक्रामक है और इसकी मृत्यु दर भी काफी ज्यादा है. रिपोर्ट के मुताबिक NeoCov वायरस नया नहीं है. सबसे पहले साल 2012 और 2015 में पश्चिम एशिया के देशों में इसके प्रकोप का पता चला था. यह SARS-CoV-2 की तरह है जिससे इंसानों में कोरोना वायरस का संक्रमण होता है. राहत की बात यह है कि दक्षिण अफ्रीका में अभी यह NeoCoV वायरस चमगादड़ के अंदर देखा गया है और यह अभी केवल पशुओं में ही देखा गया है.

बायोरेक्सिव वेबसाइट पर प्रीप्रिंट के रूप में प्रकाशित एक नए अध्ययन से पता चला है कि NeoCoV और इसके सहयोगी PDF-2180-CoV मनुष्यों को संक्रमित कर सकते हैं. वुहान यूनिवर्सिटी और चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंसेज के शोधकर्ताओं के मुताबिक, इस नए कोरोना वायरस को इंसानों की कोशिकाओं को संक्रमित करने के लिए सिर्फ एक म्यूटेशन की जरूरत होती है.

स्टडी में कहा गया है कि इससे मौत का ख़तरा बहुत अधिक है. स्टडी के मुताबिक़ NeoCoV वायरस में MERS की तरह से ही बहुत ज्‍यादा मरीजों की मौतें हो सकती हैं. चिंता के अधिक बात यह है कि मौत का यह आंकड़ा बेहद चिंताजानक हैं. इससे प्रत्‍येक 3 में से 1 मरीज की मौत हो सकती है.

बता दें कि पूरी दुनिया अभी कोरोना का ओमिक्रॉन और इसके सब-वैरिएंट BA.2 का सामना कर रही है. भारत समेत कई देशों में BA.2 के मामले सामने आ रहे हैं. BA.2 वेरिएंट के बाद अब ‘NeoCov’ से चिंता बढ़ गई है.

- Advertisement -spot_imgspot_img
Jamil Khan
Jamil Khan
जमील ख़ान एक स्वतंत्र पत्रकार है जो ज़्यादातर मुस्लिम मुद्दों पर अपने लेख प्रकाशित करते है. मुख्य धारा की मीडिया में चलाये जा रहे मुस्लिम विरोधी मानसिकता को जवाब देने के लिए उन्होंने 2017 में रिपोर्टलूक न्यूज़ कंपनी की स्थापना कि थी। नीचे दिये गये सोशल मीडिया आइकॉन पर क्लिक कर आप उन्हें फॉलो कर सकते है और संपर्क साध सकते है

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here