नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली के सदर बाजार की एक महिला का वीडियो, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसमें महिला, तीन हिंदू युवकों पर बुर्का खींचने और जबरन जय श्रीराम बुलवाने का इल्जाम लगा रही थी।

दिल्ली पुलिस ने जब मामले की पड़ताल की, तो महिला के सभी आरोप झूठे निकले। पता चला कि महिला का आरोपितों के साथ बहुत समय से किराएदारी को लेकर विवाद चल रहा है। जब उससे मकान खाली करने के लिए कहा गया तो उसने इस विवाद को सांप्रदायिक रंग दे दिया।

मामले में 12 अप्रैल 2022 (मंगलवार) को शिकायत की गई थी। महिला ने दावा किया कि उसके साथ यह घटना 11-12 अप्रैल की दरम्यानी रात हुई थी। जाँच में आरोप झूठे पाए जाने के बाद पुलिस ने मामले को सांप्रदायिक रंग देने वालों को चेतावनी भी दी है। वायरल वीडियो में बुर्का पहने एक महिला नज़र आ रही है, जिसका नाम शाहीन है। महिला कह रही है कि, ‘रात के 2 बजे मैं अपनी माँ को देखकर अपने घर आ रही थी। मेरा भाई 4 कदम पीछे था, जो मुझे छोड़ने के लिए साथ आ रहा था। इसी बीच मेरे पड़ोस के 3 शरारती लड़कों ने जिसमें एक राहुल है, उसने मेरे बुर्के के आस्तीन को खींचा। उन्होंने कहा कि हम मुस्लिम औरतों का बुर्का उतरवाएँगे। मेरे भाई ने मुझे बचाने का प्रयास किया, तो उससे भी जय श्रीराम बोलने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि हम मुसलमानों को रहने नहीं देंगे।’

लेकिन, दिल्ली पुलिस ने शाहीन के आरोपों की पोल खोल दी। उत्तरी दिल्ली के DCP सागर सिंह कलसी ने बताया कि, ’12 अप्रैल 2022 को दिल्ली के थाना सदर बाजार में सुबह-सुबह एक झगड़े को लेकर फोन आया था। कॉल करने वाली महिला ने कहा कि कुछ लड़कों ने उसके साथ झगड़ा किया है। पुलिस फ़ौरन मौके पर पहुँची और जाँच की। जाँच के बाद पता चला कि सभी लोग एक-दूसरे को जानते हैं। इनका किराएदारी का विवाद भी अदालत में चल रहा है।’ पुलिस अफसर ने बताया कि यह बात जानकारी में है कि सोशल मीडिया पर कुछ लोग इस मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं। ये बात निराधार है। ऐसे किसी भी सन्देश को फैलाना अपराध माना जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आरोप लगाने वाली शाहीन ने भी पुलिस के सामने अपना बयान बदल लिया है। आरोपित किए गए तीनों लड़के मकान मालिक बताए जा रहे हैं, जो किराएदार शाहीन से अपना घर खाली करवाना चाहते थे। इसी बात को लेकर देर रात कहासुनी हुई थी। घटना के वक़्त तीनों लड़के शराब के नशे में बताए जा रहे हैं।

इस मामले को सबसे पहले फरहान ने हिंदुस्तान लाइव नाम के फेसबुक पेज पर साझा किया। उसने वीडियो का शीर्षक दिया, ‘बुर्के में भाई के साथ जा रही महिला से बदसलूकी। जबरन जय श्री राम के नारे लगवाने का भाई-बहन का दावा। थाना सदर में दी गई शिकायत। एक लड़के को पुलिस ने पकड़ा। 2 गिरफ्त से बाहर।’ हालांकि, दिल्ली पुलिस की चेतावनी के बाद फरहान ने फेसबुक पोस्ट डिलीट कर ली। मगर तब तक यह वायरल हो चुकी थी। इसी प्रकार शादाब नामक एक अन्य शख्स ने अपने यूट्यूब चैनल ‘द शादाब वर्ल्ड न्यूज़’ पर 13 अप्रैल को इसी मामले को साम्प्रदायिक रंग देकर साझा किया था।

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

journalist | chief of editor and founder at reportlook media network

Leave a comment