कोरोना के नियमों (COVID-19 Rules) का उल्लंघन करने पर बिहार (Bihar) के व्यक्ति पर बहरीन (Bahrain) में करीब 10 लाख रुपये का जुर्माना और तीन साल के लिए जेल हो गई है. हैदाराबाद (Hyderabad) के रहने वाले एक व्यक्ति ने दावा किया है कि उसके भाई जो बिहार का रहने वाला है उसे बहरीन में 3 साल के लिए जेल भेज दिया गया है. अब उस शख्स ने अपने भाई को रिहा करवाने के लिए विदेश मंत्रालय (foreign Ministry) से गुहार लगाई है.

हैदाराबाद में रह रहे हुसैन अहमद जो बिहार के रहने वाले हैं, उनका कहना है कि उनका छोटा भाई मोहम्मद खालिद पिछले 8 सालों से बहरीन में इलेक्ट्रिशियन का काम करता है, पिछले साल अपने परिवार से मिलने मार्च महीने में बिहार के मधुबनी जिले में स्थित अपने गांव आया था, फिर कुछ दिनों बाद वापस चला गया.

भाई होम क्वारेनटाईन था

हुसैन अहमद का कहना है कि मोहम्मद खालिद को बहरीन में 18 मई को कोरोना हो गया था, कुछ दिन अंदालुस होटल में रखा गया था, फिर तबियत बिगड़ने पर कुछ दिन स्लमानिया अस्पताल में रखा गया. ठीक हो जाने पर 31 मई छुट्टी दे दी गई. उसके बाद बहरीन के कोविड के कड़े नियमों के अनुसार हाथ की कलाई में इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकर लगाकर 17 दिनों तक होम क्वारेनटाईन रहने के लिए कहा गया था. वह अपने कमरे में होम क्वारेनटाईन में था.

कलाई पर ट्रैकर देखकर किसी ने कर दी वायरल

हुसैन अहमद ने दावा किया कि जून 7 तारीख को खालिद को कोई खाना पहुंचाने वाला नहीं मिला तो घर से कुछ ही दूरी पर खाना लाने गया था, कि किसी ने उसके कलाई पर इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकर देख कर खालिद का वीडियो बना कर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया. हुसैन अहमद ने दावा किया कि वीडियो वायरल होते ही पुलिस तक पहुंच गई. जिसके बाद उसी दिन खालिद को गिरफ्तार कर लिया गया, कोविड टेस्ट किया गया जिसमें नेगेटिव रिपोर्ट आई, फिर भी कोर्ट ने कोविड के नियमों का उल्लंघन करने के जुर्म में तीन साल जेल की सजा और 5000 बहरीन दिन्नार (9 लाख 72 हजार रुपये) जुर्माना थोप दिया.

जिसके बाद भाई के जेल में होने की खबर मिलते ही बिहार में रह रही मां, उसकी पत्नी और बच्चे का रो रो कर बुरा हाल है. हैदाराबाद के हुसैन अहमद ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर मदद की मांग की है.

बहरीन में भारत के दूतावास ने मांगी खालिद की जानकारी

ट्विटर यूजर अमजद उल्लाह खान ने विदेश मंत्री जयशंकर को टैग करते हुए लिखा, ‘बिहार के मोहम्मद खालिद कोरोना संक्रमित होने पर बहरीन में 15 दिनों तक क्वॉरंटीन रहे. 15 दिन पूरे होने के बाद वह खाना खरीदने के लिए अपनी बिल्डिंग के नीचे उतरे. तभी एक स्थानीय निवासी ने उनके हाथ पर इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकर देखा और उसने इसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर सर्कुलेट कर दिया. पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया और सितरा कैंप ले गई जहां उनकी कोरोना जांच निगेटिव आई.

सितरा कैंप में उनका ट्रैकर हटा दिया गया और क्लीन चिट दे दी गई. इसके बाद भी खालिद को गिरफ्तार किया गया और कोर्ट में पेश किया गया. कोर्ट ने खालिद को तीन साल की जेल की सजा सुनाई और उनपर 5000 बहरीनी दिनार का जुर्माना भी लगाया.’

वहीं बहरीन में भारत के दूतावास ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से शख्स के इस ट्वीट पर संज्ञान लिया और मोहम्मद खालिद की जानकारी भी मांगी है.

Share this article

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या  ट्विटर पर फॉलो करें.

The world is about to receive just the news it needs. My team and I believe that journalism can change the world and we are on a mission to ensure that this happens.

Leave a comment