सिद्धू मूसेवाला और कंवर ग्रेवाल के गानों पर लगे प्रतिबंध के खिलाफ मुखर हुआ अकाली दल, 15 जुलाई को पंजाब में ट्रैक्टर मार्च 

मनोरंजनसिद्धू मूसेवाला और कंवर ग्रेवाल के गानों पर लगे प्रतिबंध के खिलाफ मुखर हुआ अकाली दल, 15 जुलाई को पंजाब में ट्रैक्टर मार्च 

पंजाब की राजनीति (Punjab Politics) एक बार फिर गरमा गई है. इस बार सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moosewala) और कंवर ग्रेवाल के गानों पर लगे प्रतिबंध के बाद पंजाब की राजनीति गरमाती हुई नजर आ रही है. सिद्धू मूसेवाला और कंवर ग्रेवाल के गानों पर यूट्यूब की तरफ से लगाए प्रतिबंध के खिलाफ शिराेमणि अकाली दल की युवा ईकाई युवा अकाली दल मुखर होती हुई दिखाई दे रही है. इसी कड़ी में युवा अकाली दल ने दोनों के गानों पर लगे प्रतिबंध के निकाला ट्रैक्टर मार्च निकालने की घोषणा की है. ट्रैक्टर मार्च के लिए युवा अकाली दल ने 15 जुलाई का दिन तय किया है. घोषणा के मुताबिक 15 जुलाई को पंजाब के सभी जिलों में युवा अकाली दल ट्रैक्टर मार्च निकालेगी, इस दौरान प्रतिबंंधत गानों को बजाया जाएगा.

मूसेवाला के SYL और कंवर ग्रेवाल के रिहाई गाने पर लगा है प्रतिबंध

केंद्र सरकार की शिकायत के बाद बीते दिनों YouTube ने सिद्धू मूसेवाला और कंवर ग्रेवाल के गानों को अपने प्लेटफार्म से हटा दिया है. असल में 8 जुलाई को YouTube ने ग्रेवाल के गाने रिहाई को हटा दिया था. इस गाने में ग्रेवाल ने सिख कैदियों की रिहाई का आह्वान किया था. इस वीडियो को 2 जुलाई को अपलोड किया गया था, जिसे 8 जुलाई तक लगभग सात लाख बार देखा गया था. वहीं YouTube ने मूसेवाला के SYL को भी अपने प्लेटफार्म से हटा दिया है. SYL गाना पंजाब में कई विवादास्पद मुद्दों पर आधारित है, जिसमें सतलुज-यमुना लिंक (एसवाईएल) मुद्दा और 1984 के सिख विरोधी दंगा शामिल थे. इस गाने को पिछले महीने 27 मिलियन व्यूज मिलने के बाद प्रतिबंधित कर दिया गया था.

युवा अकाली दल ने कहा, आवाज दबाने की कोशिश

युवा अकाली दल के अध्यक्ष परमबंस सिंह रोमाना ने ट्विटर पर कहा कि अकाली दल दिवंगत सिद्धू मूसेवाला के गाने ‘SYL’ और कंवर ग्रेवाल के ‘रिहाई’ पर प्रतिबंध को केंद्र की आवाज और पंजाबियों की भावना को दबाने के प्रयास के रूप में देखता है. उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल की युवा शाखा युवा अकाली दल गुरुवार को इसके खिलाफ एक ट्रैक्टर मार्च निकालेगी. जिसमें इन दोनों पंजाबी गीतों पर लगाए गए केंद्र के प्रतिबंध का विरोध किया जाएगा. रोमाना ने कहा कि इस प्रतिबंध के विरोध में और इसकी अवहेलना करते हुए युवा अकाद दल 15 तारीख को सभी जिलों में इन गीतों को बजाते हुए एक ट्रैक्टर मार्च निकालेगा.

अकाली दल ने भी जताया विरोध

युवा अकाली दल के साथ ही शिरोमणि अकाली दल ने भी गानों पर प्रतिबंध लगाए जाने के फैसले का विरोध किया है. अकाली दल ने पहले दोनों गानों पर लगाए गए प्रतिबंध की आलोचना करते हुए कहा था कि इस तरह के प्रतिबंध स्वस्थ लोकतंत्र के हित में नहीं हैं. वहीं मंगलवार को अकाली दल कोर कमेटी ने कहा कि दोनों गानों में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है. अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल के नेतृत्व में संपन्न हुई कोर कमेटी बैठक में कहा गया कि जिस तरह से लोगों की भावनाओं को व्यक्त करने वाले गीतों पर प्रतिबंध लगाकर भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का गला घोंटा जा रहा था, वह गंभीर चिंतनीय है. कमेटी ने कहा कि दिवंगत सिद्धू मूसेवाला द्वारा गाए गए SYL गीत या कंवर ग्रेवाल द्वारा गाए गए रिहाई गीत में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं था.

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles